मुलाकात / ऑपरेशन ब्लू स्टार की सच्चाई से पर्दा उठाने की मांग के लिए गृह मंत्री से मिले सुखबीर बादल



केंद्रीय गृह मंत्री और शिअद प्रधान सुखबीर बादल खास मुलाकात के दौरान। केंद्रीय गृह मंत्री और शिअद प्रधान सुखबीर बादल खास मुलाकात के दौरान।
SAD president Sukhbir Badal meets union Home Minister Amit Shah at Delhi
X
केंद्रीय गृह मंत्री और शिअद प्रधान सुखबीर बादल खास मुलाकात के दौरान।केंद्रीय गृह मंत्री और शिअद प्रधान सुखबीर बादल खास मुलाकात के दौरान।
SAD president Sukhbir Badal meets union Home Minister Amit Shah at Delhi

  • ऑपरेशन ब्लू स्टार की 15वीं बरसी पर अमृतसर में आयोजित कार्यक्रम में पंथक नेताओं को खली बादल परिवार की अनुपस्थति
  • सभी ने ठहराया इस कार्रवाई के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री और कांग्रेस को जिम्मेदार, दिल्ली पहुंचे शिअद अध्यक्ष सुखबीर बादल
  • ऑपरेशन ब्लू स्टार की जांच के अलावा पाकिस्तान के ननकाना साहिब तक नगर कीर्तन के लिए मांगी अनुमति

Jun 06, 2019, 06:07 PM IST

जालंधर. शिरोमणि अकाली दल के प्रधान व पंजाब के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुखबीर बादल गुरुवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मिलने दिल्ली पहुंचे। वहां सुखबीर ने ऑपरेशन ब्लू स्टार की हकीकत से पर्दा उठाने की मांग की है और इसके लिए उन्होंने शाह को एक ज्ञापन भी सौंपा। ज्ञापन में सुखबीर बादल ने गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के कार्यक्रमों का जिक्र करते हुए कहा, हम इस उत्सव से पूरी तरह से संतुष्ट हैं, लेकिन इसमें एक अतिरिक्त कार्यक्रम जोड़ना चाहते हैं कि इस मौके पर भारत से पाकिस्तान में स्थित श्री ननकाना साहिब तक ऐतिहासिक नगर कीर्तन निकालने की अनुमति दी जाए। अनुरोध है कि केंद्र सरकार जल्द ही नगर कीर्तन की इस योजना को सिर चढ़ाने के लिए पाकिस्तान की सरकार से बात करे।

 

गुरुवार को ऑपरेशन ब्लू स्टार की 35वीं बरसी पर अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह व अन्य पंथक नेताओं ने स्वर्ण मंदिर पर हमले की घटना को गलत ठहराते हुए इसकी सच्चाई से पर्दा उठाए जाने की मांग की। उनका आरोप है कि सैन्य कार्रवाई के दौरान यहां से लूटी गई संपत्ति का ब्यौरा भी आज तक सांझा नहीं किया गया। इसी बीच आज यहां जिस वक्त ज्ञानी हरप्रीत सिंह ऑपरेशन ब्लू स्टार में मारे गए लोगों के परिवारों को सम्मानित कर रहे थे, ठीक उसी वक्त कुछ गर्म ख्याली सिखों के विरोध के चलते तनाव का माहौल पैदा हो गया। एसजीपीसी की टास्क फोर्स और खालिस्तान समर्थकों में झड़प के दौरान दोनों तरफ से तलवारें व कृपाणें लहराई गई। इस दौरान कई सिख नेताओं द्वारा बादल परिवार के यहां होने की जरूरत पर बल दिया गया, वहीं दूसरी ओर सुखबीर बादल इसी मसले को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने दिल्ली पहुंचे हुए थे।

 

अभी तक की तमाम जानकारी के मुताबिक 1980-90 के दशक में पंजाब में आतंकवाद अपने पांव पसार रहा था और उसकी अगुवाई करने का आरोप जरनैल सिंह भिंडरावाला पर लगा। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की सरकार ने आतंकवाद को खत्म करने के लिए फैसला किया और इसी फैसले के तहत 3 से 6 जून 1984 को भारतीय सेना द्वारा एक अभियान चलाया गया, इसे ऑपरेशन ब्लू स्टार का नाम दिया गया था। ऑपरेशन ब्लू स्टार में अमृतसर स्थित हरिमंदिर साहिब परिसर पर देश की फौज टैंक लेकर टूट पड़ी थी। तीन दिन तक चली कार्रवाई में जहां जरनैल सिंह भिंडरावाला की मौत हो गई, वहीं स्वर्ण मंदिर में विभिन्न वर्गों से संबंधित 492 लोगों की जान चली गई थीं। साथ ही सेना के चार अधिकारियों समेत 83 जवान शहीद हो गए थे। इसके ठीक पांच महीने बाद 31 अक्टूबर 1984 को इंदिरा गांधी अपने ही सुरक्षा दस्ते का ही शिकार हो गईं थी। सुखबीर बादल ने इस मसले की सच्चाई सामने लाने के लिए उच्च स्तर की जांच की मांग की।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना