मीटर जंप के कारण दस गुणा ज्यादा बिल, पावरकॉम दफ्तर में लगाने पड़ रहे चक्कर

Jalandhar News - मीटर जंप के कारण बिजली उपभाेक्ताअाें काे परेशानी झेलनी पड़ रही है। कई एेसे कंज्यूमर हैं जिनका एवरेज बिल 5-6 हजार...

Nov 11, 2019, 08:00 AM IST
मीटर जंप के कारण बिजली उपभाेक्ताअाें काे परेशानी झेलनी पड़ रही है। कई एेसे कंज्यूमर हैं जिनका एवरेज बिल 5-6 हजार रुपए अाता था पर अब दस गुणा ज्यादा अाने लगा है। एेसे उपभाेक्ता अब दफ्तराें के चक्कर लगा रहे हैं।

मीटर जंप क्यों हो रहे हैं, इसका जवाब नहीं मिल रहा। जिस उपभोक्ता के दो महीने में 500 के करीब यूनिट चलते थे वे एक दम से 2000 हजार हो गए और उपभोक्ताओं को मोटी रकम लगाकर बिल दिए गए। जब उपभोक्ता मीटर जंप के बारे में कर्मचारियों से बात करता है तो वे उसी समय हल न निकाल कर उन्हें मीटर चैलेंज करने के लिए एप्लीकेशन लिखने के लिए दे देते हैं।

उपभोक्ता परेशान, बोले -पहले कभी इतना बिल नहीं आया जितना अब आ रहा

7 हजार रुपए बिल आता था, अचानक 65 हजार का बिल देख हैरान रह गए

रामामंडी जंडू सिंघा रोड पर स्थित कबीर एवेन्यू निवासी रामजीत जायसवाल ने बताया कि हर दूसरे महीने 5 से लेकर 7 हजार रुपए बिल उनको आता था। अक्टूबर में जब उन्हें बिल आया तो वे देखकर हैरान रह गए। महीने के 1000 के करीब यूनिट यूज होने चाहिए थे लेकिन सीधे 7000 यूनिट रीडिंग में जंप कर गए और बिल 65 हजार रुपए बन गया। जब कर्मचारी से बात की उसने कहा कि बड़िंग सब डिवीजन में जाकर बात की जाए। जायसवाल ने कहा कि उन्होंने अपने बेटे को बड़िंग आॅफिस में भेजा तो वहां बैठे कर्मचारी ने कहा कि आप मीटर को चैलेंज कर दें और 20 प्रतिशत बिल जमा करवा दें। इसके बाद बेटे ने 12 हजार रुपए जमा करवाए। लेकिन किसी अन्य बिजली कर्मचारी से जब बात की तो पता लगा कि एमई लैब में मीटर चैक करने के लिए गया है। वे बिल्कुल सही होगा। क्योंकि जंप करने के बाद मीटर सही चल रहा है। इसलिए बिल भी साथ में चैलेंज किया जाए। जिसके बाद बिल भी चैलेंज किया।

तीन पंखों, लाइट का दो महीने का बिल भेज दिया 18 हजार

स्वर्ण पार्क निवासी मंजीत ने बताया कि गर्मियाें में रात के समय ही एयर कंडिशन चलाते थे। तब 5 से 8 हजार के करीब बिल आता था। अगस्त में रीडिंग लेने आए कर्मचारी ने 18 हजार रुपए बिल दिया। उसे उसी समय ठीक करवाया और 12 हजार रुपए बिल जमा करवा दिया। अक्तूबर में बिल आया तो फिर से 18 हजार रुपए लगाकर उन्हें भेज दिया और बिल पर रीडिंग भी गलत थी। तीन महीने से तीन पंखे और केवल रात के समय लाइट की जलाते थे और बिल 18 हजार भेज दिया। कर्मचारियों से संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि बिल चैलेंज और मीटर दोनों ही चैलेंज कर दो और 6 हजार रुपए जमा करवा दिए जाएं।

दो हजार रुपए से ज्यादा कभी बिल नहीं आया, भेज दिया 9 हजार

जीटीबी नगर निवासी अजीत सिंह ने बताया कि बिजली बिल में यूनिट के रेट चाहे बढ़ गए हैं लेकिन उनका बिल 2 हजार से कभी अधिक नहीं आया। लेकिन इस बार बिल देख कर हैरान रह गए। क्योंकि 9100 रुपए बिल भेज दिया। जब उन्होंने अपनी मीटर की पुरानी रीडिंग चैक की और नई चैक की तो देखा कि इतनी कंजप्शन हो नहीं सकती। जिसके बाद उन्होंने बूटा मंडी बिजली घर में जाकर बिल ठीक करवाने के लिए कर्मचारी से बात की तो उन्होंने दो घंटे उन्हें बिठाए रखा और बाद में किसी अपने साथी के कर्मचारी से बात करवाई जो बिजली कर्मचारी का जानकार था। जिसके बाद कर्मचारी ने कहा कि वे मीटर को चैलेंज कर दें।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना