पंजाब / मदद के लिए थाने पहुंचे युवक को नशे में धुत पुलिस वालों ने पीटा, तीन सस्पेंड



The youth who reached the police station for help beaten by drunken policemen, three suspects
सिविल अस्पताल में पीड़ित फोटोग्राफर की जांच करते हुए डाॅक्टर। सिविल अस्पताल में पीड़ित फोटोग्राफर की जांच करते हुए डाॅक्टर।
X
The youth who reached the police station for help beaten by drunken policemen, three suspects
सिविल अस्पताल में पीड़ित फोटोग्राफर की जांच करते हुए डाॅक्टर।सिविल अस्पताल में पीड़ित फोटोग्राफर की जांच करते हुए डाॅक्टर।

Dainik Bhaskar

Jun 27, 2019, 03:24 AM IST

संगरूर. मंगलवार रात एक युवक महिला को पुलिस थाने में इंसाफ दिलाने लेकर पहुंचा तो नशे में धुत पुलिस कर्मचारियों ने उसे जमकर पीटा। पीड़ित का आरोप है कि देर रात पुलिस थाने में इंसाफ मांगने पर पुलिस कर्मचारियों का गुस्सा उस पर बरसा है। इंसाफ के लिए थाने पहुंची महिला ने युवक का बचाव करना चाहा तो उसे भी धमकाया। पीड़ित के परिजनों ने थाने में पहुंचकर हंगामा किया तब युवक को पुलिस ने छोड़ा।

 

पीड़ित को जांच के लिए अस्तपाल में ले जाया गया, जिसके बाद पीड़ित ने पुलिस के आला अधिकारियों से इंसाफ की गुहार लगाई तो एसएसपी ने एएसआई, थाना मुंशी और कांस्टेबल को सस्पेंड कर विभागीय जांच के आदेश दे दिए हैं। स्टूडियो संचालक संजीव वर्मा ने बताया कि मंगलवार रात को खाना खाने के बाद वह बच्चों के साथ सैर कर रहे थे। अचानक एक महिला भागते हुए आई और बाेली नशे में धुत बेटा उसे पीट रहा है। घर का सामान तक तोड़ दिया है। 


बेटा मुझे बचा लाे। वह महिला को सिटी पुलिस स्टेशन-1 ले गया ताे थाने का गेट बंद था। खटखटाने पर गेट खुला ताे अंदर गया। वहां, नशे में धुत पुलिस कर्मचारियाें ने पूछा क्याें आए हाे। तो मैंने बताया महिला को उसका बेटा पीट रहा है। उसकी मदद कीजिए। तभी एक और कर्मचारी आ गया। वह भी नशे में था। फिर मुलाजिम महिला को मदद के बहाने उसकी जांच करने लगे और मुझे एक कॉर्नर में ले जाकर मुक्के और लातों से पीटने लगे। बालों को खींचा। वह चिल्लाता रहा, कर्मचारी पीटते रहे। 


किसी तरह घर फोन किया ताे परिवार और मोहल्ले के लोग पहुंच गए। जैसे ही लाेग पहुंचे ताे पुलिसवालाें ने गेट बंद कर लिया। परिजनों से कहा कि अंदर कोई नहीं है लेकिन गेट के बाहर हंगामा करने पर छोड़ दिया गया। फ्रीडम फाइटर उत्तराधिकारी संगठन के प्रधान हरिन्द्र सिंह खालसा ने बताया कि उन्होंने फोन कर एसएचओ हरजिंदर सिंह को बुलाया। उन्हाेंने माना कि कुछ पुलिस कर्मचारी पूरे थाने को बदनाम किए हुए हैं। बाद में पीड़ित संजीव ने थाने में पुलिस कर्मचारियों के विरूद्ध अपनी शिकायत दर्ज करवाई। पीड़ित युवक की माता कांता रानी का कहना है कि यह कैसा इंसाफ है। लोगों के इंसाफ के लिए बनाए गए पुलिस थानों में ही बेकसूरों को पीटा जा रहा है।

 

एएसआई, मुंशी हवलदार, कांस्टेबल किए सस्पेंड: एसएसपी
एसएसपी डॉ. संदीप गर्ग ने बताया कि मामले में आरोपी एएसआई जानपाल सिंह, मुंशी जगतार सिंह और कांस्टेबल मनीकरण को सस्पेंड कर विभागीय जांच शुरू की गई है। जांच पूरी होने के बाद तीनों कर्मचारियों पर विभागीय कार्रवाई के साथ-साथ कानूनी कार्रवाई को भी अमल में लाया जाएगा।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना