विज्ञान से समस्याएं हल करनी है तो एक से अधिक विषयों में विशेषज्ञता जरूरी : प्रो. पाल

Jalandhar News - भारतीय विज्ञान शिक्षा और अनुसंधान संस्थान कोलकाता के निदेशक प्रो. सौरव पाल ने ‘अनुसंधान और शिक्षा में इनोवेशन :...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:01 AM IST
Jalandhar News - to solve problems from science expertise is required in more than one discipline prof sail
भारतीय विज्ञान शिक्षा और अनुसंधान संस्थान कोलकाता के निदेशक प्रो. सौरव पाल ने ‘अनुसंधान और शिक्षा में इनोवेशन : चुनौतियां और अवसर’ के बारे कहा कि विज्ञान आमतौर पर जिज्ञासा से प्रेरित है और ये इंटर डिसीप्लीनरी है। उन्होंने यह भी बताया कि पारंपरिक विषयों की बाधाएं दूर हो रही हैं। मेटीरियल्स और जीव विज्ञान के उदाहरणों को लेते हुए उन्होंने यह भी बताया कि वैज्ञानिक प्रयासों में समस्या का समाधान के लिए एक से अधिक विषयों में विशेषज्ञता की आवश्यकता है। वह एलपीयू में साइंटिफिक वर्कशॉप को संबोधित कर रहे थे।

वर्कशाप में शीर्ष अनुसंधान संस्थानों के चार प्रतिष्ठित वैज्ञानिकों ने यूनिवर्सिटी में शोधकर्ताओं और वैज्ञानिकों के साथ मूल्यवान वैज्ञानिक इनपुट सांझे किए।

एडवांस्ड रिसर्च ग्रुप (सीएसआरजी) और एलपीयू के स्कूल ऑफ केमिकल इंजीनियरिंग और फिजिकल साइंसेज ने इ आयोजन किया।

वर्कशाप में प्रो. सौरव पाल के अलावा सीएसआईआर-सीएसएमसीआरआई के निदेशक प्रो. अमिताव दास, सीएसआईआर-सीइसीआरआई के पूर्व निदेशक प्रो. विजय मोहन पिल्लई और सीएसआईआर-सीडीआरआई के सीनियर प्रिंसिपल साइंटिस्ट प्रो. संजय बत्रा शामिल रहे। एलपीयू के कार्यकारी डीन डॉ. लवी राज गुप्ता, डीन प्रो. डॉ रमेश ठाकुर, निदेशक अमन मित्तल ने उनका स्वागत किया।

वर्कशॉप को संबोधित करते वक्ता। - भास्कर

डॉ. दास ने जानवरों की होर्मaनोल ग्रंथियों के बारे में बताया... केंद्रीय साल्ट और समुद्री रसायन अनुसंधान संस्थान के निदेशक-वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद, भारत के डॉ. अमिताव दास ने जानवरों में ‘पीनियल ग्रंथि’ द्वारा पैदा हुए ‘मेलाटोनिन’ हार्मोन के बारे में बात की, जो सोने-जागने को नियंत्रित करता है। केंद्रीय विद्युत अनुसंधान संस्थान तमिलनाडु के पूर्व निदेशक डॉ. विजय मोहन पिल्लई ने इलेक्ट्रो-कैमिस्ट्री और पॉलिमर इलेक्ट्रोलाइट, फ्यूल सेल, लिथियम आयन बैटरी, कार्बन नैनो ट्यूब का नैनो रिबन आदि में परिवर्तन के बारे में बताया। सीनियर प्रिंसिपल वैज्ञानिक, सीएसआईआर-सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीडीआरआई) के प्रो संजय बत्रा ने उपेक्षित बीमारियों आदि के प्रति अपने अनुसंधान को सांझा किया।

X
Jalandhar News - to solve problems from science expertise is required in more than one discipline prof sail
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना