Hindi News »Punjab »Kadiya» कर्मियों को शिक्षा विभाग में रेगुलर करे सरकार

कर्मियों को शिक्षा विभाग में रेगुलर करे सरकार

सरकारी आदर्श और मॉडल स्कूल कर्मचारी यूनियन पंजाब ने मांगों को लेकर राज्य प्रधान गुरजिंदरपाल सिंह और राज्य सचिव...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 04, 2018, 02:31 AM IST

कर्मियों को शिक्षा विभाग में रेगुलर करे सरकार
सरकारी आदर्श और मॉडल स्कूल कर्मचारी यूनियन पंजाब ने मांगों को लेकर राज्य प्रधान गुरजिंदरपाल सिंह और राज्य सचिव रामा चंद्र की अध्यक्षता में मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान गुरजिंदरपाल सिंह ने मांग की कि सरकार अपने चुनावी वादे के अनुसार आदर्श और मॉडल स्कूल के कर्मचारियों को शिक्षा विभाग में पूरे वेतन समेत भत्ते रेगुलर करने का वादा पूरा करे।

यह सारी कर्मचारी पिछले 8 साल से रेगुलर वेतन, सालाना तरक्की और सभी भत्तों समेत वेतन प्राप्त कर रहे हैं। इस कारण रेगुलर होने के बाद यह कोई नया वित्तीय बोझ सरकार पर नहीं डालेंगे। अध्यापकों और नॉन टीचिंग स्टाफ को भी दूसरे सरकारी अध्यापकों जैसे तबादले का मौका सरकार दे और इन अध्यापकों और नॉन टीचिंग स्टाफ के लिए बनाई गई तबादले की नीति को लागू करे। इस समय आदर्श और मॉडल स्कूलों का स्टाफ 100 किमी से लेकर 250 किमी तक की दूरी पर काम कर रहा है। इस कारण वह सब मानसिक परेशानी का शिकार हो रहे हैं। इस दौरान राज्य सचिव रामा चंद्र ने मुअत्तल हुए अध्यापकों को दोबारा बहाल करने की मांग की।

उन्होंने बताया कि स्कूल छुट्टी के बाद या छुट्टी वाले दिन रोष प्रदर्शन करना हमारा संविधानिक हक है और सरकार इस गैर-लोकतांत्रिक रवैये का तैयार करे। अध्यापक वर्ग और नॉन टीचिंग स्टाफ की लंबे समय से मौजूदा सरकार द्वारा न माने जाने के रोष में जत्थेबंदी के समूह मेंबरों ने 5 अगस्त को पटियाला में सांझे अध्यापक मोर्चे द्वारा किए जा रहे झंडा मार्च में शामिल होने की अपील की। इस अवसर पर राजीव कुमार, अंतरप्रीत सिंह, रविंदर कुमार, देव राज, विशाल सिंह, अमनदीप सिंह, वंदना गुप्ता, रवि, नर्मता, रेखा रानी, राजवीर कौर, निधि, ज्योति राणा, कल्पना, दलजीत कौर मौजूद थे।

नारेबाजी करते सरकारी आदर्श और मॉडल स्कूल कर्मचारी यूनियन के सदस्य। -भास्कर

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kadiya

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×