--Advertisement--

काली बेईं बचाने के लिए सीचेवाल ने फिर छेड़ा अभियान

जल संरक्षण और पर्यावरण प्रेमी संत बलबीर सिंह सीचेवाल ने काली बेईं कांजली वेटलैंड में जंगली बूटी की भरमार को देखते...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:40 AM IST
जल संरक्षण और पर्यावरण प्रेमी संत बलबीर सिंह सीचेवाल ने काली बेईं कांजली वेटलैंड में जंगली बूटी की भरमार को देखते हुए तीन साल बाद एक बार फिर इसे सफाई करने का बीड़ा उठाया है।

बुधवार को सेवादारों के साथ सीचेवाल बेईं को साफ करने पहुुंचे। उन्होंने दावा किया कि 2 फरवरी को वेटलैंड दिवस पर वह बेईं में नाव चलाएंगे। बता दें कि 2 फरवरी काे संत सीचेवाल का जन्मदिवस भी है। उन्होंने कहा कि सरकारों की अनदेखी के कारण ही काली बेईं एक बार फिर से गंदी हो गई है। इसका उन्हें दुख है। उन्होंने कहा कि इतने प्रयास के बावजूद सरकार उनकी काली बेईं में फैक्ट्रियों और घरों के गिरने वाले गंदे पानी के समाधान की ओर कोई कदम नहीं उठा रही है।

पर्यावरण प्रेमी संत बलबीर सिंह सीचेवाल काली बेई कांजली वेटलैंड में से जंगली बूटी निकालते हुए। -भास्कर

वर्ष 2000 में काली बेईं को साफ करने वाले सीचेवाल गंदगी से हुए दुखी| वर्ष 2000 में लगभग मृत हो चली गुरु नानक देव की पवित्र काली बेईं को उन्होंने कारसेवा के माध्यम से पुनर्जीवित किया। उनके इस कार्य के लिए टाइम पत्रिका ने उन्हें 2008 में दुनिया भर से चुने गए 30 ‘हीरोज ऑफ एन्वायरनमेंट’ (दुनिया के पर्यावरण नायक) में शामिल किया। जनवरी 2017 में पर्यावरण के लिए योगदान देने के लिए भारत सरकारर ने उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया था। उन्होंने लोगों में जागरूकता के अभाव के लिए राजनीतिक दलों को जिम्मेदार ठहराया।

गुरु नानक जी के 550वें प्रकाश पर्व पर पूर्ण रूप से साफ करने का लक्ष्य

संत सीचेवाल ने कहा कि होशियारपुर से चलने वाली इस बेई में लगभग 250 क्यूसिक पानी है। प्रशासन की उदासीनता के चलते यहां के पानी का लेवल कम हो रहा है। जबकि यहां पर 400 से 500 क्यूसिक पानी होना चाहिए,ताकि जलीय जीव पानी को नेचुरली ट्रीट कर सकें। उन्होंने कहा कि बेईं में कपूरथला के कई क्षेत्रों, भुलाना कॉलोनी, बेगोवाल ट्रीटमेंट प्लांट आदि से गिरने वाले गंदे पानी को रोका जाना बहुत जरूरी है। काली बई को गुरु नानक जी के 550वें प्रकाश पर्व पर पूर्ण रूप से साफ करने का लक्ष्य रखा गया है। बुधवार को बेईं साफ करने पहुंचे सीचेवाल ने कहा कि वे दुखी है कि कांजली बेईं बार फिर गंदी हो रही है।

डीसी कर्मचारी यूनियन की कलमछोड़ हड़ताल आज से

कहा, मांगें पूरी न होने पर करेंगे अर्थी फूंक प्रदर्शन

भास्कर संवाददाता| कपूरथला

डीसी कार्यालय कर्मचारी यूनियन ने अपनी मांगों को लेकर पंजाब सरकार को लिखित पत्र भेजकर मांगें न मानने की सूरत में कलम छोड़ हड़ताल की चेतावनी दी है। पंजाब राज्य जिला डीसी कार्यालय कर्मचारी यूनियन के जिला प्रधान नरिंदर सिंह चीमा ने बताया कि यूनियन की ओर से पदोन्नित करने, 107 आउटसोर्स कर्मचारियों को पक्का करने, बंद छुटि्टयों को चालू करने, पुरानी पेंशन बहाली, खाली सीटों को भरने, छठे पे कमीशन की रिपोर्ट लागू करने आदि मांगों को लेकर पहले भी कलम छोड़ हड़ताल कर सरकार के विरुद्ध रोष प्रदर्शन किया था। बावजूद सरकार ने मुलाजिमों की मांगों की ओर ध्यान नहीं दिया, जिसे यूनियन कभी भी बर्दाशत नहीं करेगी।

जिला प्रधान चीमा ने कहा कि अगर पंजाब सरकार उनकी मांगें नहीं मानती है, तो 1 फरवरी व 2 फरवरी को पंजाब के समूचे डीसी कार्यालय, उपमंडल मजिस्ट्रेट कार्यालयों व उप तहसीलों में काम करने वाले कर्मचारियों द्वारा पूर्ण तौर पर कामकाज ठप रख कर कलम छोड़ हड़ताल कर पहले दिन रोष प्रदर्शन व दूसरे दिन अर्थी फूंक प्रदर्शन किए जाएंगे। लोगों को आने वाली दिक्कतों के लिए कांग्रेस सरकार जिम्मेदार होगी। इस अवसर पर अन्य सदस्य भी मौजूद रहे।

नरिंदर सिंह चीमा

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..