• Hindi News
  • Punjab
  • Kapurthala
  • नशे के खात्मे के लिए ‘ओट’ लांच, सूबे में कहीं से भी दवा ले सकेगा मरीज
--Advertisement--

नशे के खात्मे के लिए ‘ओट’ लांच, सूबे में कहीं से भी दवा ले सकेगा मरीज

प्रदेश में नशा मुक्त समाज बनाने के उद्देश्य से पूरे राज्य में वीरवार को 41 रिहेब सेंटरों में ओट (आउट पेशेंट ओपियाड...

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 03:35 AM IST
नशे के खात्मे के लिए ‘ओट’ लांच, सूबे में कहीं से भी दवा ले सकेगा मरीज
प्रदेश में नशा मुक्त समाज बनाने के उद्देश्य से पूरे राज्य में वीरवार को 41 रिहेब सेंटरों में ओट (आउट पेशेंट ओपियाड असिस्टेड ट्रीटमेंट) प्रोग्राम लांच किया गया। इसी श्रृंखला के तहत डीसी मोहम्मद तैयब और सिविल सर्जन डा. बलवंत सिंह के आदेशों पर सरकारी ड्रग रिहैबलिटेशन सेंटर सर्कुलर रोड परिसर में भी ‘ओट’ लांच किया गया। सिविल सर्जन डा. बलवंत सिंह ने बताया कि किसी भी प्रोग्राम की सफलता में समाज की भागीदारी अहम होती है। इस नए प्रोग्राम के तहत अब नशे के आदी मरीजों को एक यूनिक आईडी के तहत इलाज किया जाएगा और वह प्रदेश में कहीं से भी दवा ले सकते हैं।

ओओएटी प्रोग्राम के नोडल अधिकारी डा. संदीप भोला ने बताया कि ओपियाड (अफीम और उसके प्रोडक्ट) का नशा करने वालों के लिए यह प्रोग्राम मुफ्त लांच किया गया है। इसके लिए मरीज को रोजाना दवा खाने के लिए सेंटर आना पड़ेगा। दवाई के साथ-साथ मरीजों के काउंसलिंग सेशन भी लिए जाएंगे। ऐसे मरीज नशे की लत्त में फंसकर समाज की मुख्य धारा से टूटते तो है ही साथ में आत्मविश्वास में भी कमी आ जाती है।

डा. भोला ने कहा कि उक्त प्रोग्राम इलाज के साथ-साथ मरीजों के काउंसलिंग सेशन की मदद से समाज की मुख्य धारा से जोड़ने में भी मदद करेगा। इसके अलावा मरीज को आन लाइन रजिस्ट्रेशन से एक यूनीक आईडेंटीफिकेशन नंबर भी जारी किया जाएगा। इससे मरीज पूरे राज्य में मुफ्त इलाज करवा सकता है।

सेहत विभाग की पहल

सरकारी ड्रग रिहैबलिटेशन सेंटर सर्कुलर रोड के परिसर में किया लांच

यूनीक आईडी से होगा नशे के आदी मरीजों का इलाज, मरीज को रोजाना सेंटर में आकर खानी पड़ेगी दवा, काउंसलिंग सेशन भी लगाए जाएंगे

रिहैबलिटेशन सेंटर में हुए कार्यक्रम के दौरान संबोधित करते डा. संदीप भोला।

एक साल तक करवाना पड़ेगा ट्रीटमेंट

डा. भोला ने कहा कि उक्त ट्रीटमेंट एक साल तक करवाना पड़ेगा। उक्त प्रोग्राम को कपूरथला जेल में भी लागू किया गया है। किसी भी प्रोग्राम की सफलता समाज की भागीदारी पर निर्भर करती है। उन्होंने सभी से प्रोग्राम को सफल बनाने में योगदान देने के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर जिला परिवार भलाई अधिकारी डा. सुरिंदर कुमार, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. कुलजीत सिंह, सीनियर मेडिकल अधिकारी डा. अजीत सिंह, डा. राजीव पराशर, कैप्टन बलजीत सिंह बाजवा, रोशन लाल सभ्रवाल, अशोक माहला, नशा विरोधी मंच के प्रधान हरजीत सिंह मौजूद थे।

मॉडर्न जेल परिसर में भी ‘ओट’ क्लिनिक की शुरुआत| ओट (आऊट पेशेंट ओपियाड असिस्टेड ट्रीटमेंट) प्रोग्राम के तहत मॉडर्न जेल परिसर में भी ओट क्लिनिक की शुरुआत की गई। इसका उद्घाटन करने के बाद सेशन जज किशोर कुमार ने जहां नशे के आदी कैदियों को नशा छोड़ने के लिए प्रेरित किया वही, उनके ट्रीटमेंट के लिए शुरू किए ओटी क्लिनिक के लाभ भी बताए, जिससे वह रोजाना साइकेट्रिक्स डॉक्टर की सलाह से समय से दवाई ले सकते हंै।

X
नशे के खात्मे के लिए ‘ओट’ लांच, सूबे में कहीं से भी दवा ले सकेगा मरीज
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..