--Advertisement--

20 मई से पहले बीजी पनीरी जोत दी जाएगी : डा. खिंडा

धरती के नीचे पानी का स्तर दिन ब दिन गिरता जा रहा है। मानव अस्तित्व व धरती की सदीवी हरियाली के लिए हर स्तर पर पानी की...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:35 AM IST
धरती के नीचे पानी का स्तर दिन ब दिन गिरता जा रहा है। मानव अस्तित्व व धरती की सदीवी हरियाली के लिए हर स्तर पर पानी की बूंद-बूंद बचाना जरूरी हो गया है। यह बात खेतीबाड़ी व किसान भलाई विभाग पंजाब के सचिव काहन सिंह पन्नू ने खेती अधिकारियों की उच्चस्तरीय बैठक को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि इस साल डैम की झीलों में पानी का स्तर पिछले साल के मुकाबले काफी कम है। जिस कारण नहरी पानी व बिजली सप्लाई प्रभावित हो सकती है। धरती के नीचे पानी की संभाल के लिए पंजाब सरकार द्वारा पंजाब प्रिजर्वेशन ऑफ सब-साईल वाटर एक्ट 2009 में सोध कर पनीरी की बिजाई 20 मई से कर दी गई है। इसी तरह धान की बिजाई 15 जून की बजाय 20 जून कर दी गई है। उन्होंने समूह जिलों के खेती अधिकारियों को पनीरी की बिजाई 20 मई से पहले करने से रोकने के लिए सख्त आदेश दिए हैं।

मुख्य खेतीबाड़ी अधिकारी कपूरथला डा. जसबीर सिंह खिंडा ने कहा कि सरकारी आदेशों की पालना करवाने के लिए ब्लाक स्तर पर अधिकारियों की ड्यूटियां लगा दी गई हैं। उन्होंने किसानों को धान की पनीरी की बिजाई 20 मई से पहले न करने की हिदायत दी। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि कोई निर्धारित तिथि से पहले पनीरी बीजता है तो उसकी बीजी हुई पनीरी खेतों में ही जोत दी जाएगी। उन्होंने किसानों को सलाह दी कि पानी की बचत के लिए कम समय लेने वाली पंजाब खेतीबाड़ी यूनिवर्सिटी की ओर से सिफारिश किस्मों की बिजाई को पहल दें।

डा. जसबीर सिंह।