नाथों के डेरे की जमीन पुराने ठेकेदार को दी लोग बोले- तहसीलदार ने नहीं कराई बोली

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 08:10 AM IST

Kapurthala News - कांजली रोड पर नाथों के डेरे की 23 एकड़ उपजाऊ भूमि को ठेके पर लेने के लिए बोली देने आए हुए लोगो ने तहसीलदार द्वारा बिना...

Kapurthala News - people given to old contractor of land in nathan tale say tehsildar did not quote
कांजली रोड पर नाथों के डेरे की 23 एकड़ उपजाऊ भूमि को ठेके पर लेने के लिए बोली देने आए हुए लोगो ने तहसीलदार द्वारा बिना बोली किए पुराने ठेकेदार को भूमि दिए जाने का विरोध करने के बाद डीसी को शिकायत दी। इसके बाद डीसी ने तहसीलदार की कार्रवाई पर रोक लगाते एसडीएम को खुली बोली व पारदर्शी माध्यम से बोली करान के आदेश दे दिए हैं। वहीं बोली देने आए लोगों ने तहसीलदार मनबीर सिंह ढिल्लों पर आरोप लगाया कि राजनीतिक शह पर आर्थिक लाभ लेकर पुराने ठेकेदार को फायदा दिया गया है लेकिन तहसीलदार ने सभी आरोप नकारते कहा कि पहले कोई ठेका लेने नहीं आता था, इसके अलावा पुराने ठेकेदार ने समय पर पैसे जमा करवाए थे, इसलिए उन्होंने अपने अधिकारों का प्रयोग करते हुए 10 प्रतिशत ठेका बढ़ाकर उसे दे दिया। राजनीतिक दबाव का पूछे जाने पर उन्होंने जबाव नहीं दिया।

बोली देने वाले आए लोग बोले- जिम्मेदार अधिकारी कर रहे गलत

डेरे की जमीन की बोली देने सुबह साढ़े नौ बजे पहुंचे सुभाष शर्मा, तेजिंदर सिंह, कृष्ण कुमार, सुखविंदर सिंह, बाबा विजय कुमार हमीरा आदि ने बताया कि वह नाथों के डेरे की जमीन की बोली देने आए थे। बोली देने का समय साढ़े नौ बजे का था लेकिन तहसीलदार जानबूझ कर 11 बजे के करीब तहसील में पहुंचे तथा आते ही उक्त जमीन की खुली बोली देने की बजाय बोली न देने का कहना शुरू कर दिया। सुभाष शर्मा ने बताया कि इस उपजाऊ भूमि की बोली हर साल होती थी। लेकिन तहसीलदार ने पहले भी दो सालों के लिए 5 लाख रुपए पर भूमि का ठेका बलविंदर सिंह निवासी मुश्कवेद को दे दिया था। इस बार भी ठेका उसे दे दिया। यह सारा काम राजनेताओं की शह पर किया जा रहा है।

तहसील कांप्लेक्स में बोली देने आए लोग अपनी व्यथा सुनाते हुए।

दो पक्षों में विवाद के बाद 2004 से प्रशासन ठेके पर दे रहा जमीन

इस जमीन पर दो लोगों ने हक जताया था। इस पर 2004 में जिला प्रशासन ने एक रिसीवर नियुक्त किया था। वह हर बार बोली करवाकर होने वाली आमदन नाथों के डेरे के नाम पर जमा करवा दी जाती थी लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ।

डीसी बोले- जो भी अधिक बोली देगा, उसी को मिलेगी जमीन

डीसी ने नाथों के डेरे की जमीन की बोली से अगर इस धार्मिक स्थान को उक्त ठेकेदार द्वारा दिए गए ठेके से अधिक मुनाफा होता है तो यह जमीन अधिक बोली देने वाले को दी जाएगी। डेरे को किसी भी कीमत पर नुकसान नहीं होने देंगे।

X
Kapurthala News - people given to old contractor of land in nathan tale say tehsildar did not quote
COMMENT