पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Kapurthala News The Work Of Making Kapurthala A Municipal Corporation Was Put In Cold Storage

ठंडे बस्ते में पड़ गया कपूरथला को नगर निगम बनाने का काम

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पंजाब सरकार ने 12 नवंबर को आ रहे गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव समागम को लेकर 2 मार्च को कपूरथला नगर कौंसिल को अपग्रेड कर नगर निगम बनाने का ऐलान किया था। इस पर काम भी शुरू हो गया था केवल नोटिफिकेशन ही होना था। लेकिन बीच में लोकसभा चुनाव आ गए। इस कारण मामला टलता टलता ठंडे बस्ते में जा पहुंचा है। अब यह निगम कब बनेगा, विभाग व अधिकारियों को भी इसकी कोई जानकारी नहीं है। इधर पंजाब सरकार का ऐलान होते ही चाहवान पार्षदों को नगर निगम की नई वार्डबंदी का इंतजार था। लेकिन 6 महीने में नोटिफिकेशन व कोई भी कार्रवाई न होने से उनको भारी झटका लगा है। चर्चा यह भी है कि पंजाब सरकार शताब्दी समागम के मौके पर जिले के लिए बड़ा ऐलान कर सकती है। बेशक नगर निगम का क्यों न हो।

लार्जर अर्बन एरिया डिक्लेयर करना होता है तो उसमें समय लगता है : ईओ आदर्श शर्मा

नगर कौंसिल के ईओ आदर्श शर्मा का कहना है कि लार्जर अर्बन एरिया डिक्लेयर करना होता है, उसे समय लगता है। यह होते ही शहर नगर निगम में हो जाएगा। यह 100 फीसदी बनेगा।

अधिकारी निगम के नोटिफिकेशन के इंतजार में, शहरवासियों की नजर वार्डबंदी पर, दोनों का कोई क्लियर नहीं

शहर को नगर कौंसिल से अपग्रेड कर नगर निगम बनाने की घोषणा होने के बाद से अधिकारी नोटिफिकेशन होने के इंतजार में है। एक एक कर अब चार महीने हो गए हैं। अभी तक यह नोटिफिकेशन नहीं हो पाई। अब यह नोटिफिकेशन कब होगी। अधिकारियों को इसका भी कोई पता नहीं है। पंजाब सरकार ने निगम बनाने की घोषणा के मौके शहर का विकास मास्टर प्लान के तहत करवाने की बात कही थी। सरकार का दावा था कि नवंबर में गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व समागम आ रहे हैं। उससे पहले शहर का विकास करवाना होगा लेकिन अब तो शताब्दी समागम का समय भी 4 महीने बचा है। उससे पहले नगर निगम का नोटिफिकेशन न होना सरकार की बड़ी लापरवाही दिख रहा है। इधर, शहरवासी वार्डबंदी पर नजरें टिकाए हुए बैठे हैं। नगर कौंसिल को अपग्रेड कर नगर निगम का दर्जा देने से शहर का दायरा कितना होगा। शहर के कितने वार्ड बनेंगे। कितने गांव शहर में आने है। यह सब अभी बातों में ही है। नगर कौंसिल जहां तक सीवरेज सिस्टम पहले से पहुंचा हुआ है, वहां तक 6 गांवों बहुई, बरिंदपुर, नूरपुर, कादूपुर, डोगरांवाल, नवां पिंड भट्‌ठे की सीमा शहर में निगम के बीच लाने की तैयारी में है। वार्ड 29 से 40 होने की संभावना है। लेकिन यह सब नोटिफिकेशन होने पर वार्डबंदी के दौरान होगा, जो अभी क्लियर ही नहीं है।

खबरें और भी हैं...