Hindi News »Punjab »Khanna» महिला नहर में कूदी, नाके से भागकर आए एएसआई ने गोताखोरों की मदद से बचाया

महिला नहर में कूदी, नाके से भागकर आए एएसआई ने गोताखोरों की मदद से बचाया

रविवार सुबह एक महिला ने दोराहा नहर में छलांग लगा दी। तभी कुछ दूर खड़े ट्रैफिक पुलिस के एएसआई गुरदीप सिंह ने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:35 AM IST

महिला नहर में कूदी, नाके से भागकर आए एएसआई ने गोताखोरों की मदद से बचाया
रविवार सुबह एक महिला ने दोराहा नहर में छलांग लगा दी। तभी कुछ दूर खड़े ट्रैफिक पुलिस के एएसआई गुरदीप सिंह ने गोताखोरों की मदद से महिला को बचाया। पुलिस का यह जांबाज अब तक नहर में कूदने वाले कई लोगों को बचा चुका है। जिसके चलते लोग उसे गोताखोर एएसआई नाम से भी जानते हैं। एडीजीपी गुरदीप सिंह को सम्मानित भी कर चुके हैं।

जानकारी के अनुसार खन्ना के गांव किशनगढ़ की अमरजीत कौर ने जब नहर में छलांग लगाई तो वहां बैठे लोगों ने करीब 250 गज दूर नाके पर खड़े एएसआई गुरदीप सिंह को बताया। गुरदीप सिंह ने कैबिन में रखा रस्सा उठाया और नहर में फेंकते हुए गोताखोरों को भी महिला को बचाने में लगा दिया। एएसआई और गोताखोरों के भरसक प्रयासों से महिला को सुरक्षित बाहर निकाला गया। उसे फर्स्ट एड देकर अस्पताल पहुंचाया। महिला की रिश्तेदार ने बताया, महिला का पति अमरीक सिंह ग्रंथी है। वह विदेश गया हुआ है। रविवार को अमरजीत कौर घर से आई थी और पता नहीं क्यों उसने नहर में छलांग लगा दी।

एसएसपी नवजोत िसंह माहल ने कहा, अपनी ड्यूटी के साथ-साथ समाज सेवा के काम करने वाले मुलाजिम प्रशंसा के पात्र हैं। एएसआई गुरदीप सिंह अब तक कई जानें बचा चुका है। ऐसे मुलाजिमों का सम्मान बरकरार रहेगा और डीजीपी पंजाब से भी उन्हें सम्मानित किए जाने की सिफारिश की जाएगी।

डीजीपी से सम्मानित करने की सिफारिश करेंगे : एसएसपी

गोताखोर एएसआई के नाम से हैं मशहूर

ट्रैफिक पुलिस के एएसआई गुरदीप िसंह। दाएं) नहर से बचाई गई महिला।

अब तक पांच लोगों को बचा चुके हैं एएसआई

5 अप्रैल 2017 को अमलोह की लड़की को नहर में छलांग लगाने से रोका।

5 मई 2017 को नेशनल हाइवे से महिला ने नहर में छलांग लगाई। जिसे बिजली ग्रिड के पास सुरक्षित निकाला गया।

4 जुलाई 2017 को गुरथली नहर से कार गिर गई थी। इसमें सवार 5 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला गया

16 जुलाई 2017 को प्रेमी जोड़ा गुरथली नहर पुल से कूदा था। लड़की को बचा लिया गया।

21 जुलाई 2017 को दोराहा फाटक के पास लड़की सुसाइड करने पहुंची थी, उसे बचाया।

1 अप्रैल 2018 को किशनगढ़ की अमरजीत कौर को नहर से सुरक्षित निकाला गया।

रेस्क्यू का सामान नाके पर रखते हैं | पहली बार जब मैं ड्यूटी पर था, तो एक महिला ने पुल से नहर में छलांग लगा दी थी। उस समय हिम्मत जुटाकर महिला को बचाया तो हौसला बढ़ा। तब से नाके पर पक्के तौर पर रस्सा और अन्य सामान रखा हुआ है। जब सूचना मिलती है, तभी लोगों को बचाने निकल पड़ते हैं। -गुरदीप सिंह, एएसआई

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Khanna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×