चिट्‌टे की ओवरडोज से 27 साल के युवक की बिगड़ी हालत, दम तोड़ा

Ludhiana News - दोस्त के कहने पर नशे की दलदल में धंसा 27 साल के युवक की सेहत बिगड़ने से मौत हो गई। मृतक की पहचान अब्दुल्लापुर बस्ती के...

Dec 14, 2019, 08:22 AM IST
Ludhiana News - 27 year old man39s condition worsened due to chitte39s overdose
दोस्त के कहने पर नशे की दलदल में धंसा 27 साल के युवक की सेहत बिगड़ने से मौत हो गई। मृतक की पहचान अब्दुल्लापुर बस्ती के रहने वाला गुरविंदर सिंह के रूप में हुई है। हैरानीजनक है कि नशा बेचने वाले ज्यादा दूर नहीं, बल्कि इलाके में ही हैं। इसके बाद भी पुलिस इन पर रोक नहीं लगा पा रही। जानकारी के अनुसार गुरविंदर सिंह का एक भाई और एक बहन है और वह दूसरे नंबर पर था। गुरविंदर घरों में पेंट करता था। करीब चार साल पहले शादी हुई थी, लेकिन फिर उसका प|ी के साथ विवाद होने से दो साल पहले उनका तलाक हो गया। गुरविंदर के बड़े भाई जसपाल सिंह ने बताया कि प|ी के जाने के बाद वह परेशान रहने लगा। इसके बाद उसके दोस्त ने उसे चिट्टे की लत लगा दी। इसके बाद गुरविंदर ने चिट्टे का नशा करना शुरू कर दिया। इस कारण उसकी सेहत खराब होनी शुरू हो गई। एक हफ्ते पहले भी वह काफी बीमार हुआ था। इस कारण उसने काम पर जाना भी छोड़ दिया। शुक्रवार को परिवार के सभी सदस्य शादी में गए थे। वह घर पर ही था। घर पर पड़ोसी को गुरविंदर की देखरेख के लिए कहा था। जसपाल के अनुसार शाम करीब 4 बजे वह घर लौटा तो गुरविंदर को चाय के लिए पूछा। मगर उसने मना कर दिया। करीब 5.30 बजे तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई।

लोगों का आरोप| इलाके में पुलिस खुद बिकवा रही है नशा

जवान बेटे के चिट्टे की भेंट चढ़ने पर मां के आंसू नहीं थम रहे थे। मां ने कहा कि पुलिस खुद तस्करों के साथ मिलकर नशा बिकवा रही है। इलाके के लोगों ने बताया कि उनके सामने वाली गली में ही 20-25 घर चिट्टा समेत हर नशा सप्लाई करते हैं। मगर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। लोगों का आरोप है कि संबंधित थाने, चौकी की पुलिस-पीसीआर मुलाजिम भी आते हैं। अगर पुलिस ही इनके साथ मिलकर तस्करी करेगी तो उन्हें रोकेगा कौन। जबकि रोते हुए मां ने कहा कि कैप्टन ने कहा था कि मैं नशा पंजाब से खत्म कर दूंगा, नशा तो खत्म नहीं हुआ, लेकिन हमारे बेटे जरूर खत्म कर दिए। तस्करों, पुलिस और सरकार के खेल के बीच लोगों के घर उजाड़ गए। कितनी ही मां की कोख सुनी कर दी। मगर फिर भी सरकारें इसे बंद नहीं करवा पा रही। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस तस्करों से मोटी रकम वसूल करके तस्करी करवाते हैं। गुरविंदर की मां ने कहा कि तस्करी करने वालों को फांसी की सजा होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आज मैं अपने जवान बेटे की लाश देख रही हूं, लेकिन आज इसके खिलाफ आवाज न उठाई तो पता नहीं आगे कितनी मां अपने जवान बेटों को नशे की दलदल में मरते हुए देखेगी।

नशे के लिए मां उधार लेकर देती थी पैसे

जसपाल ने बताया कि नशे की दलदल में फंसने के बाद उसने काम करना बंद कर दिया था, लेकिन फिर उसने थोड़ा काम करना शुरू किया। मगर काम में मिलने वाले पैसे वह नशे में ही उजाड़ देता था। इस कारण वह धीरे-धीरे कर्ज के नीचे दब गया। मगर नशे के लिए पैसे न मिलने वह घरवालों से पैसे लेता था। वह नशे में इतना फंस गया था कि एक बार नशा न मिलने पर वह चीखता था और उसका सांस रुकती थी। मां लोगों से उधार लेकर उसे नशे के लिए पैसे देती। चिट्टे की लत दूर करने को 2 बार नशा छुड़ाओ केंद्र भी भेजा गया। मगर वह फिर नशा करने लगा।

X
Ludhiana News - 27 year old man39s condition worsened due to chitte39s overdose
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना