--Advertisement--

70 किलो सोने से भी महंगा है ये भैंसा, पीता है ब्रांडेड शराब और खाता है काजू-बादाम

मालिक का कहना है- वह सुलतान बेचने के लिए मेले में नहीं जाते। उसकी खासियत को देखकर लोग उसकी कीमत लगाते हैं।

Danik Bhaskar | Feb 09, 2018, 04:41 AM IST

फगवाड़ा(जालंधर). जालंधर के गांव परागपुर में दो दिवसीय जट्ट एक्सपो गुरूवार को शुरू हुई। टुट्ट ब्रदर्स की ओर से आयोजित इस 7वीं जट्ट एक्सपो का उद्घाटन जालंधर के विधायक राजिंद्र बेरी ने किया। इसमें करीब 100 कंपनियों ने स्टॉल लगाए। मेले में हरियाणा के कैथल का 21 करोड़ी भैंसा सुल्तान और कुरुक्षेत्र का 9 करोड़ी भैंसा युवराज आकर्षण के केंद्र रहे। बता दें कि सोने का भाव 30 लाख रूपए किलो है और सुल्तान की कीमत 21 करोड़ है इस हिसाब से देखें जाएं तो 70 किलो सोने के बराबर सुल्तान की कीमत है। इस जाट एक्सपो में देश भर के किसान, कृषि से जुड़ी कंपनियां शामिल हुईं। हफ्ते में 6 दिन अलग-अलग ब्रांड की शराब पीता है सुल्तान...

- कैथल के बूढ़ाखेड़ा गांव के रहने वाले सुल्तान के मालिक नरेश ने बताया कि सुल्तान हफ्ते में 6 दिन शाम के खाने से पहले शराब पीता है। शराब भी एक ब्रांड की नहीं बल्कि हर दिन एक नए ब्रांड की। मंगलवार का दिन ऐसा होता है जब वह शराब नहीं पीता।
- नरेश ने बताया कि सुल्तान रविवार को टीचर्स, सोमवार को ब्लैक डॉग, बुधवार को 100 पाइपर, गुरुवार को बेलेनटाइन, शनिवार को ब्लेक लेबल या शिवास रिगल पीता हैं।
- वे सीमन बढ़ाने के लिए सुल्तान को शराब पिलाते हैं। यह दवाई की तरह दी जाती है।

21 करोड़ रुपए है कीमत
- सुल्तान की उम्र 9 साल है। सुल्तान मुर्रा नस्ल का भैंसा है।
- नरेश ने बताया कि उन्होंने छह साल पहले रोहतक से 2 लाख 40 हजार रुपए में सुल्तान को खरीदा था। एक विदेशी ने पिछले दिनों इसकी कीमत 21 करोड़ रुपए लगाई थी।
- सुबह के नाश्ते में सुल्तान देशी घी का मलीदा और दूध पीता है।

साल में देता है सीमेन की 30 हजार डोज
- सुल्तान सालभर में 30 हजार सीमेन की डोज देता है जो 300 रुपए प्रति डोज बिकती है। इस हिसाब से वह सालाना 90 लाख रुपए कमा लेता है।
- सुल्तान वर्ष 2013 में हुई राष्ट्रीय पशु सौंदर्य प्रतियोगिता में झज्जर, करनाल और हिसार में राष्ट्रीय विजेता भी रह चुका है।
- राजस्थान के पुष्कर मेले में एक पशु प्रेमी ने सुल्तान की कीमत 21 करोड़ रुपए लगाई थी लेकिन नरेश ने कहा कि सुल्तान उसका बेटा है और बेटों की कोई कीमत नहीं हुआ करती।