लुधियाना

--Advertisement--

कैनाडा का सपना टूटा तो किसान ने दी जान, भाई-भाभी ने इस नाम से ठगे 30 लाख

किसान ने सल्फॉस निगल आत्महत्या कर ली।

Danik Bhaskar

Dec 28, 2017, 06:30 AM IST

मोगा. कैनेडा में परिवार समेत जाकर बसने का सपना टूटने से किसान ने सल्फॉस निगल आत्महत्या कर ली। आरोप है कि मृतक के एनआरआई चचेरे भाई, भाभी ने विदेश भेजने के नाम पर 30 लाख की ठगी मारी। पुलिस को शिकायत देने पर एनआरआई दंपति को थाने बुलाया गया। लेकिन कुछ लोगों ने रुपये देने की जिम्मेदारी थाने में ले ली। जबकि एनआरआई दंपति मौका पाकर विदेश भाग गया।

रुपए देने की जिम्मेवारी लेने वालों ने दो लाख से ज्यादा न देने की बात कही। इससे आहत किसान ने आत्महत्या कर ली। पुलिस ने एनआरआई दंपति समेत पांच लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है।


थाना मैहना के एएसआई प्रीतम सिंह के मुताबिक, गांव कपूरे निवासी कुलविदंर कौर ने बताया, 2013 में पति रणजीत िसंह के एनआरआई चचेरे भाई इंद्रजीत सिंह, भाभी चरणजीत कौर ने उनको परिवार समेत कैनेडा भेजने के नाम पर 30 लाख मांगे। पति ने 12 लाख दे दिए। इसके बाद बैंक में दिखाने के लिए 25 लाख मांगे। पति ने फाइनांस कंपनी से 25 लाख लोन लेकर बैंक में जमा करवाया लेकिन रिश्तेदारों ने एंबेसी में फाइल नहीं लगाई। चार साल बीतने पर दिसंबर के पहले सप्ताह उनके एनआरआई रिश्तेदार गांव आए तो पति ने रुपये मांगे तो वह टाल मटोल करने लगे। इसी बीच 25 लाख के लोन का चार साल का ब्याज 18 लाख रुपये बन गया था। ब्याज चुकाने के लिए पति ने मकान और तीन किले जमीन बेच दी थी।

16 दिसंबर को शिकायत पर दोनों पक्षों को 18 दिसंबर को थाने बुलाया था। गांव कपूरे के दो पंचायत सदस्य हरजिंदर सिंह उर्फ पप्पू व परमजीत कौर भी थाने पहुंचे। उन्होंने पुलिस के समक्ष भरोसा दिया कि एनआरआई दंपति को जाने दें उनके रुपए वह खुद देंगे और एक हफ्ते का समय मांगा।

Click to listen..