--Advertisement--

लालच देकर किडनैप करना चाहता था बच्चे, नहीं आए झांसे में तो की अपने भाई की हत्या

4 लाख फिरौती मांगी, नहीं मिली तो नशीली दवा से बेहोश कर फेंक दिया।

Dainik Bhaskar

Jan 10, 2018, 03:00 AM IST
जानकारी देते सुरिंद्र के फ्रेंड। जानकारी देते सुरिंद्र के फ्रेंड।

मुक्तसर(फजिल्का). तीन दिन पहले किडनैप किए गए 9th क्लास कक्षा के 14 साल के स्टूडेंट सुरिंद्र सिंह की 4 लाख रुपए फिरौती न मिलने पर उसके ही मौसेरे भाई सोनी सिंह ने नशीली दवा से बेहोश कर सरहिंद फीडर में फेंकर हत्या कर दी। आरोपी को पुलिस ने मंगलवार को अरेस्ट कर किडनैपिंग का केस दर्ज किया है। शव अभी बरामद नहीं हुआ है। अपनी मासी के बेटे द्वारा ही सुरेन्द्र को अगवा करने की घटना ने लोगों को चौंका दिया है। ये था मामला...

गांव के लोगों के अनुसार सोनी सिंह सुरेंद्र सिंह की मासी का लड़का 7-8 दिन पहले ही अपने गांव वापस आया था। उस पर पहले भी एक मामले था जिससे वह गांव से फरार था। सुरेंद्र के पिता बूटा सिंह ने बताया के उसके साडू के लड़के सुखमंदर सिंह उर्फ सोनी ने उससे कुछ समय पहले 20 हजार रुपए की मांग की थी, उसने नहीं दिए थे। उसके बाद सोनी ने वारदात को अंजाम दिया और बेटे को अगवाह कर 4 लाख की फिरौती मांगी।

सुरिंद्र पर डाला था दबाव कहा, 2-3 लड़के लेकर चल सबको लैपटॉप दूंगा

सुरेन्द्र सिंह के साथ ही खेलने वाले उसके दोस्त अजय (15) और जसप्रीत (11) जोकि सुरेन्द्र के घर पर मौजूद थे उन्होंने बताया कि उस दिन वह और सुरेन्द्र सिंह खेल रहे थे कि हमारे पास सोनी सिंह आया और उसने सुरेन्द्र और उनको अपने साथ चलने के लिए कहा। मना करने पर सोनी सिंह ने उन्हें लालच दिया मेरे साथ चलो मैं तुमको लैपटॉप दिलाता हूं। उसके बाद उसने सुरेन्द्र पर भी जोर डाला कि तुम 2-3 लड़कों को मेरे साथ लेकर चल मैं तुम सभी को गांव औलख से लैपटॉप दिलाता हूं पर हम नहीं गए और वह सुरेन्द्र सिंह को बाइक पर लेकर चला गया। साढ़े 11 बजे सोनी सिंह सुरेन्द्र को लेकर गया और 1 बजे सोनी सुरेन्द्र को वहीं छोड़कर खुद वापिस अपने घर आ गया। उसके बाद शाम को वह गायब हो गया।

सोनी से हमारी कोई नाराजगी भी नहीं थी : सुरेन्द्र की मां

घर में बैठी अपने बेटे की सलामति की दुआएं मांग रही सुरेन्द्र की मां ने बताया कि सोनी सिंह इसी गांव में विवाहित मेरी बहन का लड़का है उससे तो हमारी कोई नाराजगी भी नहीं थी। सोनी सिंह अक्सर ही मेरे बेटे को मिलने घर आता था और उसे अपना मोबाइल भी खेलने के लिए दे देता था। मैने तो अपनी सपने में भी नहीं सोचा था कि उसकी सगी बहन का लड़का उनके साथ कभी ऐसा करेगा।

सुरिंद्र की फैमिली। सुरिंद्र की फैमिली।
सुरिंद्र की मां। सुरिंद्र की मां।
सुरिंद्र के घर घटना के बाद जमा भीड़। सुरिंद्र के घर घटना के बाद जमा भीड़।
X
जानकारी देते सुरिंद्र के फ्रेंड।जानकारी देते सुरिंद्र के फ्रेंड।
सुरिंद्र की फैमिली।सुरिंद्र की फैमिली।
सुरिंद्र की मां।सुरिंद्र की मां।
सुरिंद्र के घर घटना के बाद जमा भीड़।सुरिंद्र के घर घटना के बाद जमा भीड़।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..