--Advertisement--

तीस सालों में पहली बार दिसंबर में 24.8 MM बारिश, पहाड़ों पर बर्फबारी से और बढ़ेगी ठंड

औसतन 17 एमएम बारिश के बदले सिर्फ एक दिन में ही औसत से ज्यादा बारिश हो गई है।

Danik Bhaskar | Dec 13, 2017, 04:04 AM IST
फाइल फोटो फाइल फोटो

लुधियाना. शहर में पिछले तीस सालों के दौरान इस बार दिसंबर में रिकॉर्ड बारिश हुई। सोमवार सुबह से मंगलवार सुबह तक 24 घंटों के दौरान 24.8 एमएम बादल बरसे। पीएयू मौसम महकमे के मुताबिक पिछले 30 सालों में अभी तक दिसंबर में इतनी बारिश कभी नहीं हुई है। वहीं, इस बार पूरे महीने की औसतन 17 एमएम बारिश के बदले सिर्फ एक दिन में ही औसत से ज्यादा बारिश हो गई है।

इसके अलावा इंडियन मेट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट के रिकॉर्ड के मुताबिक 123 साल पहले 1894 में 25 दिसंबर को 60.55 एमएम बारिश हुई थी। जबकि उसी साल दिसंबर में सबसे हाईहेस्ट बारिश 141 एमएम रिकॉर्ड हुई थी। तीस सालों में दिसंबर के महीने में ज्यादा से ज्यादा 23 एमएम ही बारिश हो पाई है। पीएयू मौसम महकमे के हेड डा. केके गिल के अनुसार 24 घंटों में इतनी बारिश पहली बार हुई है। उनके पास पिछले 30 सालों का रिकॉर्ड है। रिकॉर्ड के मुताबिक आज तक दिसंबर में एक ही दिन इतनी बारिश कभी नहीं हुई है। उनके मुताबिक आने दिनों में अब गहरी धुंध पड़ेगी। सोमवार सुबह से हुई बारिश के कारण नमी की मात्रा काफी बढ़ चुकी है। जिससे गहरी धुंध पड़ेगी।

नमी का अंतर कम होने से सुबह-शाम पड़ेगी धुंध

पीएयू मौसम महकमे के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरा आसमान में बादल छाए रहेंगे, जबकि सुबह और शाम के समय धुंध पड़ेगी। मंगलवार को अधिकतम पारा और न्यूनतम पारे में सिर्फ 3.6 डिग्री का अंतर ही रहा। ऐसे में मंगलवार को भी पूरा दिन आसमान में बादल छाए रहे। वहीं, कुछ इलाकों में शहर से बाहर हल्की बूंदाबांदी हुई। दिन का पारा 16 डिग्री और रात का पारा 12.4 डिग्री दर्ज हुआ। इसके अलावा हवा में नमी की मात्रा में भी जबरदस्त बदलाव आया। सुबह के समय नमी की मात्रा अधिकतम 93 प्रतिशत और दिन के समय 85 प्रतिशत रिकॉर्ड हुई है।

इसका सीधा असर धुंध बढ़ने की ओर होगा। इसके अलावा डब्ल्यूडी(वेस्टर्न डिस्टरबेंस) के चलते पहाड़ी इलाकों में भी जबरदस्त बर्फबारी के कारण इसका सीधा असर मैदानी इलाकों में पड़ेगा। हवाएं भी अब शीतलहर बनकर चलेंगी। ऐसे में लोगों को ज्यादा एहतियात बरतने की जरूरत पड़ेगी। खास कर बुजुर्गों और बच्चों को इस मौसम में खास ध्यान रखना होगा।