--Advertisement--

हिंदू नेता अमित अरोड़ा ने बताया, धमकियां मिलीं, गोली मारी, और मुझे ही बनाया आरोपी

हमले की पूरी जानकारी ली और उसका सारा रिकॉर्ड अपने कब्जे में ले लिया।

Danik Bhaskar | Dec 16, 2017, 06:08 AM IST

लुधियाना. शार्पशूटर की गोली का शिकार बनने के बाद पुलिस की ओर से खुद पर गोली चलवाने का आरोपी बनाए गए हिंदू नेता अमित अरोड़ा से शुक्रवार को एनआईए ने पूछताछ कर बयान नोट किए। एनआईए टीम ने करीब पौना घंटा होटल के बंद कमरे में अरोड़ा से बात की। जिसमें अरोड़ा ने खुद को गोली लगने, उससे पहले मिली धमकियों, पुलिस की ओर से जबरन उसी को आरोपी बनाने की सारी बातें डिटेल में बताने के साथ ही कुछ दस्तावेज भी एनआईए को सौंपे। यह भी बताया जा रहा है कि एनआईए के एक बड़े अफसर की ओर से अरोड़ा को अभी भी अपना ध्यान रखने की बात कही गई है, हालांकि अरोड़ा की ओर से इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की जा रही है। वहीं देर शाम एनआईए की टीम ने थाना डिवीजन नंबर दो में जाकर आरएसएस वर्कर पर हुए हमले की पूरी जानकारी ली और उसका सारा रिकॉर्ड अपने कब्जे में ले लिया। शुक्रवार सुबह पौने दस बजे अमित अरोड़ा होटल पहुंच गए।

एनआईए के आईजी, डीआईजी और डीएसपी ने अरोड़ा से मामले की जानकारी ली। अरोड़ा ने टीम को बताया कि 2 फरवरी 2016 रात को वह रोजाना की तरह फैक्टरी से निकलने के बाद बस्ती जोधेवाल में सूप पीने गया था। वहां उसकी गर्दन पर गोली लगी और उसे सीएमसी हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया। 22 जून को पुलिस ने उसी को आरोपी बनाकर अरेस्ट कर लिया गया। उस पर आरोप लगाया कि गोली चली ही नहीं, उसने सरिये से अपनी गर्दन पर निशान बनाया है। कई दिन उसे इंटेरोगेट करने के बाद जेल भेज दिया गया और अब टारगेट किलिंग के आरोपी पकड़े जाने के बाद सीएम और डीजीपी की ओर से उसे क्लीन चिट मिली है।

सिरिंज से खून निकाल सरिये पर लगाया
अमित की मानें तो उसे अरेस्ट करने के बाद पुलिस कई दिन थर्ड डिग्री टॉर्चर कर उसे खुद पर गोली चलवाने का बयान देने के लिए मजबूर करती रही। लेकिन झूठा बयान देने के लिए वह नहीं माना। उसका आरोप है कि पुलिस ने अपनी कहानी को सही बनाने के लिए सीआईए में एक डॉक्टर को बुला कर सिरिंज से उसका ब्लड निकलवाया और वही ब्लड लोहे के सरिये पर लगा कर सूखने के बाद लैब टेस्ट करवाया और मीडिया को बताया गया कि उसने अपनी सिक्योरिटी बढ़वाने के लिए खुद सरिए से गर्दन पर वार कर निशान बनवाया है। लैब टेस्ट में सरिए पर लगा खून अमित अरोड़ा के खून से मैच हो गया है।

धमकियों के सभी डॉक्यूमेंट और सीडियां ले गई पुलिस
अमितअरोड़ा ने एनआईए की टीम को बताया कि हमला होने से पहले उसे कई बार धमकियां मिली थी। जिसके बारे में उसने थाना पुलिस और मौजूदा सीपी से भी शिकायतें की थी। इन सभी शिकायतों की कॉपियां उसके पास थी, इसके साथ ही मोबाइल पर आई धमकियां की सीडियां भी उसने बनवा कर पुलिस को दी थी और उसकी कॉपियां अपने पास भी रखी थी, लेकिन उसे आरोपी बना कर अरेस्ट करने के बाद पुलिस घर और फैक्टरी की तलाशी लेकर सभी सबूत अपने साथ ले गई।