--Advertisement--

आज भक्त के वश में भगवान, दिल्ली, कोलकाता, वृंदावन से आए 200 टन फूल

दुर्गा माता मंदिर तक पूरे रथयात्रा मार्ग को मनमोहक ढंग से सजाया गया है।

Dainik Bhaskar

Dec 17, 2017, 05:47 AM IST
jaggannath yatra in ludhiana

लुधियाना. आज भगवान भक्त के वश में होंगे। मुरलीधर के सज-धजे रथ को भक्तगण अपने हाथों से खींचेंगे। भगवान जगन्नाथ के स्वागत के लिए शहर में उत्सव का माहौल है। प्रभु के दर्शनाें के लिए सड़कों पर जनसमुद्र होगा। जगराओं पुल स्थित दुर्गा माता मंदिर से लेकर सराभा नगर स्थित नव दुर्गा माता मंदिर तक पूरे रथयात्रा मार्ग को मनमोहक ढंग से सजाया गया है।

बहन सुभद्रा, भाई बलराम के साथ भगवान जगन्नाथ रविवार को फूलों से सुसज्जित रथ पर विराजमान होकर अपने भक्तों को दर्शन देने के लिए निकलेंगे। दोपहर 12 बजे रथयात्रा शुरू होकर घुमारमंडी, आरती चौक, काका मैरिज पैलेस, मल्हार रोड ट्रैफिक लाइटों से होते हुए पीएयू गेट नंबर दो से होते हुए रात करीब 12 बजे तक सराभा नगर स्थित नव दुर्गा माता मंदिर में सम्पन्न होगी। जगत के स्वामी की कृपा पाने के लिए उनके लाखों भक्तों ने बड़े धूमधाम तैयारियां की हैं। भक्ति का ज्वार देखने लायक है। अब इंतजार है तो द्वारिकाधीश की एक झलक पाकर जीवन धन्य कर लेने का।

इस बार दिल्ली, वृंदावन, कलकत्ता से 200 टन फूल मंगवाए गए हैं। इनसे बंगाली कारीगर भगवान जगन्नाथ के लिए फूल बंगले बनाए हैं। इसके अलावा रथ के गुंबद के साथ लगने वाला कनोपी टाइप में कपड़ा कुरुक्षेत्र के इस्कॉन मंदिर से लाया गया। एक दिन पहले ही वहां से आए यजमान इसे लगाते हैं। रथ पर लगने वाला गुंबद पिछले कई सालों से शहर के देवगन परिवार के घर में रखा जाता है।

तकरीबन 4 किलोमीटर के रथयात्रा मार्ग पर इस बार 250 से ज्यादा स्टॉल लगाए जा रहे हैं। बता दें कि 1996 में जब पहली रथयात्रा हुई थी, तक 25 से 30 के करीब ही लंगर के स्टॉल लगते थे। यही नहीं, पहली रथयात्रा में महज 5 हजार लोग जुटे थे, अब प्रभु दर्शनों के लिए 5 लाख से ज्यादा श्रद्धालु उमड़ते हैं। साल दर साल श्रद्धा बढ़ती गई। भगवान के अभिनंदन में एक हजार से ज्यादा फ्लैक्स बोर्ड लगे हैं। रंग-बिरंगी लाइटों से चौक-चौराहे, गली-नुक्कड़

चमचमा रहे हैं। इस बार हर स्टॉल के लिए अलग से जगन्नाथ जी को लड्‌डूओं का भोग लगाने के बाद एक-एक डिब्बा प्रसाद के तौर पर दिया जाएगा।

भक्तजनों को प्रसाद स्वरूप देसी घी के लड्‌डू मिलेंगे। यह घी राजस्थान के पथमेड़ा स्थित प्रसिद्ध गउशाला से मंगाया गया है। रथयात्रा महोत्सव कमेटी ने तीन माह पहले आर्डर दिया था। शहर के पांच परिवार नरेश देवगन परिवार, योगेश गुप्ता परिवार, राजू स्काईलार्क परिवार, वरिंदर शर्मा परिवार और मदन लाल गोयल परिवार की तरफ से लड्डू बनवाने का काम सप्ताह भर पहले से शुरू किया गया था। तकरीबन 11 टन लड्‌डू बनाए गए हैं।

शहरवासियों पर अपनी कृपा बरसाने के लिए आज एक बार फिर भगवान जगन्नाथ जी अपने मनोहर रथ पर सवार होकर दर्शन देने रहे हैं। एक आस वुमन हेल्पलाइन एनजीओ की चेयरपर्सन सिम्मी पाशान की अगुवाई में भगवान जगन्नाथ जी के रथ के साथ-साथ 108 क्वींस ऑफ लॉर्ड जगन्नाथ चलेंगी, जिसमें दस महिलाओं के हाथ में जगन्नाथ जी, दस के पास जागो और पचास महिलाएं डांडिया कर रही होंगी। पाशान ने बताया कि महिलाओं के लिए महरून कलर का ड्रेस कोड रखा गया है, जिसके साथ गले में गाेल्डन सैशे भी डालना जरूरी है। इसके लिए पूरी तैयारी कर ली गई है। महिलाओं के लिए बैच भी तैयार करवाए गए हैं। इसके अलावा छप्पन भाेग का प्रशाद भी साथ में ले जाया जाएगा। फूलों से सजाए गए दस रिक्शा महिलाओं के ग्रुप के साथ ही रहेंगे, ताकि अगर कोई महिला थक जाए तो वह रिक्शा में बैठकर अपनी जगन्नाथ यात्रा को पूरा कर सके। इसके अलावा महिलाओं के आसपास सिक्योरिटी भी रखी गई है।

X
jaggannath yatra in ludhiana
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..