Hindi News »Punjab »Ludhiana» Neeraj Save 8 Friends Efforts

दोस्त का हुआ एक्सीडेंट को फ्रेंड्स करा रहे इलाज, मौसा-मौसी ने इलाज कर दिया था बंद

दोस्ती की मिसाल| नीरज की सेहत के लिए 8 दोस्तों की कोशिशें जारी

Bhaskar News | Last Modified - Jan 22, 2018, 02:45 AM IST

  • दोस्त का हुआ एक्सीडेंट को फ्रेंड्स करा रहे इलाज, मौसा-मौसी ने इलाज कर दिया था बंद
    +2और स्लाइड देखें

    भोपाल.सड़क हादसे में घायल 22 वर्षीय नीरज तिवारी 57 दिन से बेहोश हैं। एक निजी हॉस्पिटल के आईसीयू में भर्ती नीरज की देखभाल मां, पिता या भाई नहीं, बल्कि दोस्त कर रहे हैं। अस्पताल और दवा स्टाेर का बिल भी दोस्त चुका रहे हैं। डेढ़ महीने में युवकों ने अस्पताल में डेढ़ लाख रुपए चंदा करके जमा किए हैं। दोस्तों की जिद नीरज को स्वस्थ देखने की है। ये था मिला...


    तीमारदारी में जुटे रोहित तिवारी ने बताया कि उनकी दोस्ती 15 साल पुरानी है। हायर सेकंडरी तक की पढ़ाई एक साथ हुई। नीरज ने बीकॉम में एडमिशन लिया और मैंने ट्रैवल एजेंसी शुरू कर दी। लेकिन, स्कूल में साथ पढ़े 8 दोस्तों का साथ कभी नहीं छूटा। 2 दिसंबर को जब नीरज के एक्सीडेंट की खबर मिली, उस समय ग्रुप के पांच दोस्तों ने उसे होशंगाबाद जिला अस्पताल में भर्ती कराया। यहां दो दिन चले इलाज से आराम नहीं मिला। नीरज की बेहोशी नहीं टूटी, बल्कि हालत बिगड़ गई।

    नीरज के पिता और भाई से बात कर उसे पालीवाल अस्पताल में वेंटिलेटर सपोर्ट पर शिफ्ट किया। इलाज से नीरज वेंटिलेटर से तो बाहर आ गया, लेकिन होश अब तक नहीं अाया है। वे बताते हैं कि 8 दोस्तों ने चंदा करके अब तक डेढ़ लाख रुपए नीरज के इलाज पर खर्च किए हैं। हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ. जेपी पालीवाल ने बताया कि इलाज खर्च का बिल उसके दोस्तों द्वारा जमा किए जाने की जानकारी मिलने के बाद उन्होंने बिल में एक लाख का डिस्काउंट किया है।

    शुरुआत में ही जमापूंजी खत्म

    मौसेरे भाई विशाल तिवारी ने बताया कि इलाज लंबा खिंचने के कारण मौसा-मौसी होशंगाबाद चले गए। घर खर्च चलाने का जिम्मा नीरज पर था। वह एक प्राइवेट कंपनी में कलेक्शन एजेंट का काम करते थे। लेकिन, हादसे के बाद शुरुआती इलाज में ही परिवार की जमा पूंजी खर्च हो गई। इलाज के लिए अस्पताल में 3 लाख रुपए जमा कर चुके हैं। इतनी ही कीमत की दवाएं नीरज को लग चुकी है।

  • दोस्त का हुआ एक्सीडेंट को फ्रेंड्स करा रहे इलाज, मौसा-मौसी ने इलाज कर दिया था बंद
    +2और स्लाइड देखें
  • दोस्त का हुआ एक्सीडेंट को फ्रेंड्स करा रहे इलाज, मौसा-मौसी ने इलाज कर दिया था बंद
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Ludhiana News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Neeraj Save 8 Friends Efforts
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Ludhiana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×