--Advertisement--

गोल्फ के जुड़वा; पाल ब्रदर्स ने जीते गोल्ड-सिल्वर, 2012 में शुरू किया था खेलना

दोनों भाई बरेशवर पाल और बिशमद पाल के जन्म में सिर्फ एक मिनट का अंतर है।

Danik Bhaskar | Jan 29, 2018, 06:14 AM IST

लुधियाना. मुल्लांपुर दाखा स्थित इंपीरियल गोल्फ एस्टेट में एक दिवसीय जूनियर गोल्फ टूर्नामेंट का आयोजन किया गया। इसमें खास बात ये रही कि इसमें भाग लेने वाले दो खिलाड़ी ऐसे हैं, जिन्होंने गोल्फ में नेशनल लेवल पर गोल्ड मेडल जीते हैं। ये दोनों खिलाड़ी जुड़वा भाई हैं और दोनों ने ही रविवार को गोल्ड और सिल्वर मेडल अपने नाम किया। दोनों भाई बरेशवर पाल और बिशमद पाल के जन्म में सिर्फ एक मिनट का अंतर है।

छोटे भाई बिशमद पाल ने पहली पोजिशन और बरेशवर पाल सिंह ने दूसरी पोजिशन हासिल की। ये दोनों भाई अब फरवरी में चंडी मंदिर में होने जा रही ओपन नेशनल गोल्फ टूर्नामेंट के लिए तैयारियां कर रहे हैं, जिसमें देश भर से 250 खिलाड़ी भाग लेंगे। इस टूर्नामेंट में ये दोनों ही सबसे कम उम्र के खिलाड़ी पहली बार भाग ले रहे हैं।

दोनों ने 2012 में खेलना शुरू किया था गोल्फ

फतेहगढ़ साहिब के रहने वाले बिशमद पाल सिंह ने बताया कि उन्होंने खन्ना के डीपीएस स्कूल में 2012 में गोल्फ खेलनी शुरू की थी। तीन साल तक वे यहीं पर रहे। इससे पहले उन्होंने हॉर्स राइडिंग को भी अपनाया, लेकिन उन्होंने वापस गोल्फ को ही चुना। चंडीगढ़ में उनकी फैमिली शिफ्ट होने पर उन्होंने रायन इंटरनेशनल स्कूल में दाखिला लिया और वहां पर गोल्फ में अपना जौहर दिखाना शुरू किया। उन्होंने पंचकूला में इसी महीने हुए महाराज कृष्णा जूनियर गोल्फ नेशनल टूर्नामेंट में हिस्सा लिया। इसमें उन्होंने गोल्ड मेडल जीता, नॉर्थ जोन गोल्फ टूर्नामेंट पंचकूला में भी गोल्ड मेडल जीता।

सितंबर 2017 में यूपी और हरियाणा में हुई नेशनल गोल्फ चैंपियनशिप में भी उन्होंने गोल्ड मेडल जीता है। इसी तरह उनके जुड़वा भाई बरेशवर पाल सिंह ने नेशनल गोल्फ टूर्नामेंट राजस्थान में गोल्ड मेडल, नॉर्थ जोन महाराज कृष्ण नेशनल जूनियर चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल जीता है। जबकि इस समय ये दोनों खिलाड़ी कोच मंजीत सिंह से कोचिंग ले रहे हैं। इन दोनों भाइयों ने इस गेम को इसलिए चुना था क्योंकि यह एक शांत वातावरण में खेली जानी वाली रॉयल गेम है।