--Advertisement--

इस हफ्ते पुलिस करेगी अवेयर, उसके बाद हॉर्न बजाने पर हो सकता है चालान

सायरन का प्रयोग फायर ब्रिगेड की गाड़ी और एंबुलेंस ही कर सकती है।

Danik Bhaskar | Jan 29, 2018, 06:03 AM IST

चंडीगढ़. शहर में बढ़ते ट्रैफिक, उससे लगने वाले जाम और जाम के चलते बजने वाले हॉर्न से लोग भी और पुलिस भी परेशान है। रोजाना करीब 3 से 4 बुजुर्ग इस बारे में शिकायत करते हैं। अब ट्रैफिक पुलिस ने चंडीगढ़ को हॉर्न फ्री बनाने की पहल की है। इस पहल के तहत अगले पूरे हफ्ते ट्रैफिक पुलिस हॉर्न बजाने वाले लाेगों को रोककर उन्हें अवेयर करेगी। इसकी शुरुआत वीरवार से हो चुकी है।

पुलिस शहर के अलग-अलग हिस्सों में वाहनों के स्टियरिंग पर 'मैं हार्न नहीं बजाऊंगा' का स्टीकर लगा रही है ताकि वे अवेयर हों। करीब 5 हजार से ज्यादा वाहनों पर स्टीकर लगा उन्हें अवेयर किया जाना है। इसके बाद पुलिस शुरुआत में 5 सेक्टरों में बेवजह हॉर्न बजाने पर चालान करेगी। धीरे-धीरे शहर के अन्य 9 सेक्टरों में भी हॉर्न बैन कर दिया जाएगा। ट्रैफिक पुलिस उन लोगों पर भी सख्ती करेगी जिन्होंने अपने वाहनों में मोडिफाई हॉर्न लगाए हैं। नोटिफिकेशन भी जारी हो रही है कि शहर में सिर्फ हूटर सायरन का प्रयोग फायर ब्रिगेड की गाड़ी और एंबुलेंस ही कर सकती है।

1 हजार रुपए होगा चालान
ट्रैफिक पुलिस पहले चरण में पांच सेक्टरों 1, 2, 3, 5 और 12 में, जो ईको सेंसेटिव जोन और साइलेंट जोन के पास है, बिना वजह हॉर्न बजाने पर चालान करेगी। इसका जुर्माना 1 हजार रुपए होगा। इसके बाद स्कूल, धार्मिक स्थल या फिर हॉस्पिटल के आसपास वाले 9 सेक्टरों में चालान शुरू होगा। इनमें सेक्टर-16, 32, 6, 7, 8, 9, 10, 11 अौर 14 शामिल है। इन जगहों के 100 मीटर के दायरे में आप हॉर्न का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे। अगर कोई वाहन चालक हॉर्न बजाते पकड़ा गया तो ट्रैफिक पुलिस उसका चालान कर देगी। उसके बाद पूरे शहर में हॉर्न बजाने पर रोक लगाई जाएगी।


मेरी शहरवासियों से अपील है कि वे बेवजह हॉर्न न बजाएं। इससे ध्वनि प्रदूषण होता है और लोग परेशान भी। शहर को हाॅर्न फ्री बनाकर चंडीगढ़ देशभर में एक मिसाल बनेगा। अभी इसका चालान नहीं किया जा रहा, लेकिन आगे अगर कोई बेवजह हॉर्न बजाता पकड़ा गया, तो उसका चालान भी किया जा सकता है। -शशांक आनंद, एसएसपी ट्रैफिक