--Advertisement--

स्टूडेंट पर दिनदहाड़े तलवारों से हमला, घर में घुसकर बचाई जान

दूसरी वार वारदात | एक दिन पहले ही किए हमले में भी बच गया था एसडी स्कूल का गुरप्रीत

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2018, 03:21 AM IST
युवक के परिवार ने बताया कि हमले में उनके बेटे गुरप्रीत की गाड़ी के सामने का शीशा भी टूट गया। भास्कर युवक के परिवार ने बताया कि हमले में उनके बेटे गुरप्रीत की गाड़ी के सामने का शीशा भी टूट गया। भास्कर

होशियारपुर. शनिवार को शहर में दिनदहाड़े गुंडागर्दी हुई और पुलिस सूचना के बाद भी लेट पहुंची। एसडी स्कूल के 11वीं के छात्र ने किसी के घर में घुसकर जान बचाई। गुरप्रीत पर रंजिश के चलते एसडी कॉलेज के छात्र संघ अध्यक्ष रोहित शर्मा ने साथियों के साथ मिलकर तलवारों से हमला किया। यह तो खुशकिस्मती रही कि गुरप्रीत ने रास्ते में पड़ते एक घर में घुस कर जान बचा ली। प्रगति एन्क्लेव कालोनी के रहने वाले जसवीर सिंह के अनुसार जब हमलवार गाड़ी पर तलवार लहराते हुए उनके बेटे गुरप्रीत का पीछा कर रहे थे तब एक राहगीर ने पुलिस को सूचना भी दी, पर पुलिस हमलावरों को रोक नहीं पाई। इससे पुलिस की मुस्तैदी पर प्रश्न चिह्न लग गया है। उनका आरोप था कि गुरप्रीत पर शुक्रवार को भी हमला हुआ था।

गुरप्रीत ने बताया कि स्कूल में उसके साथ गितांश नामक लड़का भी पढ़ता था, जो उसके साथ रंजिश रखता था। डेढ़ महीने पहले एक बार रोहित के दम पर गितांश ने उसे थप्पड़ मारे थे। इस पर रोहित को कॉलेज से निकाल दिया था, जिससे उसके वे उससे रंजिश रखने लगे थे। जसवीर सिंह ने बताया कि उनका बेटा जब शुक्रवार को स्कूल गया तो भी रोहित शर्मा और उसके दोस्तों ने उसपर हमला किया था। उन्होंने बताया कि उनके बेटे ने मौके पर बड़ी मुश्किल से बाइक पर अपनी जान बचाई। जिसके बारे में उन्होंने पुरहीरा पुलिस चौकी में शिकायत भी दर्ज कारवाई थी। जसवीर का कहना है कि यदि पुलिस ने कार्रवाई की होती तो शनिवार को उनके बेटे पर दोबारा हमला नहीं होता।

बच्चे हमारे घर में न घुसते तो हमलावर काट डालते: सुरजीत

सुरजीत कौर ने बताया कि वह घर के बाहर बैठी हुई थी। एक तेज गाड़ी उनके घर की तरफ आई और तीन युवक डर के मारे बचा लो...बचा लो चिलाते हुए उनके घर में घुस गए। उन्होंने बताया कि उनके परिवार और उनके पड़ोसियों ने हमलावरों को जब ललकारा तो वह वापस लौट गए। सुरजीत कौर ने बताया कि अगर बच्चे उनके घर नहीं घुसते तो शायद हमलावर उनको काट ही डालते। उन्होंने बताया कि उसके बाद उन्होंने बच्चों के घर सूचना दी और फिर उनके परिवार ने पुलिस थाने जाकर शिकायत दर्ज कारवाई।

गाड़ियों में आए हमलावरों ने दोपहर 12 बजे लहराई तलवारें और टकुए

शनिवार को दोपहर करीब 12 बजे जब गुरप्रीत सिंह एग्जाम देकर भाई के साथ गाड़ी पर घर जाने लगा, तो रोहित ने शनिवार को दोबारा गुरप्रीत सिंह, उसके भाई और उसके दोस्त पर तलवारों, टकुए और बेस बैट से हमला कर दिया। हमलावर अपने आप को बिन्नी गुज्जर का साथी बता दहशत डालने की कोशिश भी कर रहे थे। जब गुरप्रीत सिंह एसडी स्कूल से निकला तो रोहित और उसके साथियों ने उसका पीछा शुरू कर दिया और उन्होंने तलवारें लहराते हुए गुरप्रीत की गाड़ी को रोकना चाहा, लेकिन गुरप्रीत ने गाड़ी की स्पीड बढ़ा दी। डीएवी चौक पर हमलावरों ने उसे घेर लिया और हमला कर दिया। हमले में गाड़ी क्षतिग्रस्त हो गई। गुरप्रीत और उसके साथियों को चोटें भी आईं। लेकिन वे गाड़ी भगाने में कामयाब रहे। किसी तरह सुरजीत कौर नाम की महिला के घर शरण लेकर उन्होंने अपनी जान बचाई।

हमलावर पकड़ने के लिए की जा रही रेड : डीएसपी
मामले के बारे में पूछे जाने पर डीएसपी सुखविंदर सिंह ने कहा कि उनको मामले का पता लगा है। हमलावरों को पकड़ने के लिए छापेमारी की गई है। मेडिकल रिपोर्ट, बयान और जांच के बाद, जो भी आरोपी पाया गया, उस पर कारवाई होगी।

X
युवक के परिवार ने बताया कि हमले में उनके बेटे गुरप्रीत की गाड़ी के सामने का शीशा भी टूट गया। भास्करयुवक के परिवार ने बताया कि हमले में उनके बेटे गुरप्रीत की गाड़ी के सामने का शीशा भी टूट गया। भास्कर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..