• Home
  • Punjab
  • Ludhiana
  • बार एसो. चुनाव से सफर शुरू कर मुकाम पर पहुंचे वकील
--Advertisement--

बार एसो. चुनाव से सफर शुरू कर मुकाम पर पहुंचे वकील

जिला बार एसोसिएशन के चुनावों के मद्देनजर वकालत और सियासत का दिलचस्प नाता है, तभी तो सभी राजनीतिक दलों की इस चुनाव...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:20 AM IST
जिला बार एसोसिएशन के चुनावों के मद्देनजर वकालत और सियासत का दिलचस्प नाता है, तभी तो सभी राजनीतिक दलों की इस चुनाव पर नजर रहती है। इत्तेफाक से यहां प्रेक्टिस करने वाले जिन वकीलों की सियासत में गहरी दिलचस्पी रही है, उनमें से कई ने ऊंचा सियासी मुकाम हासिल भी किया।

बार एसोसिएशन के पूर्व सेक्रेटरी व यहां की सियासत का लंबा तजुर्बा रखने वाले एडवोकेट टीपीएस धालीवाल के मुताबिक यहां से सूबे की राजनीति में पहुंचे कई वकील विधायक, सांसद और मंत्री के अलावा अन्य महत्वपूर्ण पदों पर रहे हैं। एक दौर में दविंदर सिंह गरचा सबसे युवा सांसद बने थे। लोकसभा के पूर्व डिप्टी स्पीकर चरणजीत सिंह अटवाल और विधानसभा स्पीकर हरनाम दास जौहर का ताल्लुक भी इसी जिला बार एसोसिएशन से रहा है। उनके बाद सूबे के मुख्य संसदीय सचिव रहे हरीश राय ढांडा ने भी सियासत में खास पहचान बनाई। इनके अलावा सूबे के पूर्व कैबिनेट मंत्री शरणजीत सिंह ढिल्लों, पूर्व मुख्यमंत्री परकाश सिंह बादल के सलाहकार महेशइंदर सिंह गरेवाल, भाजपा नेता सुखमिंदर पाल सिंह गरेवाल, भाजपा के पूर्व जिला प्रधान एचएल सेठी ने भी वकालत के पेशे में रहते हुए सियासी-ट्रैक पर चलकर खास मुकाम हासिल किए। जबकि मौजूद कांग्रेसी कौंसलर अमृतवर्षा रामपाल एडवोकेट पहले भी निगम सदन में रह चुकी हैं।

प्रचार में जुटे उम्मीदवारों के बड़े सियासी ख्वाब , अटवाल, जौहर, ढांडा, गरचा जैसे वकील पहुंचे विधानसभा से संसद तक

दिलचस्प नाता

चरणजीत अटवाल

सीनियर एडवोकेट मालविंदर सिंह घुम्मण बताते हैं कि जिस तर्ज पर स्टूडेंट्स और युवाआें को साथ जोड़ने के लिए राजनीतिक दल उनके विंग बनाते हैं, ऐसे ही वकीलों के बीच उनके लीगल सैल भी बने हुए हैं। जिले में भी कमोबेश सभी प्रमुख दलों के लीगल सैल की कमान उनके समर्थक वकील संभाल रहे हैं। यही सहयोगी संगठन अपने पार्टी के उन उम्मीदवारों के लिए वकीलों के बीच समर्थन जुटाते हैं, जो नगर निगम, विधानसभा व लोकसभा चुनाव लड़ते हैं।


हरनाम दास जौहर

हरीश राय ढांडा

शरणजीत ढिल्लों

सुखमिंदर पाल

अमृतवर्षा रामपाल