Hindi News »Punjab »Ludhiana» टू-पार्ट टैरिफ लागू होने के बाद कंज्यूमर को ही मिला फायदा

टू-पार्ट टैरिफ लागू होने के बाद कंज्यूमर को ही मिला फायदा

पांच रुपए प्रति यूनिट देने का वादा कर सत्ता में आई कांग्रेस सरकार के शासन में बिजली दरों में बढ़ोतरी होने से हर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 03:35 AM IST

पांच रुपए प्रति यूनिट देने का वादा कर सत्ता में आई कांग्रेस सरकार के शासन में बिजली दरों में बढ़ोतरी होने से हर वर्ग के लाेग खफा है। क्योंकि बिजली दरों में 9.33 फीसदी बढ़ोतरी और टू-पार्ट टैरिफ लागू होने से बिजली के बढ़कर आ रहे बिलों से हर कोई परेशान है। बिजली दरों को लेकर हो रही फजीहत पर पंजाब स्टेट पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (पीएसपीसीएल) के चीफ इंजीनियर परमजीत सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके स्पष्ट किया कि टू-पार्ट टैरिफ लागू होना अधिक फायदेमंद है। उन्होंने उदाहरण देते बताया कि पहले 2 किलोवाट के कनेक्शन पर 10 यूनिट खपत होने पर प्रति यूनिट और टैक्स मिलाकर 162 रुपए बनते थे। लेकिन अब यह मात्र 121 रुपये बनने लगे हैं। क्योंकि पहले मिनिमम चार्ज लगाए जाते थे और अब फिक्स चार्ज लगने शुरू हाे गए हैं। उन्होंने कारोबारियों द्वारा लगाए जा रहे आरोपों का खंडन करते दावा किया कि महकमा और सरकार कंज्यूमर के कल्याण के लिए नीति को संशोधित कर रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने बताया कि आगामी धान सीजन के लिए महकमे ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं और बिजली सप्लाई में कोई दिक्कत नहीं आने दी जाएगी। स्टॉफ की कमी के बारे पूछने पर उन्होंने बताया कि जल्द ही लुधियाना, जालंधर और अमृतसर में स्कोडा सिस्टम शुरू होने जा रहा है। इससे जो मुलाजिम वहां काम कर रहे हैं, उन्हें विभिन्न स्थानों पर तैनात कर दिया जाएगा।

सरकारी महकमों से बकाया 45 करोड़ लेने पर भी चल रहा है काम

चीफ इंजीनियर परमजीत सिंह ने बताया कि महकमे का विभिन्न सरकारी महकमों की तरफ करीब 45 करोड़ बकाया है। उन्होंने यह बात सरकार के ध्यान में ला दी है और सरकार के जरिए सभी महकमों पर वसूली के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया गया है।

‘सिर्फ बड़े घरानों को होगा फायदा’

यूसीपीएमए के प्रेसिडेंट इंद्रजीत सिंह नवयुग ने चीफ इंजीनियर के दावों को झूठ का पुलिंदा बताते कहा कि इससे मात्र कुछ बड़े घरानों को ही फायदा होगा और छोटे कारोबारियों को नुकसान। उन्होंने बताया कि इंडस्ट्री को 5 रुपये प्रति यूनिट बिजली देने का वादा करने वाले कैप्टन अमरिंदर सिंह मुख्यमंत्री बनने के बाद सब-कुछ भूल गए हैं। उन्होंने अपील करते कहा कि अगर सूबे की इंडस्ट्री को बचाना है तो कैप्टन अपने मेनिफेस्टो में किए सभी वादे पूरा करें।

छोटे कारोबारी को मिल रही महंगी बिजली

फेडरेशन आफ स्माल इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के प्रेसिडेंट बदीश जिंदल ने कहा कि अगर पावरकॉम वास्तव में सूबे में इंडस्ट्री को बचाए रखना चाहता है तो उसे 5 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से बिजली मुहैया करानी चाहिए। उन्होंने स्पष्ट कहा कि महकमा सभी को बेवकूफ बना रहा है। क्योंकि टू-पार्ट टैरिफ सिस्टम बिजली की ज्यादा खपत करने वाली इंडस्ट्री के लिए तो फायदेमंद है। लेकिन स्माॅल इंडस्ट्री, जो आमतौर पर प्रति दिन करीब 8 घंटे काम चलाती है, उसे करीब 8 रुपए प्रति यूनिट के हिसाब से बिजली पड़ने लगी है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ludhiana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×