--Advertisement--

इंडस्ट्रियल बिल्डिंग्स का होगा सर्वे निगम कमिश्नर ने बनाई कमेटी, ब्रांच भी देगी सहयोग

जॉइंट कमिश्नर अनीता दर्शी को सौंपा जिम्मा, पूरा डाटा जुटा रिकॉर्ड से होगा मिलान।

Danik Bhaskar | Nov 30, 2017, 05:16 AM IST

लुधियाना. सूफियां चौक फैक्टरी हादसे के बाद आखिरकार नगर निगम को शहर में बनीं इललीगल इंडस्ट्रियल बिल्डिंग्स की जांच करने की याद आ गई है। नगर निगम की ओर से शहर के अलग-अलग हिस्सों में बनी इंडस्ट्रियल बिल्डिंगों का सर्वे जल्द करवाया जाएगा। निगम कमिश्नर जसकिरन सिंह ने सर्वे के लिए कमेटी बनाई है। इसकी चेयरमैनशिप जॉइंट कमिश्नर, जोन सी की जोनल कमिश्नर अनीता दर्शी करेंगी। कमेटी जल्द से जल्द इंडस्ट्रियल बिल्डिंग्स का ब्योरा जुटाएगी और इसका निगम रिकॉर्ड से मिलान करेगी। वहीं, अब 760 गज से ऊपर की इंडस्ट्रियल बिल्डिगों को आर्किटेक्ट से बिल्डिंग सेफ्टी स्ट्रक्चर सर्टिफिकेट लेना अनिवार्य होगा। अगर आर्किटेक्ट सर्टिफिकेट नहीं देता तो इमारत को डेंजर्स करार दे दिया जाएगा। शहर में बड़ी तादाद में ऐसी इंडस्ट्रियल बिल्डिंगें हैं, जिनके नक्शे दो से ढाई मंजिला के पास करवाए गए हैं। मगर मौके पर ये बिल्डिंगें पांच-पांच मंजिला बनी हैं।


गौर हो कि इंडस्ट्री एरिया ए में अमरसन पॉलीमर्स आगजनी के बाद गिरी पांच मंजिला बिल्डिंग भी निगम रिकॉर्ड में सिर्फ दो मंजिला थी। 2016 में इस बिल्डिंग की ऊपरी तीन अन्य मंजिलों को कंपाउंड करवाने के लिए 10.35 लाख का चालान डाला गया था। इसकी अदायगी अभी तक निगम को नहीं हो पाई है। इस सर्वे में जहां ये साफ होगा कि शहर में कुल कितनी इंडस्ट्रियल बिल्डिंग्स हैं। वहीं, कितनों के पास फायर की एनओसी है। बिल्डिंग सेफ्टी सर्टिफिकेट है, ये पूरा ब्योरा रहेगा। इंडस्ट्रियल बिल्डिंगों की बात करें तो सुंदर नगर, कल्याण नगर, बाजवा नगर, इंडस्ट्री एरिया ए, इंडस्ट्री एरिया बी, ग्यासपुरा, जनता नगर, जनता नगर की गलियां और अन्य इंडस्ट्रियल एरिया में बनी बिल्डिंगों की जांच पहले होगी।

बिल्डिंग ब्रांच के साथ हाउस टैक्स ब्रांच भी देगी सहयोग

इंडस्ट्रियल बिल्डिंगों के इस सर्वे में इंडस्ट्री मालिकों की ओर से बरती गईं अनियमितताएं सामने आ सकती हैं। बिल्डिंग ब्रांच के इस सर्वे में हाउस टैक्स ब्रांच का भी सहयोग लिया जाएगा। बिल्डिंग ब्रांच ये साफ करेगी कि निगम रिकॉर्ड में ये बिल्डिंग कितनी मंजिला पास है और कितनी बिल्डिंग बिना मंजूरी के बनी हैं। वहीं, हाउसटैक्स ब्रांच ये बताएगी कि बिल्डिंग मालिक ने अपनी प्रॉपर्टी का कितने फ्लोर का प्रॉपर्टी टैक्स भरा या अब तक भरा ही नहीं। इस जांच में इन बिल्डिंगों में पानी का डिस्पोजल है या नहीं ये भी पता चल पाएगा।

कमेटी में ये मेंबर होंगे शामिल

इस कमेटी की चेयरमैनशिप जोनल कमिश्नर अनीता दर्शी के पास रहेगी और उनके साथ बतौर मेंबर एमटीपी, एटीपी हेडक्वार्टर, संबंधित जोन का एटीपी और हाउस टैक्स सुपरिंटेंडेंट रहेंगे।

मलबे की मैन्युअल जांच पूरी, नहीं मिला कोई मानव अवशेष

अमरसन पॉलीमर्स की जमींदोज हुई पांच मंजिला बिल्डिंग के मलबे में लापता हुए तीन फायर ब्रिगेड मुलाजिमों को ढूंढने के लिए नगर निगम की ओर से शुरू की मैन्युअल जांच पूरी हो चुकी है। इस काम पर 20 के करीब मुलाजिम लगाए गए थे। एसई राजिंदर सिंह ने बताया कि इस जांच में किसी भी व्यक्ति की मानव अवशेष नहीं मिला है। गौर हो कि मंगलवार को निगम ने इस मलबे में जेसीबी मशीन भी चलाकर अवशेष ढूंढने की कोशिश की थी।