--Advertisement--

पिलर्स के नीचे मिला अफसर का धड़-सिर, मरने के बाद बेटे ने पत्नी को बोली ये बात

मलबे के नीचे फैक्टरी का केमिकल स्टॉक इसलिए रुक-रुककर भड़क उठती है आग।

Danik Bhaskar | Nov 22, 2017, 02:31 AM IST
राजेंद्र शर्मा सोमवार को आग के दौरान लोगों को बचाने में जुटे थे (बाएं)। दबा मिला उनका सिर(दाएं)। राजेंद्र शर्मा सोमवार को आग के दौरान लोगों को बचाने में जुटे थे (बाएं)। दबा मिला उनका सिर(दाएं)।

लुधियाना. सूफिया चौक में मंगलवार की सुबह लाशें निकलने के साथ शुरू हुई थी। आग से धधकने और धमाकों के बाद धराशायी हुई 5 मंजिला पॉलीमर्स फैक्टरी के मलबे से 5 लाशें निकाली गईं। बतादें कि अब तक 13 लोगों की लाशें निकाली जा चुकी हैं। साढ़े चार बजे पहली लाश फायर मैन विशाल कुमार की लाश निकलने के बाद फिर लाशें निकालने का सिलसिला दोपहर सवा 3 बजे राजेंद्र शर्मा पर थमा, जब उनका सिर मिला। ऐसे मिला धड़...

- फायर अफसर राजेंद्र कुमार सोमवार को आग के दौरान लोगों को बचाने में जुटे हुए थे।
- चार घंटे बाद शाम सवा 7 बजे उनका धड़ पिलर्स के नीचे दबा मिला जिसे काफी मशक्कत लगी।
- 30 घंटे बाद राजेंद्र कुमार का सिर मिला और उनके धड़ को मलबे में से 4 घंटे बाद निकाला।
- उनके कटे हुए सिर को देखते ही वहां काफी लोग घबरा गए थे।

आज भी निकली कई लाशें

- पुलिस कमिश्नर आरएन ढोके ने बताया कि करीब 40% मलबा हटा लिया गया है। पूरी तरह मलबा हटाने में 2-3 दिन और लगेंगे।
- दूसरे दिन फायर मैन विशाल, राजेंद्र कुमार, राजकुमार, चौकीदार घनैहया व वर्कर अमरजोत की लाशें निकाली गईं।
- सुबह से ही आग बीच-बीच में भड़क उठती थी। लापता अपनों की तलाश में परिवार वालों की भीड़ रात से मौके पर इकट्ठा थी।

- लापता लोगों की तलाश में सभी की फैमिली की भीड़ रात से ही मौके पर इकट्ठा थी।

आगे की स्लाइड्स में देखें हादसे की फोटोज...

मलबे में दबा व्यक्ति। मलबे में दबा व्यक्ति।
मृतक फायर अफसर राजकुमार की बहू। मृतक फायर अफसर राजकुमार की बहू।
राजेंद्र शर्मा लोगों की जान बचाते हुए। राजेंद्र शर्मा लोगों की जान बचाते हुए।
कॉल कर हाल बताते हुए। कॉल कर हाल बताते हुए।
अपनों को खोने के दु:ख में रोते हुए। अपनों को खोने के दु:ख में रोते हुए।
Cm अमरेन्द्र सिंह और नवजोत सिंह सिद्धु Cm अमरेन्द्र सिंह और नवजोत सिंह सिद्धु
फायरकर्मी रोते हुए। फायरकर्मी रोते हुए।
फैक्ट्री में लगी हुई आग। फैक्ट्री में लगी हुई आग।
आग बार-बार तेज हो रही है। आग बार-बार तेज हो रही है।
हादसे में बुरी तरह जला व्यक्ति। हादसे में बुरी तरह जला व्यक्ति।
बचाव कार्य में जुटी रेस्क्यू टीम। बचाव कार्य में जुटी रेस्क्यू टीम।
इमारत की जगह है अब मलबे का ढेर। इमारत की जगह है अब मलबे का ढेर।
धराशाई हुई 5 मंजिला इमारत। धराशाई हुई 5 मंजिला इमारत।
दीवार पर पानी डालते हुए लोग। दीवार पर पानी डालते हुए लोग।
राजेंद्र शर्मा का कटा हुआ सिर और हेलमेट। राजेंद्र शर्मा का कटा हुआ सिर और हेलमेट।
बचाव कार्य। बचाव कार्य।
आग बुझाते हुए फायरकर्मी। आग बुझाते हुए फायरकर्मी।
हादसे में 30 से 32 लोग मलबे में दब गए थे। हादसे में 30 से 32 लोग मलबे में दब गए थे।
घमाके में मरने वालों में कुछ लोगों की पहचान कर ली गई है। घमाके में मरने वालों में कुछ लोगों की पहचान कर ली गई है।