लुधियाना

--Advertisement--

फैक्टरी मालिक हुआ अरेस्ट ; धाराएं सख्त, आरोप साबित हुए तो 6 महीने से उम्रकैद तक संभव

धारा 304 के तहत उम्रकैद या 10 साल कैद, 337 में 6 महीने, 338 और 427 में दो साल 285 में 6 महीने कैद हो सकती है।

Danik Bhaskar

Nov 23, 2017, 06:16 AM IST

लुधियाना. धराशायी हुई फैक्टरी के मालिक इंदरजीत सिंह गोला को अरेस्ट कर लिया गया है। वहीं, तीसरे दिन भी मलबा हटाने का काम जारी रहा। 3 फायरमैनों का अभी तक पता नहीं चल पाया है। गोला पर धारा 304 (गैर इरादतन कत्ल) धारा 337-338 (ऐसा काम जिससे किसी की जिंदगी को खतरा हो), 427 (नुकसान) और 285 (जान को खतरे वाले केमिकल का इस्तेमाल) लगाई गई है। इससे पहले जमानती धारा 304-ए (लापरवाही) ही लगी थी। गोला को वीरवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। आरोप साबित हुए तो धारा 304 के तहत उम्रकैद या 10 साल कैद, 337 में 6 महीने, 338 और 427 में दो साल 285 में 6 महीने कैद हो सकती है।

बिल्डिंग में दबे 9 फायर मुलाजिमों में से तीन का अभी तक पता नहीं है। वहीं, बुधवार को जब कांग्रेसी विधायक सुरिंदर डाबर पहुंचे तो गम में डूबे परिजनों का गुस्सा फूट पड़ा। फायर मुलाजिम मनोहर लाल की रिश्तेदार स्वर्णजीत विधायक से बोलीं, ‘सब्ब प्रशासन दी ढिल दा नतीजा ए। जेकर अजेहा किते होर होया हुंदा तां मसां ही 8-10 घंटे लगने सी मलबा हटान च। तुसीं सिर्फ दो क्रेनां लाइयां ने। कुझ होर नईं कर सकदे तां घट्टो-घट्ट साडे बंदेयां दियां लाशां ही सानूं दे देओ।’

Click to listen..