• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • कनिष्क विमान हादसा के 31: ऑपरेशन ब्लू स्टार भी था सैंकड़ों मौतों का कारण

कनिष्क विमान हादसा : ऑपरेशन ब्लू स्टार भी था सैंकड़ों मौतों का कारण

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लुधियाना। 9/11 को अमेरिका पर हुए हमलों से पहले तक कनिष्क विमान धमाका विमान इतिहास में सबसे भयंकर चरमपंथी हमला माना जाता था। आज इस हादसे के 30 साल पूरे हो गए हैं। इस अवसर पर dainikbhaskar.com आपको बताने जा रहा कनिष्क विमान हादसे के कारणों के बारे में। कहा जाता है कि 1984 में स्वर्ण मंदिर से आतंकियों को निकालने के लिए हुई सैन्य कार्रवाई (ऑपरेशन ब्लू स्टार) के विरोध में यह हमला किया गया था।
मांट्रियाल से नई दिल्ली जा रहे एयर इंडिया के विमान कनिष्क 23 जून 1985 को आयरिश हवाई क्षेत्र में उड़ते समय, 9,400 मीटर की ऊंचाई पर, बम से उड़ा दिया गया था और वह अटलांटिक महासागर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस आतंकी हमले में 329 लोग मारे गए थे, जिनमें से अधिकांश भारतीय मूल के कनाडाई नागरिक थे। इसी दिन एक घंटे के भीतर जापान की राजधानी टोक्यो के नरिता हवाई अड्डे पर एयर इंडिया के एक अन्य विमान में विस्फोट किया गया था जिसमें सामान ढोने वाले दो व्यक्तियों की मौत हो गई थी। इस मामले में इंदरजीत सिंह रेयात एकमात्र व्यक्ति है, जिसे दोषी ठहराया गया। जिस समय उसमें बम विस्फोट हुआ, तब वह लंदन के हीथ्रो हवाई अड्डे से क़रीब 45 मिनट की दूरी पर था। कनिष्क विमान ब्रिटेन के समय के मुताबिक सुबह आठ बजकर 16 मिनट पर अचानक राडार से ग़ायब हो गया था और विस्फोट के बाद विमान का मलबा आयरलैंड के तटवर्ती इलाक़े में बिखर गया था।
ऑपरेशन ब्लू स्टार का लिया बदला
दोनों बम वैंकुवर के खालिस्तानी चरमपंथियों ने 1984 के स्वर्ण मंदिर को उग्रवादियों से मुक्त कराने के लिए की गई सैन्य कार्रवाई का बदला लेने के लिए किया था। भारत में खालिस्तान नामक अलग सिख राज्य की मांग के लिए आंदोलन कर रहे दल बब्बर खालसा नामक सिख अलगाववादी गुट के सदस्य मुख्य संदिग्धों में शामिल थे। बब्बर खालसा यूरोप और अमेरिका में ग़ैर-क़ानूनी आतंकवादी समूह के रूप में प्रतिबंधित था। इंदरजीत सिंह रेयात ने टोक्यो हादसे में सूटकेस में बम की जांच करने की बात स्वीकार की और उसे 1991 में 10 साल के लिए जेल की सजा दी गई थी। उसके बाद उसे फिर 5 साल अतिरिक्त जेल की सजा दी गई। यह सजा कनिष्क विमान में लगाए गए बम को बनाने में भूमिका निभाने के लिए दी गई थी। वह 2008 में जेल से छूटा था।
आठ देश हुए थे प्रभावित
राष्ट्रीयतायात्रीकर्मीदलकुल
भारत12122
कनाडा2700270
यूके27027
यूएसएसआर303
ब्राज़ील202
यूएस202
स्पेन202
फिनलैंड101
अर्जेंटीना011
कुल30722329
आगे की स्लाइड्स में देखें संबंधित फोटोज
खबरें और भी हैं...