--Advertisement--

7 टारगेट किलिंग का मामला : नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी की टीम शहर में

आरआरएस की मोहन शाखा के प्रमुख शाखा प्रशिक्षक रविंदर गोसाईं मर्डर केस की जांच शुरू कर दी

Dainik Bhaskar

Nov 18, 2017, 05:22 AM IST
डेमो फोटो डेमो फोटो

लुधियाना. पंजाब में टारगेट किलिंग के 7 मामलों का पुलिस ने 7 नवंबर को सुलझाने का दावा किया था। अब 10 दिन बाद नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी ने बस्ती जोधेवाल में आरआरएस की मोहन शाखा के प्रमुख शाखा प्रशिक्षक रविंदर गोसाईं मर्डर केस की जांच शुरू कर दी। शुक्रवार सुबह एनआईए की टीम के 10 सदस्य लुधियाना पहुंचे। इनमें से तीन अफसर पुलिस कमिश्नर के ऑफिस पहुंचे और दो घंटे तक सभी वारदाताें से संबंधित जानकारी ली। इसमें पास्टर मर्डर कांड, माता चांद कौर, रविंदर गोसाईं के अलावा अमित शर्मा मर्डर केस के वारदात स्थल शामिल हैं। उसके बाद टीम ने टोल प्लाजा, आरोपियों की मोटरसाइकिल बरामद होने वाले स्थान और रूट की जांच की।

वहीं टारगेट किलिंग के मामले में मोगा पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए मुख्य आरोपी जगतार सिंह जौहल को लुधियाना पुलिस देर रात प्रोडक्शन वॉरंट पर लेकर आई। सूत्रों के मुताबिक टीम इस मामले में मोगा से लाए जिम्मी जगतार से भी पूछताछ कर सकती है। अन्य आरोपियों को भी शनिवार को प्रोडक्शन वॉरंट पर लाया जाएगा। इन मामलों में पुलिस ने अभी तक जगतार सिंह यूके, जिम्मी, गैंगस्टर गुगनी, शूटर रमनदीप शेरा, गैंगस्टर मिंटू को गिरफ्तार किया है। जबकि अन्य की तलाश की जा रही है। शुक्रवार को रमनदीप के पिता गुरनाम सिंह को भी सीआईए की पुलिस ने बुला कर पूछताछ की है।

दो दिन के रिमांड पर लिया जगतार
देर रात यूके के जगतार सिंह जौहल उर्फ जग्गी को मोगा से लाकर स्पेशल मजिस्ट्रेट के सामने पेश कर दो दिन का पुलिस रिमांड लिया गया। जगतार को पास्टर मर्डर कांड में पूछताछ के लिए लाया गया है। कोर्ट में पेश करने के बाद सिविल अस्पताल में जगतार का मेडिकल भी करवाया गया है। आरोप है कि वारदातों को अंजाम देने के लिए विदेश से फंडिंग का सारा काम जगतार ही करता था और शेरा से संबंध होने के कारण टारगेट देता था। हथियार भी जगतार ने ही उपलब्ध करवाए थे जो जिम्मी के चचेरे भाई लक्की के द्वारा मंगवाए गए थे और फिर उनके तार गैंगस्टर गुगनी से जुडे़। जबकि गैंगस्टर मिंटू के साथ जगतार के पहले ही संबंध थे। टारगेट किलिंग के मामलों में पुलिस सभी वारदातों को लेकर कड़ी से कड़ी जोड़ने में जुटी हुई है।

एक दिन और जिम्मी से पूछताछ करेगी पुलिस
थाना बस्ती जोधेवाल की पुलिस ने रविंदर गोसाईं मर्डर केस में प्रोडक्शन वॉरंट पर लाए गए आरोपी जिम्मी को डॉ. सुशील बोध की कोर्ट में पेश किया। पुलिस की तरफ से जिम्मी से पूछताछ के लिए 10 दिन का पुलिस रिमांड मांगा था। लेकिन दोनो पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट की तरफ से 1 दिन का पुलिस रिमांड दिया गया है। एसीपी पवनजीत ने सरकारी वकील के माध्यम से कोर्ट से मांग की थी कि जिम्मी के चचेरे भाई लक्की को दो रिवॉल्वर दिलवाए थे और जिम्मी को दोनों रिवॉल्वर के बारे में जानकारी थी। वाघा पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज की थी और लक्की को गिरफ्तार भी किया था। जांच के दौरान पुलिस ने एक रिवॉल्वर बरामद कर लिया था, जबकि दूसरे रिवॉल्वर के बारे में जिम्मी को पता है।

पुलिस ने जिम्मी से दूसरा रिवाल्वर बरामद करवाना है और इसके लिए अलावा इस बात की जांच जा रही है कि जिम्मी आरोपियों को किस तरह से फंड उपलब्ध करवाता था। हालांकि जिम्मी के वकीलों ने पुलिस द्वारा मांगे गए रिमांड का विरोध करते हुए कहा था कि पहले मोगा पुलिस ने जिम्मी को 14 दिन का पुलिस रिमांड लिया और फिर लुधियाना पुलिस भी दो बार रिमांड ले चुकी है। पुलिस जानबूझ कर जिम्मी को रिमांड पर ले रही है। लेकिन कोर्ट ने 1 दिन का रिमांड दे दिया। गौरतलब है कि पुलिस ने जिम्मी को दिल्ली एअरपोर्ट से गिरफ्तार किया था, उसका पुलिस की तरफ से पहले ही लुक आउट सर्कुलर जारी किया हुआ था और जगतार को उस समय गिरफ्तार किया जब वह शादी करवाने के बाद वापस इंग्लैड जाने की तैयारी में था। जम्मू का रहने वाला जिम्मी करीब 18 साल की उम्र में पढाई करने के लिए स्कॉटलैंड चला गया था और पढ़ाई छोडने के कारण वीजा बढ़ने के कारण गैर कानूनी ढंग से इंग्लैड में रह रहा था। पुलिस जांच में पता चला था कि जिम्मी जगतार के आपस में संबंध थे। जगतार सिंह अमलोह के शूटर शेरा को इटली में मिला था। उसके बाद गुगनी के जरिए रमनदीप के साथ संपर्क हुआ। फिर आरोपियों ने साजिश के तहत टारगेट किलिंग को अंजाम दिया।

X
डेमो फोटोडेमो फोटो
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..