Hindi News »Punjab »Ludhiana» Weather Will Remain The Same Till 11 November

पटाखों का धुआं मिक्स होने से 30 दिन पहले पड़नी शुरू हुई धुंध, 11 नवंबर तक ऐसा ही रहेगा मौसम

धुएं को भी कम करने में मदद करेगा, लेकिन पूरी तरह मौसम तभी साफ हो पाएगा जब बारिश होगी।

bhaskar news | Last Modified - Nov 06, 2017, 05:12 AM IST

  • पटाखों का धुआं मिक्स होने से 30 दिन पहले पड़नी शुरू हुई धुंध, 11 नवंबर तक ऐसा ही रहेगा मौसम
    लुधियाना.अक्टूबर महीना पूरा ड्राई निकलने से मौसम पर इसका बहुत ज्यादा बुरा असर पड़ रहा है। वातावरण में पराली और पटाखों का धुआं मिक्स होने से जहां एक ओर नमी बढ़ने लगी है वहीं इसके कारण दिसंबर में पड़ने वाली धुंध 30 दिन पहले पड़ने लगी है। सुबह नमी की मात्रा 92 फीसदी तो शाम को 67 फीसदी रिकॉर्ड हुई। इसका सीधा असर सर्दी बढ़ने पर पड़ रहा। दिन के समय नमी बढ़ने से अब रात को ओस की बूंदें गिरनी भी शुरू हो गई हैं, जो पराली के मिक्स हुए धुएं को भी कम करने में मदद करेगा, लेकिन पूरी तरह मौसम तभी साफ हो पाएगा जब बारिश होगी।
    रविवार को अधिकतम तापमान 27 और न्यूनतम तापमान 17 डिग्री दर्ज हुआ है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार अगले एक सप्ताह तक धुंध गहराएगी। विजिबिलिटी रात को 200 मीटर और दिन को 500 के करीब रहेगी। अगर एयर क्वालिटी इंडेक्स की बात करें तो अभी भी मौसम डेंजर जॉन में चल रहा है। पीपीसीबी के मुताबिक इस समय एयर क्वालिटी इंडेक्स की मात्रा 300 से अधिक चल रही है। अचानक मौसम में आए इस बदलाव के चलते ही रविवार को चौड़ा बाजार में लगने वाले मार्केट में लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी।
    चौड़ा बाजार में गर्म कपड़े खरीदने उमड़े लोग
    सिविल हॉस्पिटल की आई स्पेशलिस्ट डॉ. रिपुदमन का कहना है कि पिछले हफ्ते से ही स्मॉग की समस्या आने लगी है। इससे मरीजों को आंखों में इरिटेशन एलर्जी की दिक्कत रही हैं। वैसे भी दूसरे शहरों की बजाय लुधियाना में काफी पॉल्युशन है। इस कारण लोगों की आंखों में एलर्जी की दिक्कत लगातार रही है। स्मॉग से होने वाली परेशानी से बचने के लिए घर से बाहर निकलते समय चश्मा पहनना चाहिए। ताकि स्मॉग आंखों तक नहीं पहुंच सके।
    रोजाना आंखों की समस्या के 12 के करीब मरीज रहे हैं।
    सिविल हॉस्पिटल के मेडिसन स्पेशलिस्ट डॉ. अविनाश जिंदल का कहना है कि खेतों में जल रही पराली की वजह से फैल रही स्मॉग हार्ट और अस्थमा के मरीजों के लिए मौत से कम नहीं है। क्योंकि इसकी वजह से ऑक्सीजन की कमी हो रही है। जिससे इन मरीजों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है। पिछले दिनों से ऐसे मरीजों की संख्या बढ़ गई है। स्मॉग की वजह से ही रोजाना सिविल अस्पताल में अस्थमा के 20 से 25 मरीज रहे हैं।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ludhiana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×