पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रॉपर्टी डीलर पर फायरिंग का आरोपी नौ दिन बाद नानी के घर से गिरफ्तार

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शिमलापुरी स्थित मैड़ की चक्की के पास गोबिंद नगर में प्रॉपर्टी डीलर शरनपाल सिंह पर फायरिंग के आरोपी पवन कुमार को पुलिस ने 9 दिन बाद रायबरेली के गांव बहरोड़ से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी को ढूंढने के लिए पुलिस की दो टीमों के 10 मुलाजिम सुबह-शाम लगे थे। तीन दिन मशक्कत के बाद उसे पकड़ा गया। अभी उसे लुधियाना नहीं लाया जा सका है। उम्मीद है कि उसे शुक्रवार को लुधियाना ले जाया जा सकेगा। अभी पुलिस आरोपी की ओर से वारदात में इस्तेमाल किए गए असलहा की बरामदगी करना बाकी है। उसकी बरामदगी के लिए पुलिस पूछताछ कर रही है। फिलहाल पुलिस इसकी पुष्टि नहीं कर रही। सूत्रों के मुताबिक पुलिस जल्द प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मामले का खुलासा करेगी।

जानकारी के मुताबिक आरोपी पवन कुमार मूल रूप से रायबरेली का रहने वाला है। मगर पिछले 40 साल के उसके माता-पिता लुधियाना के गोबिंद नगर में परिवार समेत रह रहे हैं। यहां उनके अपने दो मकान हैं। मगर उनके ज्यादातर रिश्तेदार रायबरेली में हैं, जबकि पवन की नानी का घर भी रायबरेली के गांव बहरोड में ही है। फायरिंग के बाद पुलिस की 6 टीमों ने शहर और उसके आसपास के इलाकों में आरोपी की तलाश की, लेकिन कुछ पता नहीं चल सका। फिर जांच में एक व्यक्ति से पता चला कि आरोपी रायबरेली में है। इस पर पुलिस की दो टीमें तीन दिन पहले वहां के लिए रवाना हो गई। टीमों की ओर से वहां पहुंचकर आरोपी के रिश्तेदारों के घरों पर एक-एक कर जाकर चेकिंग और पूछताछ की। पूछताछ में पुलिस को पता चला कि आरोपी अपनी नानी के घर छिपा है। इसके बाद पुलिस ने उसकी नानी के घर को टारगेट कर रेड करके आरोपी दबोच लिया।

3 घंटे तक घेरा डाल आरोपी को पकड़ा
इधर, अस्पताल में शरनपाल को अभी तक नहीं आया होश
एसपीएस अस्पताल में दाखिल जख्मी शरनपाल सिंह शालू को अभी तक होश नहीं आया है। डॉक्टरों उसका इलाज कर रहे हैं। उसके सिर की स्कैन करवाई गई है। घरवालों के अनुसार अभी डॉक्टरों ने थोड़ा इंतजार करने को कहा है। उम्मीद है कि शरनपाल जल्द पहले जैसे ठीक हो जाएगा। शालू के सिर की सर्जरी पहले ही की जा चुकी है। गौर हो कि पुरानी रंजिश के चलते प्रॉपर्टी डीलर शरनपाल सिंह पर इलाके में रहते युवक पवन कुमार ने 22 नवंबर की सुबह फायरिंग कर दी थी। गोली शरनपाल के सिर की पिछली तरफ जा लगी थी। थाना डाबा पुलिस ने पवन कुमार के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

मामला हाईलाइट होने के चलते आरोपी पुलिस के लिए एक चैलेंज बन गया था। उसे जल्द पकड़ना जरूरी हो गया था, लेकिन आरोपी हाथ नहीं आ पा रहा था। मगर जैसे ही उसका सुराग लगा तो पुलिस ने आरोपी को पकड़ने के लिए प्लान तैयार किया। आरोपी को वहम था कि शायद पुलिस को उसके ठिकाने का पता नहीं चल सकेगा। रेड करने वाली टीम की अगुवाई थाना डाबा के सब इंस्पेक्टर जगजीत सिंह ने की। उन्होंने पहले वहां की पुलिस से संपर्क किया। इसके बाद वहां पहुंचकर यूपी पुलिस को अपने साथ लिया। मिली जानकारी के अनुसार रायबरेली में जांच करते हुए पुलिस को पता चला कि आरोपी अपनी नानी के घर है। पुलिस ने उसे पकड़ने के लिए प्लानिंग की। इसके बाद घर को घेरा डाला। घर से बाहर जाने वाले सभी रास्तों पर मुलाजिम तैनात थे। इसी बीच मुलाजिम घर की तरफ बढ़े और एकदम अंदर घुस गए। जैसे ही आरोपी सामने आया तो मुलाजिमों ने उन्हें दबोच लिया।

टीमें कर रही हैं रेड

पुलिस टीमें रायबरेली गई हुई हंै। फिलहाल आरोपी का सुराग लगाया जा रहा है। जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। -एसएचओ पवित्र सिंह, थाना डाबा।

खबरें और भी हैं...