पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एल्डेको का दावा- 2016 में संशोधित कराया था नक्शा

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

एल्डेको कंपनी ने दावा किया है कि उसने अपनी कॉलोनी का नक्शा सन 2011 में पास कराया था, जिसमें इस जगह को कंपनी का स्वामित दिखाया गया था। ये हिस्सा नक़्शे से बाहर दिखाया गया था। इस जमीन में पार्क नहीं दिखाया गया था। फिर 2016 में कंपनी ने यह नक्शा चीफ टाउन प्लानर से संशोधित कराया। इस प्रक्रिया में सारी कानूनी कार्रवाई को धयान में रखा गया था और यह जमीन प्लॉटों में तब्दील करवाई गई। कंपनी ने सारी कॉलोनी का अलग-अलग हिस्सों में विकास किया। इस अगली ज़मीन का डेवलपमेंट बाद में करना था, इसलिए इस पर घास लगवा दी ताकि धूल मिट्टी न उड़े। कंपनी ने इस जगह पर एक सूचना बोर्ड भी लगवाया है, जिस पर लिखा है ‘फ्यूचर डेवलपमेंट’। सभी कॉलोनी निवासियों ने इस सूचना बोर्ड को देखा और पढ़ा हुआ है। हमारे मार्केटिंग वाउचर में भी यह जगह पार्क के तौर पर नहीं दिखाई गई।

यह अगला क्षेत्र हमेशा से प्लाट्स के लिए मंज़ूर था एवं कंपनी की निजी सम्पति है। कंपनी के पास इसे बेचने का हर प्रकार का अधिकार है। कंपनी सबसे अनुरोध करती है कि कोई भी झूठी व गलत बयानबाजी के बहकावे में न आएं। हम अपने कॉलोनी निवासियों से भी प्रार्थना करते हैं कि हमारे प्रतिनिधियों से मिलकर अपनी गलतफहमी दूर करें। ये जानकारी कंपनी के अधिकारियों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दी।

खबरें और भी हैं...