सियासत / कैबिनेट मंत्री रंधावा ने कैप्टन काे भेजी 7 पेज की रिपाेर्ट, कहा-महंगी बिजली अकाली सरकार की देन

सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह- फाइल फोटो। सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह- फाइल फोटो।
X
सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह- फाइल फोटो।सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह- फाइल फोटो।

  • कैबिनेट मंत्री रंधावा ने कैप्टन काे भेजी 7 पेज की रिपाेर्ट, कहा-महंगी बिजली अकाली सरकार की देन

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2020, 07:01 AM IST

पटियाला (राज पारचा). पंजाब में बार-बार बिजली के रेट बढ़ने से जनता परेशान है। अकाली-भाजपा और आम आदमी पार्टी भी महंगी बिजली के मुद्दे पर कैप्टन सरकार काे हर मोर्चे पर घेर रही है। विपक्ष के सवालाें का जवाब देने के लिए सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अकाली सरकार में तलवंडी साबाे, राजपुरा और गाेइंद्रवाल थर्मल प्लांट से समझाैते की फाइलें खंगालने की जिम्मेदारी जेलमंत्री रंधावा काे साैंपी थी। स्टडी के बाद रंधावा ने कैप्टन काे 7 पेज की रिपाेर्ट में लिखा कि महंगी बिजली के लिए अकाली जिम्मेदार हैं। 2010 में अकाली सरकार ने गुजरात माॅडल पर पावर जेनरेशन पाॅलिसी के तहत समझाैता हुआ। निजी कंपनियाें काे फायदा देने को पाॅलिसी के सेक्शन 11 को हटा दिया। इससे बिजली खरीदें या न खरीदंे प्लांटों को सालाना 2700-2700 करोड़ देने पड़ते हैं। अकालियों ने बिना बिजली लिए ढाई साल में ~5000 कराेड़ कंपनियाें काे फिक्स चार्जिस के तहत दिए थे।

पाॅलिसी के तहत 20% बिजली भी मुफ्त नहीं ली
गुजरात पाॅलिसी के सेक्शन 11 के निजी कंपनियाें के साथ 25 साल के लिए समझाैता है। स्टेट के पास खुद के थर्मल प्लांट्स हैं। पैडी सीजन में अधिक जरूरत हाेती है तो प्राइवेट सेक्टर से खरीदी जा सकती थी। पाॅलिसी के हिसाब से काेयला मुहैया कराने पर 20% बिजली मुफ्त भी नहीं ली गई।

मनमाेहन सरकार ने तैयार कराया था पावर परचेज एग्रीमेंट

केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने कहा- मनमाेहन सरकार ने तैयार कराया था पावर परचेज एग्रीमेंट...मनमोहन सरकार में केंद्र ने ही पावर परचेज एग्रीमेंट बनवाया था। इसमें शिअद का रोल नहीं था। कांग्रेस जानबूझकर केस हारकर प्राइवेट कंपनियों के पैसों से जेबें भर रही है। कैप्टन 3 साल में 18 बार बिजली के दाम बढ़ा कमर तोड़ चुके हैं।       -

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना