--Advertisement--

लालच: धूमधाम से शादी करने हार्डवेयर इंजीनियर ने ली 15 लाख की सुपारी, 2 दिन बाद गर्लफ्रेंड के साथ लेना था फेरे; उससे पहले बन बैठा हत्यारा

लुधियाना का मामला, पकड़े जाने के बाद भी इस आस में बैठा है आरोपी

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 05:49 PM IST
Engineer Murdered another for money in Ludhiyana

लुधियाना. दुगरी फेस वन में गुरुवार को आर्किटेक्ट मनदीप सिंह का मर्डर करने वाले 27 साल के आरोपी गुरविंदर सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मामले में उसके साथी 42 वर्षीय अमनपाल को भी पकड़ा है। मामले का मास्टर-माइंड बलविंदर सिंह अभी फरार है। गुरविंदर के मुताबिक, उसे धूमधाम से अपनी शादी रचानी थी, इसलिए बलविंदर के साथ 15 लाख रुपए में मनदीप का मारने का सौदा किया था। बलविंदर ने गुरविंदर को वारदात के बाद 5 लाख और बाकी 10 लाख रुपए एक साल में किश्तों में अदा करने का वादा किया था। हालांकि, उसे महज 22 हजार ही मिले थे। बलविंदर आर्किटेक्ट मनदीप से अपनी बेइज्जती का बदला लेना चाहता था।

बदला लेने के लिए दे दी मौत की सुपारी...

- पुलिस कमिश्नर डॉ.सुखचैन सिंह गिल ने बताया कि आरोपी देर रात पकड़े गए। वारदात में इस्तेमाल रिवॉल्वर व बाइक बरामद कर लिए। बता दें, गुरुवार को आर्किटेक्ट मनदीप को गुरविंदर ने 4 गोलियां मारी थी।

- पुलिस जांच के मुताबिक, मनदीप के बलविंदर की पत्नी से अवैध संबंध थे। मनदीप एक बार उसे 2 दिन के लिए कहीं लेकर चला गया था। बलविंदर उसी बेइज्जती का बदला लेने को मनदीप से रंजिश रखता था।

- पुलिस ने पहले गुरविंदर और बाद में अमनपाल को गिरफ्तार किया। गुरविंदर हार्डवेयर डिप्लोमा होल्डर है। जबकि टैक्सी ड्राइवर अमनपाल ऑटो पार्ट्स कारोबारी बलविंदर का दोस्त है।

पीने-पिलाने से शुरू हुई बात, उकसाया, 6 माह की तैयारी, वारदात करके दिए खाली खोल


- गुरविंदर के मुताबिक, पहले एक ही गली में रहने से उसकी बलविंदर से जान-पहचान थी। अकसर वह बलविंदर के साथ शराब पीता था। बलविंदर को पता था कि गुरविंदर का नर्सिंग कोर्स कर चुकी लड़की से संबंध है और उससे धूमधाम से शादी करना चाहता है।

- बलविंदर ने साजिशन उसे रोजाना शराब पिलानी शुरू की। फिर दोस्ती का वास्ता देकर मनदीप का मर्डर करने को उकसा और 15 लाख देने की बात कही।

- गुरविंदर गर्लफ्रेंड के साथ 14 अक्तूबर को शादी करने वाला था। लिहाजा वह शादी से पहले ही मर्डर कर पैसा लेना चाहता था।

- सौदा तय होने पर गुरविंदर ने रेकी शुरू की। उसको मर्डर के लिए रिवॉल्वर का इंतजाम भी करना था। लिहाजा उसने बलविंदर से 20 हजार रुपए एडवांस लिए। उसने बाद बलविंदर को बताया कि जिससे रिवॉल्वर खरीदनी थी, वह पैसा लेकर भाग गया।

- गुरविंदर की मां जसविंदर कौर दुगरी इलाके में एक प्रॉपर्टी डीलर के घर काम करती है। गुरविंदर को पता था कि प्रॉपर्टी डीलर रिवॉल्वर सिराहने रखकर सोने के बाद सुबह अलमारी में रख देता है। फिर करीब डेढ़ घंटे के लिए धार्मिक स्थान जाता है।

- उसने प्रॉपर्टी डीलर का रिवॉल्वर चुराने की योजना बनाई और बलविंदर ने कारतूसों का प्रबंध कराने का वादा किया। बलविंदर ने किसी जानकार से 32 बोर के 6 कारतूस खरीदे। वहीं गन हाउस मालिक से रिवाॅल्वर चलाने की ट्रेनिंग भी ली।

5 बार किया कत्ल का प्रयास


- गुरविंदर ने 5 बार मनदीप पर हमले की कोशिश की, लेकिन हालात के चलते वह बच जाता था। गुरविंदर हर बार प्रॉपर्टी डीलर के घर से रिवाॅल्वर चुराकर लाता और बाद में कारतूस निकाल उसी रिवॉल्वर वाले कारतूस भरकर वापस रख देता था। बार-बार नाकामी से वह बेचैन था, क्योंकि शादी में समय कम बचा था।

- प्लानिंग के तहत उसने 5 अक्टूबर को आलमगीर गुरुद्वारे के बाहर से जीआरपी के रिटायर्ड कांस्टेबल की बाइक चुराई। जिसे उसने अपने नए घर में रखा।

- गुरविंदर इस हद तक जुनूनी हो चुका था कि अगर गुरुवार को भी नाकाम रहता तो अपनी शादी वाले दिन ही कत्ल करने की ठान चुका था।

- प्लानिंग के तहत गुरुवार को मनदीप जिस साइट पर जाने वाला था, वह आधे घंटे पहले ही वहां पहुंच गया। जैसे ही मनदीप कार में बैठने लगा तो गुरविंदर ने पीछे से उस पर 4 फायर किए। वारदात के बाद उसने दुगरी मार्केट में बाइक खड़ी की और पैदल ही मेन रोड क्रॉस कर ऑटो में बैठ बलविंदर के दोस्त अमनपाल को मिलने गया।

अमनपाल को सौंपे कारतूस के 6 खोल


- बलविंदर ने गुरविंदर पर नजर रखने को अपने दोस्त अमनपाल की ड्यूटी लगाई थी। हालांकि, अमनपाल हमेशा गुरविंदर से मिलते वक्त पहचान छिपाने को मुंह पर कपड़ा बांधे रखता था।

- वारदात से पहले भी सुबह दोनों दुगरी में मिले। वहां अमनपाल ने उसे एक हजार रुपए भी दिए। वारदात के वक्त भी अमनपाल आसपास ही था। फायरिंग के बाद उसने बलविंदर को सूचना दी कि मनदीप अभी जिंदा है, उसे अस्पताल ले गए हैं।

- वारदात के बाद भी अमनपाल ने उसी जगह मिलकर फिर गुरविंदर को एक हजार रुपए दिए। जबकि गुरविंदर ने रिवॉल्वर से कारतूस के 6 खोल निकाल अमनपाल को दिए। फिर वापस जाकर रिवॉल्वर प्रॉपर्टी डीलर की अलमारी में रख दिया। फिर वहां से अपने दूसरे रिश्तेदारों के घर चला गया।

मां का फोन किया इस्तेमाल


वारदात वाले दिन गुरविंदर ने अपना मोबाइल फोन बंद कर मां के पास रख दिया और सारा दिन उसका ही फोन इस्तेमाल करता रहा। वारदात के बाद से वह पांच लाख रुपए लेने को अमनपाल व बलविंदर को लगतार फोन करता रहा। पकड़े जाने के बाद भी गुरविंदर ये आस लगाए बैठा है कि उसे पांच लाख मिलेंगे और उसकी शादी भी उसी लड़की के साथ होगी। गुरविंदर ने जो कपड़े पहन बाइक चुराई थी, उनमें ही वारदात को अंजाम दिया। उसने मास्टर-की से बाइक का लॉक खोला था। बाइक पर लिखा नंबर पुलिस के लिए मेन क्लू बना था।

मोबाइल लोकेशन से पकड़ा गया


पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगाली तो पीड़ित परिवार के लोगों ने आरोपी गुरविंदर को पहचान बताया कि वह उनका पड़ोसी है। फिर पुलिस ने बलविंदर व गुरविंदर के आपसी लिंक की जांच शुरू की। उनकी मोबाइल लोकेशन खंगालने पर दोनों का संपर्क निकला तो पुलिस ने ट्रैप लगा गुरविंदर को गिरफ्तार कर लिया।

बलविंदर की गिरफ्तारी के लिए बनाई टीम


आरोपी बलविंदर की गिरफ्तारी को टीम बनी हैं, जो गुरविंदर को साथ लेकर रेड कर रही हैं। कारतूस के खोल बलविंदर के पास ही हैं, जो उसकी गिरफ्तारी के बाद ही बरामद हो सकेंगे। तभी यह पता लगेगा कि उसने कारतूस कहां से खरीदे थे। बलविंदर ने 5 लाख रुपए का इंतजाम किया हुआ था और बकाया राशि उसने प्रॉपर्टी बेचकर देनी थी।

-डॉ. सुखचैन सिंह गिल, पुलिस कमिशनर

Engineer Murdered another for money in Ludhiyana
Engineer Murdered another for money in Ludhiyana
X
Engineer Murdered another for money in Ludhiyana
Engineer Murdered another for money in Ludhiyana
Engineer Murdered another for money in Ludhiyana
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..