• Home
  • Punjab
  • Ludhiana
  • चीमा चौक के निकट दिल्ली के अटेंशन डायवर्ट गैंग के दो नाबालिग पुलिस ने पकड़े
--Advertisement--

चीमा चौक के निकट दिल्ली के अटेंशन डायवर्ट गैंग के दो नाबालिग पुलिस ने पकड़े

चीमा चौक के निकट लोहा कारोबारी का 10 लाख रुपए व लैपटॉप छीनने की वारदात को अंजाम नई दिल्ली के अटैंशन डायवर्ट गैंग के...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 03:35 AM IST
चीमा चौक के निकट लोहा कारोबारी का 10 लाख रुपए व लैपटॉप छीनने की वारदात को अंजाम नई दिल्ली के अटैंशन डायवर्ट गैंग के नन्हें उस्तादों ने की थी। आरोपी नई दिल्ली से ही मोटरसाइकिल पर वारदात करने के लिए आए और वापस भी मोटरसाइकिल पर ही चले गए। वारदात को अंजाम देने से पहले नन्हें उस्तादों ने कार के इंजन पर कोई ऑयल फेंका, जिस कारण धुआं उठा । इसी बात का बहाना बना कर नन्हें उस्ताद वारदात को अंजाम देकर फरार हो गए। मौके पर पहुंची थाना डिवीजन नंबर 6 की पुलिस ने कारोबारी शिव कुमार के बयान पर मामला दर्ज किया था। एसीपी क्राइम सुरेंदर मोहन की टीम के सीआईए-2 के इंस्पेक्टर राजेश कुमार की टीम ने आरोपियों को नई दिल्ली की मदनगिरी इलाके से पकड़ लिया।

आरोपियों की आयु 17 साल और 15 साल : आरोपियों की आयु 17 साल व 15 साल की है। आरोपियों को कोर्ट में पेश करने के बाद जुवेलियन जेल में भेज दिया। पुलिस ने आरोपियों से लूटी गई 6 लाख 50 हजार रुपए की नकदी व अन्य सामान बरामद कर लिया।

मोटरसाइकिल के नंबर की फुटेज मिलने से हुआ खुलासा

जांच में जुटी पुलिस को मौके से आरोपियों के मोटरसाइकिल के नंबर की फुटेज मिली और आरोपियों की फोटो भी मिली। उसी दिन आरोपी भी लुधियाना में अपनी पेशी भुगतने के लिए आए हुए थे। जिन्हें पुलिस ने माडल टाउन में हुई एक वारदात के संबंध में गिरफ्तार किया था। वारदात के बाद पता चलते ही पुलिस ने इन लाेगों को पकड़ कर पूछताछ की तो उन्होंने इस बात का खुलासा किया, जिससे आरोपियों का सुराग मिला।

ये है मामला

कारोबारी ने पुलिस को दिए बयान में बताया था कि जब वह चीमा चौक से आर के रोड की तरफ जा रहे थे तो काफी समय तक जाम में फंसे रहे। जाम से निकल कर आर के रोड की तरफ गए तो एक दम कार के आगे से धुआं निकला। हेलमेटधारी युवक ने मोटरसाइकिल से उतर कर उन्हें धुंए के बारे में बताया। जैसे ही वह अपने ड्राइवर के साथ मिल कर नीचे उतरे तो हेल्मेट धारी कार में पड़ा बैग उठा कर भाग निकला। बैग में करीब 10 लाख की नकदी, लैपटाॅप व अन्य सामान था। मौके पर पहुंची पुलिस ने मौके से 3 लाख 8700 रुपए की नकदी व लैपटाप बरामद कर लिया था।

पुलिस को नाकों चने चबा दिए दोनाें बाल उस्तादों ने

लुधियाना|लोगों का ध्यान डायवर्ट कर अापराधिक वारदातों को अंजाम देने के आरोप में पकड़े गए नई दिल्ली के मदनगिरी इलाके के रहने वाले दोनों बाल अपराधी शातिर दिमाग के हैं। आरोपियों को पकड़ने के लिए गई इंस्पेक्टर राजेश कुमार की टीम को उन्हें पकड़ने के लिए काफी मुश्कत करनी पड़ी। जिसके लिए पुलिस कमिशनर डा. सुखचैन सिंह गिल ने नई दिल्ली के अाला अफसरों से भी सपंर्क किया और पुलिस की सहायता ली। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नई दिल्ली का यह इलाका बाल अपराधियों को गढ़ माना जाता है। यह बाल अपराधी वारदात को अंजाम देने के लिए अटेंशन डायवर्ट करते है। जिसके चलते वह कार सवार लोगों को कभी कार से तेल लीक करने, पैसे गिरे होेने, कार से आग निकलने, धुआं निकलने या फिर किसी से झूठी जानपहचान निकला कर उनका ध्यान हटा कर उनका कीमती सामान उठा लेते है। उन्हें यह भी मालूम नहीं होता कि बैग में कितनी नकदी है और कितना कीमती सामान है। पुलिस सूत्रों का मानना है कि इस इलाके में 80 प्रतिशत एंडर ऐज बच्चे अपराधों में शामिल है। जो कि पुलिस से डरते नहीं है। एक बाल अपराधी ने तो पुलिस मुलाजिम को जहां तक भी कह दिया कि पुलिस हम से डरती है, हम पुलिस से नहीं डरते। यह हमारा इलाका है, यहां किसी भी तरह की कोई टेंशन नहीं है।