Hindi News »Punjab »Ludhiana» जेईई मेन्स : सुशांत 291, सहज 293 रैंक लेने में रहे सफल

जेईई मेन्स : सुशांत 291, सहज 293 रैंक लेने में रहे सफल

एजुकेशन रिपोर्टर | लुधियाना सीबीएसई द्वारा जॉइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन(जेईई) मेन्स 2018 के रिजल्ट में सुशांत...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:40 AM IST

  • जेईई मेन्स : सुशांत 291, सहज 293 रैंक लेने में रहे सफल
    +2और स्लाइड देखें
    एजुकेशन रिपोर्टर | लुधियाना

    सीबीएसई द्वारा जॉइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन(जेईई) मेन्स 2018 के रिजल्ट में सुशांत सोंधी 295 नंबर के साथ 291 रैंक, सहज अग्रवाल 295 नंबर के साथ 293 रैंक लेने में सफल रहे। इसके अलावा फतह सिंह 285 नंबर के साथ 445 रैंक, प्लाशदीप सिंह 258 नंबर के साथ 1184 रैंक, नंदिनी 231 नंबर के साथ 2604 रैंक लेने में सफल रही। इन स्टूडेंट्स की सफलता पर उनके पेरेंट्स खुशी का इजहार किया है।

    नंबर कम होने पर भी पेरेंट्स ने कभी नहीं किया डिमोटिवेट

    दो साल की पढ़ाई, इसलिए नहीं ज्यादा प्रेशर

    नाम: सुशांत सोंधी

    पिता: सुमंत सोंधी(पंजाबी फिल्मों के डिस्ट्रीब्यूटर)

    माता: मधु सोंधी(हाउसवाइफ)

    लक्ष्य: आईआईटी बॉम्बे या दिल्ली से कंप्यूटर साइंस करना।

    सुशांत ने बताया कि उसने ग्यारहवीं क्लास में जेईई के लिए तैयारी करना शुरु की थी। रायन इंटरनेशनल स्कूल जमालपुर के स्टूडेंट सुशांत ने बताया कि उसने रोजाना 6-7 घंटे पढ़ाई के लिए दिए। छुट्टी के दिन 8-9 घंटे पढा़ई की। दसवीं में 10 सीजीपीए लेने वाले सुशांत ने बताया कि बोर्ड एग्जाम के दौरान ही जेईई मेन्स का एग्जाम था। लेकिन दो साल पढा़ई की थी तो प्रेशर कम लगा। पिता को साइंस में शौक है उन्हीं से ही उसे इंजीनियरिंग की फिल्ड में आने की इंस्पिरेशन मिली।

    नाम: फतह सिंह

    पिता: परमजीत सिंह(पंजाब पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड में एक्स-ईएन)

    माता: हरप्रीत कौर( माता गंगा खालसा कॉलेज में इकॉनॉमिक्स प्रोफेसर)

    लक्ष्य: मेकेनिकल इंजीनियरिंग करना।

    सेक्रेड हार्ट कॉन्वेंट स्कूल सराभा नगर के स्टूडेंट फतह ने बताया कि उसने ग्यारहवीं क्लास में तैयारी करना शुरु की थी। सत पॉल मित्तल स्कूल से दसवीं क्लास की। जिसमें 94 फीसदी अंक हासिल किए। क्रिकेट देखने के शौकीन फतह ने बताया कि उसने कभी पढ़ाई का प्रेशर नहीं लिया। कोई फिक्स समय नहीं था पढ़ने का। रिलेक्स करने के लिए क्रिकेट देखता या फोन चला लेता था। नंबर कम आने पर भी पेरेंट्स ने कभी डिमोटिवेट नहीं किया।

    सफलता के लिए सेल्फ स्टडी काफी महत्वपूर्ण

    नाम: सहज अग्रवाल

    पिता: आलोक अग्रवाल(टेक्सटाइल इंजीनियर)

    माता: शालिनी अग्रवाल(हाउसवाइफ)

    लक्ष्य: आईआईटी बॉम्बे या दिल्ली से कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग करना।

    रायन इंटरनेशनल स्कूल जमालपुर के स्टूडेंट सहज ने बताया कि उसने ग्यारहवीं क्लास में जेईई की तैयारी करना शुरू कर दी थी। दसवीं क्लास में 10 सीजीपीए लेने वाले सहज अग्रवाल ने बताया कि उसे शुरुआत से ही साइंस स्ट्रीम में इंट्रेस्ट रहा है, यह स्ट्रीम उसे काफी पसंद रही है। क्रिकेट खेलने और टीवी देखने के शौकीन सहज ने बताया कि उसने कोचिंग के साथ ही किताबों से तैयारी की। अपने टेस्ट पर पूरा फोकस दिया। सेल्फ स्टडी पर भी पूरा फोकस किया जिससे सफलता मिली।

  • जेईई मेन्स : सुशांत 291, सहज 293 रैंक लेने में रहे सफल
    +2और स्लाइड देखें
  • जेईई मेन्स : सुशांत 291, सहज 293 रैंक लेने में रहे सफल
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ludhiana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×