Hindi News »Punjab »Ludhiana» सीजन खत्म होने के बाद भी माछीवाड़ा मंडी से नहीं उठाई 90 हजार से अधिक बोरियां

सीजन खत्म होने के बाद भी माछीवाड़ा मंडी से नहीं उठाई 90 हजार से अधिक बोरियां

एग्रीकल्चर रिपोर्टर। | श्री माछीवाड़ा साहिब पंजाब में गेहूं का सीजन करीब 20 दिनों पहले ही खत्म हो गया था। इस वक्त...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 04:40 AM IST

एग्रीकल्चर रिपोर्टर। | श्री माछीवाड़ा साहिब

पंजाब में गेहूं का सीजन करीब 20 दिनों पहले ही खत्म हो गया था। इस वक्त अनाज मंडियों में गेहूं की फसल की आमद जीरो है। लेकिन हैरानी की बात यह है कि मंडियों में फसल उठाई न जाने कारण जहां आढ़ती व लेबर परेशान है, वहीं फसल को नुकसान होने का डर भी बरकरार है। स्पेस और प्रबंधों की कमी के चलते फसल मंडियों में खुले आसमान से नीचे पड़ी है। श्री माछीवाड़ा साहिब की छोटी सी अनाज मंडी में अभी तक 90 हजार से अधिक बोरिय़ां पड़ी हैं, जो खरीद एजेंसियों ने अभी तक लिफ्ट नहीं कराई हैं। इस कारण आढ़तियों को फसल की राखी रखनी पड़ रही है। जो लेबर मई के पहले हफ्ते गेहूं के सीजन से फ्री होकर वापस अपने गांव लौट जाती थी, वो सीजन में देरी के चलते परेशान हो रही है। केंद्रीय खरीद एजेंसी एफसीआई ने साथ ही साथ फसल की लिफ्टिंग करा ली थी। लेकिन स्टेट खरीद एजेंसियों के पास पर्याप्त साधन न होने कारण फसल नहीं उठाई जा रही है। इस दौरान अगर मौसम करवट लेता है तो फसल के भीगने से जहां दाना डिस्कलर हो जाएगा, वहीं आर्थिक तौर पर भी नुकसान आढ़तियों को झेलना पड़ेगा।

खुले आसमान से नीचे पड़ी हैं ज्यादातर बोरियां, आढ़तियों के साथ लेबर भी परेशान।

तेजी से चल रहा है लिफ्टिंग का काम

80 हजार से अधिक टन गेहूं की लिफ्टिंग हो चुकी है। 47450 टन की बाकी है। तेजी से काम चल रहा है। स्पेशल भी लगवा दी गई है। दो-तीन दिनों में मंडी खाली हो जाएगी। बाकी जो फसल है, शेडों के नीचे है। किसी तरह के नुकसान का डर नहीं है। अमित बैंबी, एसडीएम समराला

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ludhiana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×