--Advertisement--

कर्ज माफी / ऐलान के 15 मिनट बाद ही किसानों के खातों में पैसे आने हो गए शुरू



कैप्टन ने 25 किसानों को कर्ज राहत सर्टिफिकेट बांट स्कीम के दूसरे चरण की शुरुआत की। कैप्टन ने 25 किसानों को कर्ज राहत सर्टिफिकेट बांट स्कीम के दूसरे चरण की शुरुआत की।
X
कैप्टन ने 25 किसानों को कर्ज राहत सर्टिफिकेट बांट स्कीम के दूसरे चरण की शुरुआत की।कैप्टन ने 25 किसानों को कर्ज राहत सर्टिफिकेट बांट स्कीम के दूसरे चरण की शुरुआत की।

  • 1.9 लाख किसानों का 1771 करोड़ कर्ज माफ
  • आज दोपहर 12 बजे से पहले सभी के खातों में जमा हो जाएंगे

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 05:47 AM IST

पटियाला. किसान कर्ज राहत स्कीम के दूसरे चरण की शुरुआत करते हुए सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शुक्रवार को 4 जिलों के 1 लाख 9 हजार 730 किसानों का कमर्शियल बैंकों से लिया गया 1771 करोड़ का कर्ज माफ कर दिया। इनमें पटियाला, श्री फतेहगढ़ साहिब, लुधियाना और संगरूर जिले के किसान शामिल हैं।

 

समागम में दूसरे चरण की रस्मी शुरुआत करते हुए कैप्टन ने 25 किसानों को कर्ज माफी के सर्टिफिकेट बांटे। खास ये है कि समागम में कैप्टन के कर्ज राहत का ऐलान करने के 15 मिनट बाद से ही किसानों के खातों में पैसे आने भी शुरू हो गए। बैंकों ने भी साथ के साथ कर्ज की राशि काटनी शुरू कर दी। कैप्टन ने दावा किया कि शनिवार 8 दिसंबर दोपहर 12 बजे से पहले सभी किसानों के खातों में पैसे आ जाएंगे। 

 

समागम में पंजाब मंडी बोर्ड के चेयरमैन लाल सिंह ने कहा कि मंडी बोर्ड की तरफ से 750 करोड़ रुपए खर्च कर सूबे की मंडियों का बुनियादी ढांचा सुधारा जा रहा है जबकि गांवों को जोड़ती हर सड़क बनाई जा रही है और पहले पड़ाव के अंतर्गत 2000 करोड़ रुपए खर्च कर 16000 किलोमीटर लिंक सड़कों की मुरम्मत करवाई जा रही है। 

 

5 एकड़ तक के किसानों की कर्ज माफी के लिए भी स्कीम में विस्तार : 

कैप्टन ने कहा, दूसरे चरण में बेजमीने मजदूरों का कर्जा भी माफ किया जाएगा। साथ ही अढ़ाई से 5 एकड़ जमीन वाले किसानों के लिए भी स्कीम में विस्तार करने का ऐलान किया। कैप्टन ने दावा किया कि पहले फेज में सहकारी बैंकों के 3.18 लाख किसानों का 1815 करोड़ का कर्जा माफ किया जा चुका है। अब तीसरे फेज में सहकारी बैंकों से जुड़े 2.15 लाख छोटे किसानों को कर्ज राहत दी जाएगी और चौथे फेज में कमर्शियल बैंकों के 50 हजार 752 छोटे किसानों को।

 

आलू और चीनी के निर्यात के लिए पीएम को चिट्‌ठी :
कैप्टन ने बताया कि उन्होंने शुक्रवार को पीएम मोदी को पत्र लिख अालू अौर चीनी को एक्सपोर्ट सूची में शामिल करने की मांग की है। अगर केंद्र सरकार पंजाब को ये वस्तुएं निर्यात करने की इजाजत दे दे तो सूबे के गन्ना और अालू किसानों को बहुत बड़ा लाभ पहुंचेगा।

 

इजराइल और पीएयू के विशेषज्ञ जल संरक्षण पर काम करेंगे :
कैप्टन ने नकली बीज, कैमिकल पर चिंता जताते कहा, इनकी बिक्री रोकी जा रही है। किसानों को भी जागरूक किया जा रहा है। इसके नतीजे के तौर पर अंतरराष्ट्रीय मापदंड के मुताबिक मानक बासमती पैदा होनी शुरू हो गई है। उन्होंने कहा, इजराइल और पीएयू के विशेषज्ञ मिलकर राज्य में जल संरक्षण पर विशेष ध्यान केंद्रित करेंगे। 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..