फूड वेस्ट से बायोडिग्रेडेबल गमले, गार्डन असेसरीज तैयार कर रहीं नैना

Ludhiana News - फूड वेस्ट को कंपोजिट सोइल में तबदील कर उसे प्रोसेस कर बायोडिग्रेडेबल गमले और गार्डन असेसरीज तैयार कर नैना न सिर्फ...

Dec 04, 2019, 08:27 AM IST
Ludhiana News - naina preparing biodegradable flower pot garden accessories from food waste
फूड वेस्ट को कंपोजिट सोइल में तबदील कर उसे प्रोसेस कर बायोडिग्रेडेबल गमले और गार्डन असेसरीज तैयार कर नैना न सिर्फ लोगों के गार्डन को खूबसूरत बना रही है। साथ ही पर्यावरण को किसी तरह का नुकसान न पहुंचे, यह कोशिश भी कर रही है। ये गमले 4-5 साल में मिट्टी में ही मिल जाते हैं और इनसे पर्यावरण को किसी तरह का नुकसान नहीं होता। घुमारमंडी की नैना ने पीएयू में मंगलवार को शुरू हुए गुलदाउदी शो में स्टॉल लगाया है। उन्होंने 10 साल पहले कुम्हार से मिट्टी की चीजें बनाने की ट्रेनिंग ली थी, लेकिन इतनी मेहनत के बाद भी मिट्टी की चीजों में ज्यादा इनोवेशन न किए जाने की कमी उन्हें खली। इसके बाद उन्होंने इसी क्षेत्र में आगे जाने के बारे में सोचा और अपनी कंपनी का नाम भी कुम्हार ही रखा।

पीएयू में शुरू हुए गुलदाउदी शो में लगाई स्टॉल, बोलीं- कुम्हार के काम में लगने वाली मेहनत को लोगों तक पहुंचाने की रखती हैं सोच

घर में ही तैयार की पहली कंपोजिट सोइल

फूड वेस्ट से कंपोजिट सोइल बनाने का आइडिया घर से ही आया। नैना ने बताया कि उसने घर की छत पर घर के किचन से निकले फूड वेस्ट एक ड्रम में इकट्ठा करना शुरु किया। उसके बाद उसमें मिट्टी डाल कर उसकी खाद तैयार करनी शुरु की। उसके बाद उस मिट्टी से चीजें बनानी शुरु की। नैना ने बताया कि उसके इस कंसेप्ट को काफी पसंद किया जा रहा है। मास्टर डिजाइन वो खुद तैयार करती है। उसके बाद उसके कारीगर हाथों से ही सब कुछ तैयार करते हैं। एक पीस को तैयार करने में ढाई से तीन घंटे का समय लगता है।

खाद तैयार करने में ही लग जाते हैं दो महीने तक

नैना ने बताया कि फूड वेस्ट के मेटिरियल पर निर्भर करता है कि कितने समय में खाद तैयार होगी। कई बार खाद तैयार करने में दो महीने तक भी लग जाते हैं। नैना ने बताया कि जालंधर बाईपास पर वो अपना काम चला रही हैं। उनके बनाए डिजाइन देश के विभिन्न जगहों पर जाते हैं। उनके पास पांच हजार से ज्यादा डिजाइन हैं। जो वो खुद ही डिजाइन करती हैं।

इधर, गुलदाउदी से गुलजार हुआ पीएयू...

लुधियाना| पीएयू में दो दिवसीय गुलदाउदी शो की शुरुआत की गई। डॉ. मनमोहन सिंह ऑडिटोरियम में इस शो की शुरुआत की गई। इसमें विभिन्न तरह की गुलदाउदी की किस्मों को पेश किया गया। 300 से ज्यादा एंट्रीज इस शो के लिए रही, जिसमें 150 तरह की गुलदाउदी रही। पीएयू के फलोरिकल्चर और लैंडस्केपिंग विभाग की ओर से 20 किस्में पेश की गई। इसमें पंजाब मोहनी, मदर टेरेसा, अनमोल,पंजाब गोल्ड, रॉयल पर्पल, पंजाब शिंगार, बग्गी, रतलाम सलेक्शन, बीरबल साहनी, यैलो डिलाइट, केलविन मेंडरिन, केलविन टैटू, रिगन एंपरर, रिगन वाइट, पंजाब श्यामली, विंटर क्विन, गार्डन ब्यूटी, अॉटम जॉय की किस्में पेश की गई।

पीएयू द्वारा प्रसिद्ध पंजाबी कवि भाई वीर सिंह की याद में ये गुलदाउदी शो लगाया जाता है। प्रोग्राम में यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ.बलदेव सिंह ढिल्लों मुख्य मेहमान रहे। फलोरिकल्चर विभाग की हेड डॉ.किरनजीत कौर ढट्ट ने बताया कि 150 तरह की गुलदाउदी के 3000 से भी ज्यादा गमले इस शो में रखे गए हैं। को-अॉर्डिनेटर डॉ. परमिंदर सिंह ने बताया कि गुलदाउदी के 14 तरह की कैटेगरी में प्रतियोगिता रखी गई है। विभिन्न एंट्रीज के इनाम बुधवार को घोषित किए जाएंगे। शो में विभिन्न स्कूल और नर्सरी भी हिस्सा ले रही हैं।

महिलाओं के लिए खास खबर

Ludhiana News - naina preparing biodegradable flower pot garden accessories from food waste
Ludhiana News - naina preparing biodegradable flower pot garden accessories from food waste
Ludhiana News - naina preparing biodegradable flower pot garden accessories from food waste
X
Ludhiana News - naina preparing biodegradable flower pot garden accessories from food waste
Ludhiana News - naina preparing biodegradable flower pot garden accessories from food waste
Ludhiana News - naina preparing biodegradable flower pot garden accessories from food waste
Ludhiana News - naina preparing biodegradable flower pot garden accessories from food waste
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना