पनबस कॉन्ट्रेक्ट मुलाजिमों ने दिया अल्टीमेटम

Ludhiana News - पंजाब रोडवेज पनबस कॉन्ट्रेक्ट वर्कर यूनियन की स्टेट लेवल मीटिंग पंजाब प्रधान रेशम सिंह गिल की अगुवाई में हुई।...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 08:20 AM IST
Ludhiana News - punbus contract medical extended altiamentum
पंजाब रोडवेज पनबस कॉन्ट्रेक्ट वर्कर यूनियन की स्टेट लेवल मीटिंग पंजाब प्रधान रेशम सिंह गिल की अगुवाई में हुई। इसमें पंजाब सरकार पर ट्रांसपोर्ट माफिया को शह देने के कारण ट्रांसपोर्ट पॉलिसी को लागू न करने के आरोप लगाए। मीटिंग में फैसला लिया गया कि 19 जून को चंडीगढ़ में प्रेस कॉन्फ्रेंस, 24 जून को गेट रैलियां और 28 जून को लुधियाना, अमृतसर और जालंधर के बस स्टैंड पर करप्ट अफसरों के पुतले फूंके जाएंगे। वहीं, यूनियन ने अल्टीमेटम दिया है कि 2 से 4 जुलाई को पनबस की सारी बसें बंद कर पंजाब के सभी बस स्टैंड बंद करवाए जाएंगे। 3 जुलाई को पनबस यूनियन और जल सप्लाई यूनियन इकट्ठे होकर सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और मिनिस्टर रजिया सुल्ताना के घर के बाहर रोष रैली करेंगे। वहीं, अगर इससे पहले पंजाब सरकार, ट्रांसपोर्ट महकमा, जल सप्लाई डिपार्टमेंट मुलाजिमों के खिलाफ कोई फैसला लेता है तो ट्रांसपोर्ट डायरेक्टर के दफ्तर के बाहर धरना लगाने के साथ ही पूरे पंजाब के सभी डिपो बंद करके पंजाब में रोष-प्रदर्शन और जाम किया जाएगा। मीटिंग में जोध सिंह, बलजिंदर सिंह, जलौर सिंह, तरसेम सिंह, शमशेर सिंह, बिक्रमजीत सिंह, वजीर सिंह मौजूद रहे।

2 जुलाई से बस स्टैंड बंद करा बसों का करेंगे चक्का जाम

12 साल बाद भी पक्का नहीं कर रहे मुलाजिमों को

यूनियन के जिला जनरल सेक्रेटरी भगत सिंह भगता ने बताया कि सरकार ने कच्चे मुलाजिमों को पक्का करने का वादा किया था, लेकिन आउटसोर्स वर्करों को 10 से 12 साल हो जाने बाद भी पक्का नहीं किया जा रहा। पनबस की कर्जा मुक्त बसें रोडवेज में शामिल कर ली गईं, लेकिन कर्जा उतारने वाले स्टाफ को ठेकेदारी सिस्टम से बाहर नहीं निकाला। रोडवेज के बेड़े में 2407 बसें थी, जो अब 397 रह गई हैं। इससे पता चलता है कि सरकार रोडवेज को बंद करने की तैयारी में हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि अफसर वर्करों को एमएसीटी केसों में 50 हजार रुपए प्रति केस नाजायज कटौती करके ठेकेदार को प्रॉफिट दे रहे हैं। ठेकेदारी सिस्टम में पनबस को हर साल करीब साढ़े 7 करोड़ रुपए जीएसटी के नाम पर नुकसान हो रहा है। पनबस के रुपए बस स्टैंडों के कंप्यूटरीकरण और नई टैप मशीनों के नाम पर नाजायज इस्तेमाल करने की तैयारी हो रही है, ताकि मोटा कमीशन मिल सके। पनबस मुलाजिम विरोध करते हैं तो उल्टे-सीधे आरोप लगाकर पुराने वर्करों को निकाला जाता है। इस कारण मजबूरन उन्हें संघर्ष करना पड़ रहा है। इसके बाद भी उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी।

X
Ludhiana News - punbus contract medical extended altiamentum
COMMENT