• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Ludhiana News The Accused Used To Allow Firing Of Their Children As Well As Training The Marks Of Bullets Found In The Walls Of The House

आरोपी अपने बच्चों को भी फायरिंग करने की देता था ट्रेनिंग, घर की दीवारों में मिले गोलियों के निशान

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सरपंच रुपिंदर गरेवाल ने बताया कि हर बार एसएचओ उसका असलहा जमा होने की बात कहते थे। आरोपी पुलिस को पटियाला के गन हाउस में जमा कराने की बात कहता था। लेकिन पुलिस ने उससे रसीद नहीं ली। एक तरफ एसएचओ कहते थे असलहा जमा है। दूसरी तरफ रोजाना आरोपी फायरिंग करता था। मंगलवार और बुधवार को भी आरोपी की रुपिंदर के साथ गाली-गलौच हुई थी। इस दौरान उसने 7-8 हवाई फायर किए थे।

रुपिंदर ने आरोप लगाया कि पुलिस और आरोपी की मिलीभगत थी। इसी का नतीजा निकला कि आरोपी ने उसके चाचा बलवीर की हत्या कर दी। रूपिंदर ने बताया कि यदि शिकायतें आने पर पुलिस एक्शन लेते हुए असलह जब्त कर लेती तो वारदात न होती। उसका आरोप है कि दो बार एसएचओ खुद आरोपी के घर गए। लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया। रुपिंदर के अनुसार आरोपी हरियाना से कारतूस खरीदकर लाता था।

रूपिंदर के पिता गुरनाम सिंह ने बताया कि थाने में बुधवार शिकायत की गई तो उन्होंने हेड कांस्टेबल से आरोपी से असलह लेकर आने को कहा। नवनियुक्त एसएचओ से बुधवार सुबह बातचीत की गई। सुबह करीब साढ़े आठ बजे हेड कांस्टेबल हरजीत सिंह आरोपी के घर गया। लेकिन चाय पीकर उससे बातें करके बिना असलह लिए चला गया। इसके बाद आरोपी घर की छत से खड़े होकर गाली-गलौच करने लगा। इसी दौरान एकदम आरोपी ने फायरिंग शुरू कर दी।

आरोपी राइफलों-पिस्टलों के साथ फोटो खिंचवा फेसबुक पर करता था अपलोड
आरोपी रोजाना 2-3 फायर करता था। वह कभी हवाई फायर तो कभी किसी न किसी चीज में गोलियां मारता रहता था। जबकि आरोपी अपने घर की दीवार में भी गोलियां मारता था। उसकी दीवार में 30 के करीब गोलियां फंसी हुई है। जबकि अंदर कई निशान भी है। गांव के लोगों के अनुसार आरोपी अपने बच्चों को भी असलह पकड़ा देता था। जबकि उनके सामने फायर करके उन्हें ट्रेनिंग देता रहता था। जबकि उसकी प|ी भी कई बार कार में राइफल लेकर बैठती थी। जबकि आरोपी खुद भी अपनी अलग अलग राइफलें पिस्टलों समेत फोटोज खिंचवाकर फेसबुक पर डालता रहता था।

मुलाजिम को फोन पर फायरिंग की आवाजें सुनाईं, पर एक घंटे बाद आई पुलिस
रुपिंदर ने बताया कि आरोपी द्वारा छत पर खड़े होकर गाली गलौच करने और अपनी राइफल से गोली मार देने की धमकियां देने पर उसने हेड कांस्टेबल हरजीत सिंह को फोन कर जानकारी दी। उसने आरोपी से जान का खतरा बता उसके द्वारा फायरिंग कर देने की बात कह वापस आने को कहा। मोड़ पर होने के बावजूद वह नहीं आया। इसी बीच अचानक फायरिंग शुरू हुई तो रूपिंदर ने उसे बोला कि फायरिंग की आवाजें सुने, आरोपी ने हमारा बंदा मार देना है आप आ जाओ। मुलाजिम फोन पर फायरिंग की आवाजें सुनता रहा। एक घंटे बाद पुलिस आई। जबकि घटना स्थल से थाने की दूरी 15 मिनट की है। वारदात के 10 मिनट बाद आरोपी वहां से फरार हो गया।

आरोपी के घर में तोड़फोड़
वारदात के बाद आरोपी भाग निकल, तो गुस्साए लोगों ने उसके घर की तोड़फोड़ की। उन्होंने घर में खड़ी कार के शीशे तोड़ दिए। रूपिंदर अनुसार इसी दौरान आरोपी प|ी आई और उसने धमकाते हुए कहा कि गलती से भी किसी चीज को हाथ मत लगा देना। रुपिंदर अनुसार आरोपी के कई बड़े तस्करों व कुख्यात अपराधियों के साथ लिंक है। वह अक्सर इसी बात की धमकियां भी देता रहता था। जिसे लेकर पुलिस जांच कर रही है।

बुधवार रात को थाने में ड्यूटी अफसर था। सुबह एसएचओ ने घर जाते समय आरोपी के घर जाकर असलहा जमा कराने को कहा था। आरोपी ने भी कहा था कि वह जमा करवाकर रसीद दे देगा। इसके बाद सरपंच ने फोन कर घटना की जानकारी दी। इसके बाद मैं मौके पर पहुंचा तो वारदात हो चुकी थी। -हरजीत सिंह, हेड कांस्टेबल।

खबरें और भी हैं...