आवेदकों के डॉक्यूमेंट तो दूर अब पुराने डीएल भी नहीं है सेफ

Ludhiana News - चंडीगढ़ रोड स्थित बने ऑटोमेटिड ड्राइविंग टेस्ट सेंटर पर लाइसेंस बनाने के लिए आने वाले लोगों के डॉक्यूमेंट के साथ...

Dec 04, 2019, 08:25 AM IST
Ludhiana News - the documents of the applicants are far away even the old dl is not safe
चंडीगढ़ रोड स्थित बने ऑटोमेटिड ड्राइविंग टेस्ट सेंटर पर लाइसेंस बनाने के लिए आने वाले लोगों के डॉक्यूमेंट के साथ साथ पुराने डीएल भी सेफ नहीं है। ऑटोमेटिड ड्राइविंग टेस्ट सेंटर की पहली मंजिल तीन कमरे बने हंै। उनके साथ ही वहां एक छोटी से जगह छोड़ी हुई है जहां पर आवेदकों के अटेस्ट किए हुए फोटो सहित डॉक्यूमेंट पड़े हंै। इन डॉक्यूमेंट को किसी कमरे में सेफ तरीके से नहीं, बल्कि अनसेफ तरीके से कबाड़ बनाकर बरामदे में फेंका हुआ है। डॉक्यूमेंट के उपर ही पुराने लाइसेंस का लिफाफा भी रखा हुआ है। जिसमें ढेरों पुराने लाइसेंस रखे हुए हंै। इनकी निगरानी के लिए भी कोई व्यक्ति वहां तैनात नहीं है और न ही किसी को इस बात की चिंता है कि आवेदकों के डॉक्यूमेंट का किसी भी समय दुरुपयोग हो सकता है। ऐसा ही कुछ हाल आरटीए आॅफिस में बने स्मार्ट चिप कंपनी के आॅफिस का भी है। जहां पर आवेदकों की ओर से डीएल (ड्राइविंग लाइसेंस) बनवाने के लिए दिए डॉक्यूमेंट को फेंका हुआ है। ये वो डॉक्यूमेंट है जो आवेदक आरसी या डीएल बनवाने के लिए जो जमा करवाते हैं। उसे स्कैन करके आवेदक को वापिस करने का प्रावधान है। लेकिन ऐसा न कर उनके जरूरी दस्तावेजों को ऐसे ही फेंका हुआ है। एसडीएम अमरजीत सिंह बैंस से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि आवेदकों को वह डॉक्यूमेंट साथ में ले जाने के लिए कहते है परंतु वह नहीं लेकर जाते। डॉक्यूमेंट के लिए अलग से कमरा बनाया गया है। जहां बात डॉक्यूमेंट को बरामदे में रखने की है इस संबंधी उन्हें जानकारी नहीं है। इस मामले संबंधी जांच करवाएंगे। स्मार्ट चिप कंपनी के इंचार्ज इकबाल सिंह ने बताया कि उनके पास एक हफ्ते की फाइलें स्कैनिंग के लिए आई थी। इन्हें उठाने के लिए सरकारी काॅलेज फार ब्वाॅयज की बैक साइड बने ऑटोमेटिड ड्राइविंग टेस्ट सेंटर के क्लर्क रविंदर सिंह को दो बार कह चुके है। दोबारा फिर से इन डॉक्यूमेंट को कहना पड़ेगा। शायद व्यस्त होने के कारण वह नहीं आ पाए।

कागज को वापस करने का है प्रावधान

अगर आप अपना डीएल या आरसी बनाते हैं तो पंजाब सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक आपके सभी डॉक्यूमेंट चेक किए जाएंगे। चेक करने के बाद उसे स्कैन कर आपको वापस कर दिए जाएंगे। आपके डॉक्यूमेंट पूरी तरह से अटेस्टेड होते हंै। कर्मचारी की ओर से डॉक्यूमेंट को अपने कंप्यूटर में सेव कर लिया जाता है। जिसके बाद उनके जिम्मेदारी बनती है कि वह इसे संभाल कर रखंे और इसका गलत इस्तेमाल न होने दें।

वापस लें रिकॉर्ड

अगर आप आरसी या डीएल बनवाते हैं तो आपकी ओर से जो भी डॉक्यूमेंट सर्टीफिकेट या अन्य प्रूफ दिया जाता है उसे स्कैन होने के बाद ज़रूर वापस लंे। नहीं तो आपके डॉक्यूमेंट का गलत इस्तेमाल न हो सके।

X
Ludhiana News - the documents of the applicants are far away even the old dl is not safe
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना