लुधियाना / 3 घंटे करता रहा दोस्त के उठने का इंतजार, फिर थाने जा बताया, मर गय मेरा यार ले आओ उसे



मंदीप सिंह मंदीप सिंह
X
मंदीप सिंहमंदीप सिंह

  • लुधियाना में 3 बहनों के इकलौते भाई की नशे से मौत, पिछले माह हुई थी शादी
  • मंदीप नशा नहीं करता था, टेस्ट करने के चक्कर में जान गई 

Dainik Bhaskar

Jan 12, 2019, 04:28 AM IST

लुधियाना. दुगरी इलाके के प्लॉट में वीरवार रात ड्रग ओवरडोज से युवक की मौत हो गई। 3 घंटे तक उसका दोस्त शव के पास बैठा उसके उठने का इंतजार करता रहा। फिर उसने खुद पुलिस को जाकर बताया। पुलिस ने मुल्लांपुर के मंदीप सिंह (24) की लाश पोस्टमार्टम के बाद परिवार को सौंप दी। 174 की कार्रवाई की है। 

 

मंदीप के पिता अजैब सिंह ने बताया कि उनकी 3 बेटियां है, जोकि शादीशुदा है और चौथा बेटा मंदीप था। मंदीप लेबर करता था। अकसर वह सीसीटीवी कैमरे लगाने वाले दोस्त दविंदर के साथ जाता था। वीरवार सुबह 10 बजे दविंदर उनके घर आया और कहा कि दुगरी में उसे किसी के कैमरे लगाने हैं। वह मंदीप को अपने साथ ले गया।  रात 8 बजे तक मंदीप घर नहीं लौटा। उन्होंने उसे 120 फोन किए लेकिन फोन नहीं उठाया। रात 9.30 बजे उन्हें थाना दुगरी के एसएचओ का फोन आया कि उनके बेटे की तबीयत खराब है, लुधियाना पहुंचें। जब आए तो पुलिस ने उन्हें मोर्चरी ले गई, जहां उनके बेटे का शव पड़ा था।

 

उन्होंने बताया कि मंदीप की गत 9 दिसंबर को शादी हुई थी। शादी के बाद वीरवार को पहले दिन वह काम पर गया था। उसकी पत्नी को जब पता चला तो बेसुध हो गई और बार-बार मंदीप नूं बुलाओ...मंदीप नूं बुलाओ... की रट लगाने लगी। अभी उसके हाथों से मेहंदी भी नहीं उतरी थी।

 

पुलिस के मुताबिक रात पौने 9 बजे दविंदर उनके पास आया और बताया कि वो दोनों दोपहर 2 बजे प्लॉट में बैठ गए थे। मंदीप नशा नहीं करता था, लेकिन उसने कहा कि वो भी टेस्ट करेगा। शाम 6 तक दोनों ने नशा किया। दविंदर खुद तो ठीक रहा लेकिन मंदीप बेहोश हो गया। दविंदर को लगा कि वह नशे में है, लिहाजा उसके उठने का इंतजार करता रहा। रात 9 बजे तक जब वो नहीं उठा तो पुलिस के पास गया। जहां उसने कहा कि मेरा यार मर गया, ओहनूं लै आओ। इसके बाद पुलिस प्लॉट में पहुंची, जहां से उन्होंने मंदीप को उठाया। उसकी जेब से आधार कार्ड मिला, जिससे उसका नाम-पता मिला। उसके मोबाइल को चेक किया तो उसमें 120 मिस कॉल्स थीं। 

COMMENT