मालेरकोटला

--Advertisement--

मुहब्बत दिल में नफरत को कभी रहने नहीं देती... कलाम पेश किए

भास्कर संवाददाता| मालेरकोटला पंजाब उर्दू अकादमी की ओर से निसाई अदब कल-आज-और-कल विषय पर राष्ट्रीय मुशायरे का...

Dainik Bhaskar

May 03, 2018, 02:40 AM IST
मुहब्बत दिल में नफरत को कभी रहने नहीं देती... कलाम पेश किए
भास्कर संवाददाता| मालेरकोटला

पंजाब उर्दू अकादमी की ओर से निसाई अदब कल-आज-और-कल विषय पर राष्ट्रीय मुशायरे का आयोजन किया गया। जिसमें देश के विभिन्न राज्यों से आए शायरों ने अपने कलाम से दर्शकों को मनोरंजन किया। पंजाबी उर्दू अकादमी की सचिव डॉ. रूबीना शबनम ने बताया कि मुशायरे में शायरों ने देश के बटवारे से पहले व आज के समय के मालेरकोटला पर अपने कलाम पेश किए।

मुशायरे की शुरूआत सबीहा संभल ने कसीदे पढ़कर की गई। इस मौके पर शायरों की ओर से सारे अपनों की शरारत है तबाही में मेरी, आप किस किस को ये इलजाम ए तबाही देंगे, क्या जाने कब उतरने लगे वो दिमाग पर, कोई जनऊ का वक्त मुकर नहीं हुआ, मुहब्बत दिल में नफरत को कभी रहने नहीं देती, ये वो शह है जो किसी शह की कमी रहने नहीं देती आदि कलाम पेश किए गए। इस मौके पर डॉ. निगार अजीम, चश्मा फारूकी, डॉ. निकहत फारूक नजर, अंजुम बिहार शमसी, कमर कदीर, रजिया हैदर खान, साजिया उमैर, सयद बशीर उल हसन, वफा नकवी, सुभाष गुप्ता, शफीक, मोहसीन उसमानी, शबनम ईसाई, सफीना आदि उपस्थित थे। (जमाली)

मालेरकोटला में मुशयरे के दौरान अपने कलाम पेश करते शायर।

X
मुहब्बत दिल में नफरत को कभी रहने नहीं देती... कलाम पेश किए
Click to listen..