मोगा

  • Hindi News
  • Punjab News
  • Moga News
  • निगम की सफाई संबंधी रेटिंग के वेरिफिकेशन के बाद मिलेगी ग्रांट
--Advertisement--

निगम की सफाई संबंधी रेटिंग के वेरिफिकेशन के बाद मिलेगी ग्रांट

गत तीन वर्षों से केंद्र सरकार द्वारा शुरू किए स्वच्छता अभियान को मिल रहे खराब परफार्मेंस के बाद अब केंद्र सरकार ने...

Dainik Bhaskar

May 03, 2018, 02:45 AM IST
निगम की सफाई संबंधी रेटिंग के वेरिफिकेशन के बाद मिलेगी ग्रांट
गत तीन वर्षों से केंद्र सरकार द्वारा शुरू किए स्वच्छता अभियान को मिल रहे खराब परफार्मेंस के बाद अब केंद्र सरकार ने सिटी डेवलपमेंट के लिए दी जाने वाली ग्रांट के साथ शहर के सफाई अभियान को जोड़ दिया है। इसके लिए तय मानकों के अनुसार नगर निगम को स्वयं रेटिंग देनी होगी, उसके वेरिफिकेशन के बाद ही केंद्र उस अनुसार ग्रांट जारी करेगा।

यहां बता दें कि केंद्र ने पहले से इस ग्रांट के लिए चल रही मुफ्त सुविधाओं को बंद करने की रखी शर्तों को भी ज्यूं का त्यूं रखा हुआ है। अब जो केंद्र ने स्टार रेटिंग रखी है, उसमें वन से सेवन तक की रेटिंग निगम को खुद को देनी होगी। स्वच्छता अभियान को सख्ती से लागू करने के लिए केंद्र ने इस रेटिंग को रखा है। इस रेटिंग अनुसार शहर को कचरामुक्त बनाना है। खुले में शौच से मुक्त बनाना है, कचरे को प्रोसेसिंग प्लांट तक ले जाना है और वेस्ट प्लांट को चलाना है। अब स्वच्छ भारत अभियान के तहत होने वाले कार्यों को निगम को रोजाना करने होंगे।

स्वच्छता अभियान को सख्ती से लागू करने के लिए केंद्र ने रेटिंग की शर्त लगाई, उसी के आधार पर ग्रांट भी जारी करेगा

इस प्रोजेक्ट में इन कामों को किया गया शामिल

इस रेटिंग प्रोजेक्ट में जिन कामों को शामिल किया गया है, उनमें डोर टू डोर कचरा कलेक्शन, सफाई, वेस्ट मैनेजमेंट, डंपों को कवर करना जरूरी है। यहां बता दें कि यही काम स्वच्छता सर्वे में जरूरी होते हैं।

सफाई मुलाजिमों की कमी यूं तो मोगा नगर निगम बाकी निगमों को मुकाबले अमीर निगमों में आंका जाता है। मोगा नगर निगम की आमदनी लाभ वाली है परंतु निगम की बचत हर साल घाटे की भेंट चढ़ने लगी है, क्योंकि प्राॅपर्टी टैक्स, पानी व सीवरेज के बिलों की कलेक्शन में निगम का परफारमेंस ठीक नहीं है। यही नहीं गत पांच सालों से समाप्त हुए हाउस टैक्स के 3 करोड़ के बकाए को रिकवर करने में निगम नाकाम रहा है। सफाई कर्मियों की भी कमी है। इस समय निगम के पास जितने सफाई कर्मी हैं वो शहर का 65 प्रतिशत हिस्सा ही साफ करने की क्षमता रखते हैं, परंतु ड्यूटियां लगाने की मिस मैनेजमेंट के चलते शहर 50 प्रतिशत भी साफ नहीं हो पाता। इस समय पक्के सफाई कर्मियों की संख्या 385 है और मोहल्ला सेनिटेशन में 41 हैं, जबकि 170 की और जरूरत है।

स्टार रेटिंग की होगी वेरिफिकेशन

इनमें हम अभी बहुत पीछे | इस प्रोजेक्ट में जो काम तय किये गए है, उनमें हम अभी बहुत पीछे हैं।



इसमें नगर निगम में डोर टू डोर कचरा कलेक्शन, सफाई, वेस्ट मैनेजमेंट, खुले में शौच से मुक्त, कवर डंपों संबंधी खुद को रेटिंग देगा, जिसकी वेरिफिकेशन के बाद नोटिफिकेशन होगी।

ग्रांट के लिए यह करना होगा


कमियों को दूर कर रहे हैं : मेयर

नगर निगम के मेयर अक्षित जैन ने कहा कि अभी हम सेग्रिगेशन अवेयरनैस कर रहे हैं। कुछ कमियां हैं, उन्हें दूर किया जा रहा है।

X
निगम की सफाई संबंधी रेटिंग के वेरिफिकेशन के बाद मिलेगी ग्रांट
Click to listen..