पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मानसिक तौर पर परेशान नौंवी कक्षा के छात्र ने घर में फंदा लगा दी जान

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मानसिक तौर पर परेशान 17 वर्षीय छात्र ने फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। शनिवार की अलसुबह दादी पोते को चाय देने के लिए कमरे में गई तो शव को फंदे से लटकता देख शोर मचाया और पुलिस को सूचित किया।

पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे में लेकर सरकारी अस्पताल में पहुंचा दिया है। थाना मैहना के एसएचओ कश्मीर सिंह ने बताया कि गांव दाता के कुलवंत सिंह ने पुलिस को दिए बयान कहा कि उसका 17 वर्ष का बेटा रवनीत सिंह जब अढ़ाई महीने का था तो प|ी से विवाद के चलते दोनों में तलाक हो गया था। जबकि बेटा उसने अपने पास रखा था। उसने अपनी माता नछतर कौर व पिता बलविंदर सिंह के साथ मिलकर बेटे का पालन पोषण किया। बेटा नौंवी कक्षा में पढ़ता था। लेकिन कुछ समय से मानसिक तौर पर परेशान रहता था। शुक्रवार रात को खाना खाने के बाद वह अपने कमरे में सोने चला गया। सुबह लगभग चार बजे उसकी माता नछतर कौर ने चाय बनाई और उसे देने के बाद पोते रवनीत सिंह को चाय देने उसके कमरे में गई तो पोते के शव को फंदे से लटकता देखा। इस पर शोर मचाया और परिवार के लोग इकट्ठे हो गए। इसके बाद सुबह पुलिस को सूचित किया गया। पुलिस ने शव को फंदे से उतारा।

संदिग्ध हालात में बच्चे की मौत, पिता ने कहा- ससुरालियों ने मार डाला

मोगा | पिछले कुछ महीनों से पति के साथ हुए विवाद के चलते प|ी 1 साल के बेटे के साथ मायके में रह रही थी। शनिवार को संदिग्ध हालात में बच्चे की मौत हो गई। बच्चे के पिता को मौत के बारे में पता चला तो वह ससुराल पहुंचा और ससुरालियों पर हत्या करने का आरोप लगाया। थाना बाघापुराना के एएसआई बलवीर सिंह ने बताया कि गांव नंगल वासी गुरप्रीत सिंह ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि ससुरालियों ने बेटे को मार डाला।

खबरें और भी हैं...