• Home
  • Punjab News
  • Nangal News
  • बीबीएमबी में 25% पदों में कटौती करके 40% आउटसोर्सिंग से की जा रही है भर्ती : यशपाल
--Advertisement--

बीबीएमबी में 25% पदों में कटौती करके 40% आउटसोर्सिंग से की जा रही है भर्ती : यशपाल

भास्कर संवाददाता | नंगल सिटी बीबीएमबी की मान्यता प्राप्त यूनियन स्टेट एलोकेटेड इंप्लाइज यूनियन की एक बैठक...

Danik Bhaskar | May 31, 2018, 02:40 AM IST
भास्कर संवाददाता | नंगल सिटी

बीबीएमबी की मान्यता प्राप्त यूनियन स्टेट एलोकेटेड इंप्लाइज यूनियन की एक बैठक यूनियन के अध्यक्ष यशपाल सिंह की अध्यक्षता में हुई। इस बैठक में बीबीएमबी मैनेजमेंट की कर्मचारी विरोधी नीतियों और कर्मचारियों की अधूरी पड़ी मांगों को लेकर भविष्य में सख्त फैसले लेने पर विचार किया गया। यूनियन नेताओं ने कहा कि अगर प्रबंधन ने उनकी मांगों को गंभीरता से नहीं लिया तो वे मैनेजमेंट के कर्मचारी विरोधी चेहरे को लेकर एक पत्र तैयार करके जल्द ही विधानसभा स्पीकर राणा केपी सिंह, सांसद प्रोफेसर प्रेम सिंह चंदूमाजरा तथा केंद्रीय मंत्री को सौंपेंगे।

इस मौके पर जानकारी देते यूनियन के प्रेस सचिव अजय शर्मा ने बताया कि मैनेजमेंट एक तरफ को मैनेजमेंट केंद्र सरकार का नाम लेकर कर्मचारियों की संख्या ज्यादा बता कर 25 % पदों में कटौती कर रही है। वहीं दूसरी तरफ 40 % कर्मचारियों को आउटसोर्सिंग के माध्यम से रखा जा रहा है। 60 साल पूरे कर चुके कुछ कर्मचारियों को रिटायर होने के बाद भी कांट्रैक्ट पर एक्सटेंशन दी जा रही है, वह भी निम्न वर्ग के कर्मचारियों के साथ बहुत बड़ा मजाक है। यशपाल ने कहा कि पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पीएसइबी में क्लेरिकल के प्रमोशन के लिए पेपर नहीं लिए जाते हैं। वहीं बीबीएमबी ने कर्मचारियों को प्रमोट करने के लिए पेपर रखे हैं। इन्हें तुरंत वापस लिया जाना चाहिए। इसके अलावा मैनेजमेंट ने लोटा या फिक्स टीए में से एक को बंद करने का जो फैसला लिया है, उसके इस फैसले को तुरंत वापस लेने की मांग भी करती हैं। वहीं उन्होंने यह भी कहा कि विभाग के कुछ उच्च अधिकारी चोर दरवाजे के माध्यम से अपने चहेतों को खुश करने के लिए नौकरी पर भी रखवा रहे हैं। आउटसोर्सिंग के माध्यम से रखे जा रहे कर्मचारी के लिए कोई विज्ञापन नहीं निकाला जा रहा है। यही नहीं विभाग में ज्यादातर कर्मचारी 30 से 35 साल एक ही सीट पर काम करके रिटायर हो रहे हैं लेकिन उन्हें प्रमोशन नहीं दिया जा रहा है। 10-15 साल से प्रमोशन पोस्टों को नहीं भरने के चलते अब इन्हें खत्म किया जा रहा है। स्टाफ में हेल्पर तथा फील्ड स्टाफ की कमी के कारण सही ढंग से काम नहीं हो रहे हैं। वही कर्मचारियों पर काम का बोझ बना हुआ है। वहीं प्रबंधन पर काम करने वाले कर्मचारियों को गोल्ड मेडल से वंचित रखने का आरोप भी लगाया। यूनियन प्रतिनिधियों ने बताया की अपने चहेतों को गोल्ड मेडल दिलवाए जा रहे हैं। इस मौके पर शरणजीत सिंह, मदन गोपाल कौशल, होशियार सिंह राणा, निर्मल कुमार,चंद्र मोहन सहोड़,राजेंद्र कुमार, मनजीत कुमार, संतोष सिंह, निर्मलजीत, गुरनाम सिंह, सिकंदर सिंह, अंकुर आदि उपस्थित थे।

जानकारी देते स्टेट एलोकेटेड इंप्लाइज यूनियन पदाधिकारी।