--Advertisement--

संदोआ ने पकड़े 13 वाहन, पुलिस तक पहुंचे सिर्फ 7

बुधवार के हरसा बेला की जायज खड्ड में हलका विधायक अमरजीत सिंह संदोआ ने छापा मारकर जो 13 वाहन पकड़कर प्रशासन व माइनिंग...

Dainik Bhaskar

Jun 08, 2018, 02:45 AM IST
बुधवार के हरसा बेला की जायज खड्ड में हलका विधायक अमरजीत सिंह संदोआ ने छापा मारकर जो 13 वाहन पकड़कर प्रशासन व माइनिंग विभाग के हवाले किए थे, उनमें से पुलिस के पास सिर्फ 7 वाहन ही पहुंचे हैं। बुधवार को जब संदोआ ने हरसा बेला खड्ड में छापा मारा था तो उन्होंने बड़े सख्त तेवरों के साथ प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाते हुए नाजायज माइनिंग होने की बात कही थी। अब पुलिस द्वारा सिर्फ 7 वाहन दिखाए जाने पर संदोआ का कहना है कि उन्होंने 13 वाहन पकड़कर प्रशासन को सौंपे थे, बाकी वाहनों का क्या हुआ, वह प्रशासन से पूछेंगे।

दूसरी ओर, संदोआ ने जिस जगह नाजायज माइनिंग होने की शंका जाहिर की थी और नियमों के विपरीत जाकर 50-50 फीट के गड्ढे किए जाने की बात कही थी, प्रशासन जांच का हवाला देकर उस जगह पर किसी भी किस्म की माइनिंग होने से ही इंकार कर रहा है। पुलिस व रेवेन्यू विभाग के अधिकारी तो कार्रवाई की जानकारी दे रहे है पर माइनिंग विभाग इस पूरे मामले पर चुप है।

लीपापोती

हरसा बेला माइनिंग खड्ड में विधायक की कार्रवाई के बाद माइनिंग विभाग मामले पर ‘रेत’ डालने में जुटा

जहां संदोआ ने अवैध माइनिंग की बात कही, वहां अवैध माइनिंग नहीं हो रही : तहसीलदार

जब तहसीलदार डीपी पांडे से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हलका विधायक अमरजीत सिंह संदोआ ने चल रहे पानी में और एक जगह पर जहां पोकलेन खड़ी थी, दोनों जगह नाजायज माइनिंग होने की बात कही थी। हमारे मिनती में पानी वाली जगह और जहां मशीन खड़ी थी, वे दोनों जगह अप्रूवड नंबरों से बाहर हैं लेकिन इन दोनों जगहों पर माइनिंग नहीं होने की बात सामने आई है। चलते पानी में भी माइनिंग नहीं हुई है और जहां पोकलेन खड़ी थी, वहां कोई गड्ढा दिखाई नहीं दिया जिससे लग सके कि वहां माइनिंग हुई। जो गड्ढे पड़े है, वे पुराने हैं।

4 पोकलेन व 3 टिप्पर पुलिस को सौंपे : माइनिंग अफसर

माइनिंग अधिकारी पूजा से बात करने पर उन्होंने कहा कि हमने चार पोकलेन व तीन टिप्पर पुलिस को दिए थे। बाकी हमने रिपोर्ट जीएम माइनिंग को भेज दी है। जब उनसे रिपोर्ट के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि वह कहीं बाहर हैं, बात नहीं हो सकती।

माइनिंग विभाग के रवैए से सच्चे नजर आते हैं संदोआ के आरोप

इस पूरे मामले में माइनिंग विभाग की कार्रवाई संदेह के घेरे में है क्योंकि बुधवार को भी माइनिंग विभाग से संबंधित किसी भी व्यक्ति ने फोन नहीं उठाया था। वीरवार को माइनिंग अधिकारी पूजा व एक और कर्मचारी ने फोन तो उठाया पर मामले की पूरी जानकारी देने को लेकर अपनी असमर्थता जाहिर की। माइनिंग के कर्मचारियों द्वारा मामले की जानकारी देने को लेकर आनाकानी करना। विधायक संदोआ के आरोपों सच साबित करने के लिए काफी है। संदोआ ने आरोप लगाए थे कि माइनिंग विभाग की देखरेख में ही इलाके में नाजायज माइनिंग हो रही है।

माइनिंग विभाग ने हमें सिर्फ 7 वाहन दिए, अभी एफआईआर दर्ज नहीं हुई : एसएचओ

थाना प्रभारी सन्नी खन्ना से बात करने पर उन्होंने कहा कि माइनिंग विभाग ने हमें सिर्फ 7 वाहन दिए हैं। बाकी कार्रवाई माइनिंग विभाग ने करनी है। अभी तक कोई एफआईआर नहीं हुई। सिर्फ वाहन ही जब्त किए गए हैं। बाकी माइनिंग विभाग जो रिपोर्ट बनाकर भेजेगा, उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..