• Home
  • Punjab News
  • Nangal News
  • हॉट बिलियंस ही नहीं, जालसाजों ने चीफ रेस्टोरेंट को भी खाने का ऑर्डर देने के बाद ओटीपी पूछकर ठगा
--Advertisement--

हॉट बिलियंस ही नहीं, जालसाजों ने चीफ रेस्टोरेंट को भी खाने का ऑर्डर देने के बाद ओटीपी पूछकर ठगा

नया नंगल के हॉट बिलियंस से 51600 रुपए की ऑनलाइन ठगी की बात सामने आने के बाद अब जालसाजों ने नंगल के एक मशहूर चीफ...

Danik Bhaskar | May 23, 2018, 03:00 AM IST
नया नंगल के हॉट बिलियंस से 51600 रुपए की ऑनलाइन ठगी की बात सामने आने के बाद अब जालसाजों ने नंगल के एक मशहूर चीफ रेस्टोरेंट के मैनेजर से 9670 रुपए की ठगी की है। हॉट बिलियंस से शनिवार को ठगी हुई थी जबकि चीफ रेस्टोरेंट तो उससे भी एक दिन पहले शुक्रवार को ठगा गया था। लेकिन दोनों रेस्टोरेंट मालिक बात को छुपा गए कि खामख्वाह मजाक उड़ेगा। हॉट बिलियंस रेस्टोरेंट के मालिक से बातचीत के बाद जब ठगी की खबर मंगलवार को छपी तो मंगलवार को चीफ रेस्टोरेंट ने अपनी ठगी के बारे में बताया।

हॉट बिलियंस और चीफ रेस्टोरेंट से ऑनलाइन ठगी होने से साफ है कि ठग गिरोह सरगर्म है। वहीं शहर के अमूल सॉफ्ट कार्नर और सिंधवानी स्वीट शॉप पर भी ठगों के फोन आए पर अखबार में खबर पढ़ने के कारण चौकसी के चलते ये दोनों बच गए।

ट्रूकॉलर पर दोनों फोन नंबर राजस्थान के | हॉट बिलियंस को जालसाज का 9928442578 और चीफ रेस्टोरेंट में 7220889602 नंबर से फोन आया। ट्रूकॉलर पर चेक करने पर दोनों फोन नंबर राजस्थान के शो होते हैं।

साइबर क्राइम के साथ मिलकर ठगों को ढूंढेंगे : एसएसपी संधू | एसएसपी राजबचन सिंह संधू का कहना है कि वह अपनी सीआईएसएफ की टीम को साइबर क्राइम टीम के साथ लगाकर ठग गिरोह का पता लगाएंगे। उन्होंने जिले के व्यापारियों को संदेश दिया कि वह फोन पर अपने पेटीएम व बैंक अकाउंट की जानकारी किसी को न दें। हो सके तो पेटीएम का उपयोग सामने बैठे ग्राहक व फोन पर जानकार से ही लेनदेन करें। ओटीपी नंबर हमारे उपयोग के लिए होता है, उसको किसी को देने का सवाल ही पैदा नहीं होता। हम लोगों को सचेत करने के लिए मुहिम भी चलाएंगे।

मैनेजर ने 4 बार ओटीपी नंबर बताए, ठगों ने 5670, 1770, 180 व 2050 रुपए िनकलवाए

चीफ रेस्टोरेंट के लीज होल्डर रोहित सूरी ने बताया,‘शुक्रवार को रेस्टोरेंट में ग्राहक काफी आते हैं। सुबह से टेबल बुकिंग शुरू हो जाती है। मैं बुकिंग के अनुसार तैयारी करवा रहा था कि इस दौरान 7220889602 से फोन आया। फोन करने वाले ने खाने का ऑर्डर दिया और कहा कि आप पांच मिनट में खाना पैक करवाकर बिल बनवा दें। साथ ही उसने कहा कि मैं ऑनलाइन पेमेंट करूंगा। मैंने मैनेजर राजेश शर्मा से कहा कि वह पेमेंट ट्रांसफर करवा ले और मैं फिर काम में लग गया। मैनेजर ने करीब 3300 रुपए का बिल बनाया। जालसाज ने फोन पर मैनेजर से पेटीएम नंबर मांगा। काम करते-करते मेरे ध्यान में आया कि खाने का आर्डर करने वाले ने तो पांच मिनट में खाना ले जाने की बात कही थी पर अब तो आधा घंटे से अधिक समय हो गया है और वह फोन पर मैनेजर से बातें कर रहा है। मुझे उसी समय लगा कि यह कोई फ्रॉड है। उसने बड़ी चालाकी से मैनेजर से ओटीपी नंबर मांगा। ओटीपी की बात मेरे कानों में पड़ी तो मैंने मैनेजर से कहा कि ओटीपी नंबर मत देना। मैनेजर बोला कि मैंने तो उसे चार बार ओटीपी नंबर दे दिया है। मैंने झट से फोन से पेटीएम कोड बदलना शुरू किया पर इतने समय में जालसाज ने पेटीएम से 9670 रुपए निकाल लिए थे। मेरा एक मैसेज तो इस टेंशन में डिलीट हो गया पर तीन एंट्री मेरे पास हैं जिनमें एक में से 5670 रुपए, दूसरी में 1770 रुपए व तीसरी ट्रांजेक्शन में 180 रुपए और 2050 रुपए चौथी ट्रांजेक्शन में निकाले। हमने खाना पैक कर दिया था पर खाना ले जाने कोई नहीं आया। बाद में हमने किसी और नंबर से फोन किया कि मैं राजेश बोल रहा हूं और मैं आपका बस स्टैंड पर इंतजार कर रहा हूं। उधर से फोन पर जवाब मिला कि कोई बात नहीं, मैं देखता हूं और उसने फोन काट दिया। रोहित ने कहा कि मैं हैरान हूं कि मेरा मैनेजर काफी तेजतर्रार है, वह जालसाज की बातों में कैसे आ गया। रोहित ने हैरानी जताई कि जालसाज ने कोई पेमेंट नहीं डाली पर उसने पहला ओटीपी मैसेज कैसे भेज दिया। मैंने इसकी कोई शिकायत नहीं की।’