• Hindi News
  • Punjab
  • Nawashahar
  • Nawanshahr News 5 private hospitals will also get cashless treatment facilities only 5 members of the eligible family will be covered

5 प्राइवेट अस्पतालों में भी मिलेगी कैशलेस इलाज की सुविधा, पात्र परिवार के 5 मेंबर ही कवर होंगे

Nawashahar News - आयुष्मान भारत योजना (नेशनल हेल्थ बीमा) के तहत जिले के आर्थिक रूप से कमजोर गरीब परिवारों के हेल्थ कार्ड बनाने का काम...

Aug 02, 2019, 08:35 AM IST
आयुष्मान भारत योजना (नेशनल हेल्थ बीमा) के तहत जिले के आर्थिक रूप से कमजोर गरीब परिवारों के हेल्थ कार्ड बनाने का काम तेजी से शुरू हो गया है। इसके तहत एक परिवार को 5 लाख रुपए तक निशुल्क हेल्थ कवर मिलेगा। इसके लिए इस कैटेगरी में आते नीले कार्ड धारक, जे-फार्म हासिल करने वाले किसान, छोटे व्यापारी, उसारी मजदूर, मनरेगा वर्कर आदि एक से 20 अगस्त तक जिले में बने 116 काॅमन सर्विस सेंटर पर जाकर 30 रुपए देकर अपना कार्ड बनवा सकेंगे। इस स्कीम में सरकारी अस्पतालों के अलावा जिले के 5 प्राइवेट अस्पतालों को भी शामिल किया गया है, जहां लोगों को उपचार मिल सकेगा। इन अस्पतालों में भी कार्ड बनाने का काम किया जा रहा है। कार्ड बनवाने के लिए लोगों को अपने साथ राशन कार्ड व आधार कार्ड साथ लेकर जाना पड़ेगा। इस स्कीम में परिवार के 5 सदस्यों को शामिल किया गया है, जो इस हेल्थ कवर स्कीम का फायदा ले सकेंगे।

बता दें कि मोदी सरकार ने फरवरी 2019 को पेश बजट में इस स्कीम को शुरू किया था लेकिन पहले पंजाब ने इसे नहीं अपनाया, अब मुख्यमंत्री द्वारा इसी महीने इस स्कीम का पूरे पंजाब में शुरूआत करके गरीब लोगों को इसका फायदा पहुंचाया जाएगा। इस स्कीम में 70 से 80 प्रतिशत लोगों को शामिल करने की प्लानिंग है। हर जरूरतमंद परिवारों को अस्पताल में इलाज करवाने के लिए पांच लाख रुपए की राशि नेशनल स्वास्थ्य सुरक्षा बीमा के तहत सरकार द्वारा दी जाएगी। स्कीम के तहत सिविल सर्जन डॉ. रजिंदर प्रसाद भाटिया ने स्कीम की शुरूआत करते हुए सिविल अस्पताल में दस लाभपात्रों को ये कार्ड जारी किए। मीटिंग में सामाजिक भलाई अफसर डाॅ. सुखविंदर सिंह, डाॅ. राजरानी, डाॅ. नीना आदि शामिल थे।

नीला कार्ड धारक, छोटे व्यापारी व किसान, उसारी मजदूर, मनरेगा वर्कर बनवा सकते हैं यह कार्ड

जिले की 75 %आबादी का ‘आयुष्मान भारत’ के तहत होगा 5 लाख का मुफ्त इलाज

ये हैं प्राइवेट अस्पताल जहां लोग करवा सकेंगे अपना इलाज

आयुष्मान भारत योजना में जिले के 6 सरकारी अस्पतालों (नवांशहर, बंगा, बलाचौर, राहों, मुकंदपुर व सड़ोया) के अलावा जिले के 5 प्राइवेट अस्पतालों को भी शामिल किया गया है, जहां लोगों को उपचार मिल सकेगा। जिले में नवांशहर के आईवीवाई, राजा व सरब अस्पताल और बंगा के कर्ण व दृष्टि अस्पताल में इस स्कीम के तहत मुफ्त इलाज करवाया जा सकता है।

हर प्रकार की बीमारी का इलाज और सर्जरी

सभी बीमारियों पर पहले दिन से ही बीमा लागू होगा। अस्पताल में भर्ती होने से पहले एवं अस्पताल छोड़ने के बाद इलाज का खर्च भी बीमे में शामिल है। इस योजना के अधीन परिवार के आकार, आयु एवं लिंग की कोई बंदिश नहीं है। परिवार को सिर्फ पहचान पत्र दिखाना होगा। इसमें 1396 बीमारियां व सर्जी कवर हैं।

नवांशहर के सिविल अस्पताल में सिविल सर्जन डाॅ. रजिंदर प्रसाद भाटिया ने हेल्थ कार्ड जारी करके आयुष्मान भारत योजना की शुरूआत की।

बलाचौर में एसडीएम ने लाभार्थियों को कार्ड देकर योजना शुरू की

बलाचौर | स्थानीय सिविल अस्पताल में वीरवार को एसएमओ डाॅ. रविंदर सिंह ठाकुर की अगुवाई में आयुष्मान भारत योजना की शुरूआत की गई। एसडीएम जसबीर सिंह ने लाभार्थियों को कार्ड वितरित किए। डाॅ. ठाकुर ने बताया, इस योजना से पंजाब के 43 लाख परिवार अस्पताल में दाखिल होने की सूरत में 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज करवा सकेंगे। इस स्कीम के कार्ड इमपेनल्ड प्राइवेट व सरकारी अस्पतालों में मुफ्त बनाए जाएंगे, जबकि सीएससी पर 30 रुपए के कार्ड बनाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि एएनएम/आशा वर्करों से कार्ड बनाने के स्थानों की जानकारी हासिल की जा सकती है। इस योजना के लाभार्थी सूची में अपना नाम पता करने के लिए टोल फ्री नंबर 104, सीएससी या इमपेनल्ड प्राइवेट व सरकारी अस्पतालों के आरोग्य मित्र से संपर्क किया जा सकता है। इस मौके पर डाॅ. मनदीप कमल, डाॅ. इंद्रमोहन कटारिया, निर्मल सिंह, नरेश कौर, अनीता मौजूद रहीं।

बलाचौर में लाभार्थियों को कार्ड वितरित करते एसडीएम जसबीर सिंह।

जिले के एक लाख चार हजार परिवार होंगे कवर, इनको मिलेगा लाभ

जिले में इस स्कीम की बात करें तो जिले की कुल 6 लाख 20 हजार आबादी में से करीब पौने पांच लाख इस स्कीम में कवर हो जाएगी। जिले के कुल एक लाख तीन हजार आठ सौ परिवारों को इस योजना के तहत कवर किया जाना है। इनमें नीले कार्ड धारक, मनरेगा कामगार, निर्माण मजदूर, खान मजदूर, लाइसेंसी रेलवे कुली, रेहड़ी दुकानदार, मजदूर, रिक्शा चालक, कचरा बीनने वाले, ऑटो-टैक्सी ड्राइवर्स को शामिल किया गया है। हेल्थ विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक योजना में सोशल इकॉनमी सर्वे के तहत 25 हजार 344 परिवार, एनएफएस एक्ट यानि नीले कार्ड धारकों के 58 हजार 389 परिवार, मंडी बोर्ड के जे-फार्म धारक किसानों के 16 हजार 995 परिवार व अन्य योजनाओं के करीब चार हजार परिवार शामिल हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना